UP: मुस्लिम बाहुल्य गांव में हिंदुओं का हुक्का-पानी बंद, मस्जिद से ऐलान- इनकी दुकान से न खरीदें सामान, अपने नलकूपों से न दें पानी

309

उत्तर प्रदेश के कौशांबी (Kaushambi) जनपद के मुस्लिम बाहुल्य गांव में हिंदुओं का हुक्का पानी बंद करने का मामला सामने आया है। हिंदू पक्ष ने आरोप लगाया है कि मुस्लिम परिवार के लोगों को मस्जिद से ऐलान कर हिंदुओं की दुकान से खरीदारी नहीं करने की हिदायत दी गई। यही नहीं, अपने निजी नलकूपों से पानी और निजी संसाधनों का उपयोग न करने देने की भी बात कही गई। ऐसा करने वाले शख्स पर मुस्लिम पक्ष जुर्माना लगाएगा। वहीं, मस्जिद से जारी इस फतवे के बाद हिंदू परिवार में डर का माहौल है।

मुस्लिम पक्ष ने स्वीकारी निजी वस्तुओं को न बांटने की बात

उधर, मुस्लिम पक्ष ने आरोप को खारिज करते हुए अपनी निजी इस्तेमाल की वस्तुओं को किसी से न बांटने की बात कबूल की है। इस मामले में एसडीएम आकाश सिंह ने बताया कि गांव में सर्किल अधिकारी को भेजकर लोगों को भयमुक्त किया गया, जो लोग भी इस तरह की हरकत में शामिल हैं, उन पर अधिकतम मुचलके पर पाबंदी की कार्रवाई की जा रही है।

Also Read: लखनऊ: साइबर अपराधियों के निशाने पर 2 IAS अफसर, फर्जी आईडी बनाकर सगे-संबंधियों से मांगे पैसे, FIR दर्ज

ये है विवाद की वजह

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के जफरपुर महावा गांव में आधी आबादी मुस्लिम और आधी हिंदू परिवार की है। बीते 10 दिनों से गांव में हिंदू व मुस्लिम पक्ष के लोगों में तनाव की स्थिति बनी हुई है। इसकी वजह है मंदिर के बगल में मुस्लिम परिवार अपने घर का दरवाजा निकालना चाह रहा था, लेकिन हिंदू परिवार के लोगों ने विरोध कर इस पर रोक लगाई। इसकी वजह से मुस्लिम समाज के लोग एकजुट हो गए।

इसके बाद मस्जिद में बैठकर ऐलान किया गया कि कोई मुस्लिम परिवार अपने घर और निजी संसाधनों से हिंदू परिवार को पानी नहीं देगा। हिंदू परिवार के लोगों की दुकान से सामान की खरीदारी नहीं करेगा। निजी नलकूप से खेत को पानी दिए जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया।

मुस्लिम परिवार को राजस्व टीम ने भी रोका

वहीं, इस मामले में छोटे लाल गुप्ता ने बताया कि मंदिर के बगल में मुस्लिम युवक का घर है। वह मंदिर की ओर दरवाजा कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें इस बात की चिंता सता रही है कि मुस्लिम परिवार के घर होने वाले फंक्शन में मीट यूज किया जाता है। इससे मंदिर के पास गंदगी फैलेगी। यही वजह है कि मुस्लिम परिवार को मंदिर की ओर दरवाजा करने से रोका गया। छोटे लाल के मुताबिक, राजस्व टीम ने भी मुस्लिम परिवार को घर का दरवाजा मंदिर की ओर करने से रोका।

Also Read: लखनऊ: करीबी ही निकले रिटायर्ड IAS की पत्नी के हत्यारे, इसलिए दिया वारदात को अंजाम

इससे नाराज होकर मुस्लिम समाज के लोगों ने हिन्दू परिवार से रंजिश के कारण मस्जिद में बैठक कर फतवा जारी किया। फतवे के मुताबिक गांव का मुस्लिम समाज का कोई भी व्यक्ति हिन्दू परिवार की दुकान से कोई समान नहीं खरीदेगा और न ही कोई मुस्लिम व्यक्ति अपने निजी संसाधनों से हिन्दू पक्ष को खेत के लिए पानी देगा।

पांच-पांच लाख के निजी मुचलके पर किया पाबंद

एसडीएम आकाश सिंह के अनुसार, गांव में विवाद की स्थिति का पता चलते पर तत्काल थाना प्रभारी और सर्किल अफसर अभिषेक सिंह को मौके पर भेजा गया। विवाद का कारण बन रहे लोगों को समझाया गया है। गांव में किसी भी व्यक्ति को सार्वजनिक उपक्रम से सामान के लेने और खरीद करने में प्रतिबंधित नहीं करने की हिदायत दी गई है। गांव के लोगों को विवाद की स्थिति से पहले 5-5 लाख रुपए के निजी मुचलके पर पाबंद किया गया।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )