श्रावस्ती: जिलाधिकारी ने रेडक्रास सोसायटी द्वारा वृद्ध एवं दिव्यांगजनों हेतु निःशुल्क सहायक उपकरण एसेसमेंट कैम्प का फीता काटकर किया शुभारम्भ

97

श्रावस्ती। इंडियन रेडक्रॉस सोसायटी के माध्यम से जनपद में दिव्यांगजनों एवं वरिष्ठ नागरिकों हेतु वयोश्री एवं एडिप योजना के अन्तर्गत जिला दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र द्वारा एलिम्को के सहयोग से वृद्धजनों को सहायक उपकरण प्रदान करने हेतु 17 नवम्बर, 2023 से ब्लाकवार कैम्प का आयोजन किया जा रहा है। जिसके तहत शनिवार को विकास खण्ड सिरसिया के अन्तर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिरसिया में कैम्प का आयोजन किया गया, जिसका जिलाधिकारी कृतिका शर्मा ने फीता काटकर शुभारम्भ किया। यह कैम्प पूर्व में निर्धारित तिथियों के अनुसार जिले के अन्य विकास खण्डों में एवं 02 दिसम्बर, 2023 को संयुक्त जिला चिकित्सालय में लगाया जायेगा।
इस अवसर पर अध्यक्ष/जिलाधिकारी ने कहा कि दिव्यांगजनों के जीवन को सरल बनाने के उद्देश्य से जनपद में इस तरह का यह दूसरा कार्यक्रम है, जिसमें जनपद के प्रत्येक दिव्यांग की जरूरत के हिसाब से परीक्षण कर माप लेकर उसे कस्टमाइज कृत्रिम अंग प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। जिससे तहत उन्हें चश्मा, छड़ी, कान की मशीन आदि उपकरणों का वितरण किया जायेगा। जिससे कि उसके दैनिक क्रिया कलापों में सहायता मिल सके, जिससे इनके जीवन यापन को सरल बनाया जा सकेगा। उन्होने जनपद के समस्त दिव्यांगजनों एवं वृद्धजनों से अपील किया है कि कोई भी दिव्यांग इस कैम्प का लाभ ले सकते है। इंडियन रेडक्रास सोसायटी द्वारा सभी दिव्यांगजनों को एलिम्को द्वारा कस्टमाइज कृत्रिम अंग प्रदान किया जायेगा।
उन्होने बताया कि यह कैंप एसएसबी तालबघोड़ा में 20 नवंबर, ब्लाक सभागार भंगहा में 21 नवंबर, इंटर कॉलेज सेमरी चौराहा में 22 नवंबर, पीएचसी हरिहरपुररानी में 23 नवंबर, ब्लाक सभागार मल्हीपुर में 24 नवंबर, पीएचसी जमुनहा में 25 नवंबर, सेठ प्रभुदास निरंजन इंटर कालेज में 26 नवंबर, ब्लाक सभागार गिलौला में 28 नवंबर, सीएचसी सोनवा में 29 नवंबर, ब्लाक सभागार इकौना में 30 नवंबर के साथ ही पीएचसी सेमरी तरहर में 01 दिसंबर व संयुक्त जिला चिकित्सालय में 02 दिसंबर, 2023 को आयोजित होगा।इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0पी0 सिंह, अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिरसिया डा0 प्रवीण कुमार, जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र के संचालक, एलिम्को की टीम सहित भारी संख्या में लाभार्थी वृद्धजन एवं दिव्यांगजन मौजूद रहे।