UP: चुनावी रैली में मोदी सरकार पर जमकर बरसीं मायावती, बोलीं- इस बार केंद्र में नहीं आने वाली BJP

142

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने रविवार को गाजियाबाद (Ghaziabad) में एक रैली को संबोधित किया। इस दौरान बसपा सुप्रीमो ने कहा कि जुमलेबाजी अब काम नहीं आने वाली है। जनता अच्छे दिन आने के सपनों की असलियत जान चुकी है। भाजपा इस बार केंद्र में वापस नहीं आने वाली है, अगर चुनाव में गड़बड़ी नहीं हुई। साफ-सुथरे ढंग से निष्पक्ष चुनाव हुआ तो बीजेपी दोबारा आने वाली नहीं है। राशन से लोगों का भला होने वाला नहीं है, काम देने से ही जीवन स्तर में सुधार होगा।

बसपा ने किया क्षत्रिय समाज का सम्मान

उन्होंने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में क्षत्रिय समाज के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं, लेकिन दुख की बात है कि भाजपा व अन्य दल जो अपने आप को क्षत्रियों का हिमायती कहते हैं, इस बार लोकसभा चुनाव में खासकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में क्षत्रिय समाज के लोगों को किसी भी पार्टी टिकट नहीं दिया। भाजपा ने उनकी उपेक्षा की है, लेकिन बसपा एक ऐसी पार्टी है, जिसने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अन्य समाज के साथ क्षत्रिय समाज का भी आदर और सम्मान किया है।

उन्होंने कहा कि टिकट बंटवारे में भी उन्हें उचित भागीदारी दी है। कई टिकट क्षत्रिय समाज को दिए हैं, गाजियाबाद इसका जीता जागता उदाहरण है। यहां समाज के नंदकिशोर पुंडीर को टिकट दिया गया है। पंजाबी समाज से जितेंद्र कालरा को लखीमपुर खीरी से टिकट दिया है। गुर्जर समाज से बागपत में टिकट दिया है।

बीजेपी सरकार ने नहीं दिया किसानों पर ध्यान

मायावती ने कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार ने पूर्व में केंद्र में सत्ता में रही कांग्रेस सरकार की तरह किसानों पर ध्यान नहीं दिया। भाजपा की जातिवादी, सांप्रदायिक और पूंजीवादी सोच और नीतियां किसानों का उत्थान नहीं कर पाई हैं। गरीब, आदिवासी, दलित, मुस्लिम और समाज के अन्य अल्पसंख्यक समुदाय के स्तर को सुधारने और उनके कल्याण को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाए। बेरोजगारों को रोजगार देने और शिक्षा नीति में सुधार को लेकर कोई काम नहीं हुआ। भाजपा ने कांग्रेस से भी आगे जाकर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग किया है।

Also Read: UP: हाईकोर्ट से स्वामी प्रसाद मौर्य को नहीं मिली राहत, गैर जमानती वारंट निरस्त करने की मांग खारिज

उन्होंने कहा कि विरोधी पार्टियां किस्म-किस्म के हथकंडे अपना रही हैं। हवाई घोषणा पत्रों के प्रलोभन में नहीं आना है। बसपा की चार सरकारों के काम की अन्य पार्टियां नकल कर रही हैं। केंद्र में आने पर उत्तर प्रदेश में रही बसपा सरकारों की तरह ठोस काम किया जाएगा। धर्म के आधार पर राजनीति कर रही पार्टियों को जनता इस बार सबक सिखाएगी। कथनी और करनी में अंतर रखने वाली सरकार को केंद्र में आने से रोकना है। इसके लिए भाजपा, कांग्रेस व अन्य को वोट न देकर बसपा को वोट करना है।

उन्होंने कहा कि बसपा की सरकार बनने पर सभी वर्गों का विकास किया जाएगा। सर्वजन के साथ आदिवासी, मुस्लिम, दलित एवं अन्य धार्मिक व अल्पसंख्यक लोगों के उत्थान के साथ-साथ जरूरी कदम उठाए जाएंगे। देश के महापुरुषों और महात्माओं का सम्मान जारी रहेगा।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )