बस्ती: कोर्ट में केस विचाराधीन होने के बावजूद भूमि का निर्माण करने का आरोप, जमीन पर जबरन निर्माण कराने का आरोप, एसडीएम रूधौली तक पहुंचा मामला

193

ग्राम पंचायत निपनिया खुर्द, थाना रुधौली का मामला 

बस्ती जनपद के रूधौली थाना क्षेत्र के गांव निपनिया खुर्द निवासी एक पीड़ित ने विपक्षी गण पर अपनी भूमि पर जबरदस्ती अवैध निर्माण कराने का आरोप लगाया है। प्रार्थी का आरोप है कि मामला न्यायालय में विचाराधीन होने के बावजूद भी इंद्रदेव पांडे दयाशंकर पांडे विपक्षी द्वारा जबरदस्ती उसकी भूमि से उसका कब्जा समाप्त कराने का प्रयास कर रहा है।

उप जिलाधिकारी के नाम दिए प्रार्थना पत्र में रूधौली थाना क्षेत्र के ग्राम निपनिया खुर्द निवासी पीड़ित ने बताया कि उसकी भूमि पर विपक्षी जबरदस्ती अवैध निर्माण करा रहा है।

आपको बता दें कि मामला न्यायालय में विचाराधीन है। पीड़ित ने प्रशासन से यह निर्माण कार्य तत्काल रुकवाने की अपील की है क्योंकि यदि उसकी भूमि पर निर्माण कार्य हो गया तो उसका दावा करने का औचित्य समाप्त हो जाएगा। मामला कोर्ट में विचाराधीन है बावजूद इसके विपक्षी गण द्वारा विवाद में भूमि पर अपने हिस्से से अधिक भूमि पर निर्माण करने पर आमादा है
लगभग 10 बार 112 पुलिस मौके पर पहुंचकर निर्माण कार्य रुकवाया गया लेकिन विपक्षी निर्माण कार्य करने पर आमादा है। कभी भी मौके पर अप्रिय घटना हो सकती है।

दबंगों के लिए कोर्ट का ऑर्डर नहीं रखता मायने

लवकुश पांडे(मो0 9792162454) का कहना है कि गाटा संख्या की जमीन बैनामशुदा है. दबंग ने मिलकर उनकी जमीन पर जबरन कब्जा जमा लिया है. दबंगों ने उनके हिस्से की जमीन को कब्जा कर लिया है. जबकि जमीन पर विचाराधीन है.

विवादित जमीन पर निर्माण की शिकायत

– कोर्ट में विचाराधी मामले की जमीन पर निर्माण की शिकायत

बिना किसी आदेश के विवादीत भूमी जिस पर माननीय कोर्ट द्वारा विचाराधीन होने पर भी निमार्ण कार्य करते हुए ,यहां तक की जिसकी भूमी है उसके गैरहाजिरी में अवैध काम करने का प्रयास किया जा रहा है।

आपत्ति: कोर्ट में केस विचाराधीन होने के बावजूद भूमि का निर्माण करने का आरोप, केस दर्ज करने की मांग

कोर्ट में विचाराधीन होने के बावजूद विपक्षी के द्वारा पीड़ित की भूमि पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया। मना करने पर पीड़ित ने जानमाल का खतरा बताते हुए उप जिलाधिकारी को मौके पर शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।

पीड़ित का आरोप है कि मामला न्यायालय में विचाराधीन होने के बावजूद भी दबंग जबरदस्ती उसकी भूमि से उसका कब्जा समाप्त कराने का प्रयास कर रहा है।