कौन है रोहित गोदारा, जिसने करणी सेना अध्यक्ष Sukhdev Singh Gogamedi के कत्ल की ली जिम्मेदारी

134

Who is Gangster Rohit Godara Sukhdev Singh Gogamedi Murder take responsibility: जयपुर में राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की उनके घर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। उनकी हत्या की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गे गैंगस्टर रोहित गोदारा ने ली है। जानिए उसके बारे में…
Who is Gangster Rohit Godara Sukhdev Singh Gogamedi Murder take responsibility: राजस्थान के जयपुर से मंगलवार को बड़ी वारदात सामने आई। यहां पर राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की उनके घर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस घटना का सोशल मीडिया पर वीडियो भी सामने आया, जिसमें वह अपने घर के सोफे पर आराम से बैठे थे, इसके बाद तीन हमलावरों ने उन पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। जिसके बाद गंभीर रूप से घायल सुखदेव सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी मौत हो गई। पुलिस ने हमलावरों की पहचान कर ली है, लेकिन वे फरार हैं। करणी सेना के अध्यक्ष की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गे गैंगस्टर रोहित गोदारा ने ली है, जिसके बाद लोगों के मन एक ही सवाल उठ रहा है कि आखिर ये कौन है और उसने सुखदेव सिंह को क्यों मारा।

एक लाख रुपए का इनाम है घोषित गोदारा पर
करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के बाद लॉरेंस बिश्नोई के गुर्गे रोहित गोदारा ने हत्या की जिम्मदारी लेते हुए फेसबुक पर लिखा कि सभी भाइयों को राम राम, मैं रोहित गोदारा कपूरीसर। भाइयों, आज सुखदेव गोगामेड़ी की हत्या कर दी गई। हम इसकी पूरी जिम्मेदारी लेते हैं। यह हत्या हमने कराई है। मैं आपको बताना चाहता हूं कि वह हमारे दुश्मनों के साथ सहयोग करते थे और उन्हें मजबूत करते थे। जहां तक ​​दुश्मनों की बात है तो उन्हें अपने घर के दरवाजे पर अपनी अर्थी तैयार रखनी चाहिए और जल्द ही उनसे मुलाकात भी होगी। गोगामेड़ी की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाला गोदारा गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का गुर्गा है और पुलिस ने उसे वांटेड घोषित कर रखा है। साथ ही उस पर 1 लाख रुपये का इनाम भी रखा।

दो हत्याओं की जिम्मेदारी पहले भी ले चुका है गोदारा

जानकारी के अनुसार, रोहित गोदारा बीकानेर का रहने वाला है। 2022 में फर्जी नाम से पासपोर्ट बनवाकर देश से भाग गया। वह कथित तौर पर 2019 में चूरू में भींवराज सारण की हत्या के मामले में भी मुख्य आरोपी था। गोदारा ने गैंगस्टर राजू ठेठ की हत्या की भी जिम्मेदारी ली थी। 2006 में लोकेंद्र सिंह कालवी द्वारा स्थापित किए जाने के बाद गोगामेड़ी लंबे समय राजपूत करणी सेना से जुड़े रहे, 2008 में इसके विभाजन के बाद जब इसके अध्यक्ष अजीत सिंह मामडोली ने पार्टी छोड़ दी और अपनी राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना समिति का गठन किया, तब गोगामेड़ी को इसका अध्यक्ष बनाया गया। हालांकि, बाद में कालवी और गोगामेड़ी के बीच विवाद हो गया और कालवी को हटा दिया गया। इसके बाद गोगामेड़ी ने राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना का गठन किया।

स्थानीय लोगों ने बताया कि गोगामेड़ी को पहले भी कई बार धमकियां मिल चुकी थीं और उन्होंने पुलिस से शिकायत की थी कि उनकी जान को खतरा है। गोगामेड़ी की पत्नी जब कॉलोनी के मंदिर में पूजा करने जाती थी तो उसके साथ निजी बंदूकधारी भी होते थे।