बस्ती: CO की प्रेमिका ने कहा- मेरे साथ रिलेशनशिप में रहे हैं, मिलने जयपुर से आई थी, पत्नी-बेटी ने बुरी तरह पीटा

89

उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) जनपद में सीओ सदर विनय सिंह चौहान (CO Vinay Singh Chauhan) की महिला मित्र ने उनकी पत्नी व बेटी पर बंधक बनाकर मारपीट करने का आरोप लगाया है। राजस्थान की महिला हेल्थ अधिकारी ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि सीओ मेरे साथ रिलेशनशिप में रहे हैं। मैं उनसे मिलने जयपुर से बस्ती आई थी। इसी दौरान उनकी पत्नी और बेटी ने मुझे कमरे में बंद करके पीटा। सीओ ने भी अपनी पत्नी और बेटी का पक्ष लिया और 2 महिला सिपाहियों को बुलाकर मुझे अरेस्ट करा दिया।

सीओ से वापस लिए गए सभी चार्ज

यह घटना 26 मई की रात की है। महिला हेल्थ अधिकारी ने 28 मई को राजस्थान में जीरो एफआईआर दर्ज कराई और इसी दिन यह केस बस्ती ट्रांसफर कर दिया गया और यहां एफआईआर दर्ज हुई। 10 दिन की आंतरिक जांच के बाद शनिवार को सीओ से सभी चार्ज वापस ले लिए गए हैं। वहीं, मामले की जांच सिद्धार्थनगर के एसपी को सौंपी गई है।

महिला हेल्थ अधिकारी ने तहरीर में कही ये बातें

पीड़ित ने बताया कि मैं जयपुर में एक विभाग में अधिकारी हूं। मैं शादीशुदा हूं। मेरी बस्ती के सीओ सिटी विनय चौहान से 5 साल से दोस्ती है। वह मेरे साथ रिलेशनशिप में रहे हैं। मैं जानती हूं कि वह भी शादीशुदा हैं। पिछले दिनों उन्होंने मुझे बस्ती में मिलने के लिए बुलाया था। इस पर मैं 26 मई को कार से जयपुर से बस्ती पहुंची। फिर उसी रात सीओ से मिलने उनके सरकारी आवास गई। इस दौरान उनके परिवार के लोग भी आ गए। सीओ सिटी की पत्नी-बेटी मुझे पीटने लगी।

Also Read: कानपुर में पुलिस कमिश्नर की बड़ी कार्रवाई, 8 दारोगा और 3 सिपाहियों को किया निलंबित

उन्होंने बताया कि मैं उन्हें समझाने की कोशिश करती रही, लेकिन उन्होंने एक नहीं सुनी। वो लोग मुझे थप्पड़, लात और जूतों से पीटते रहे। उनकी पत्नी मुझे घसीटकर एक कमरे में ले गई। उन्होंने मेरा मुंह जूते से बुरी तरह दबा दिया। इस दौरान मेरे शरीर पर कई जगह चोट के निशान आए। मेरी आंख के नीचे का हिस्सा नीला पड़ गया। इसके बाद मुझे काफी देर तक कमरे में बंद रखा गया। सीओ विनय चौहान भी अपने परिवार का साथ दे रहे थे। यही नहीं, रात 2 बजे उन्होंने मुझे 2 कॉन्स्टेबल बुलाकर गिरफ्तार करवा दिया।

सीओ बोले- अपने परिवार का दूंगा साथ

महिला अधिकारी ने कहा कि मैं उन्हें अपने रिलेशन की दुहाई देती रही, लेकिन सीओ ने कहा कि तुम मर जाओ, मैं अपने परिवार का साथ दूंगा। वे मुझे पहले कई बार शादी करने की बात कह चुके हैं। कहते थे कि मैं तुमसे बहुत जल्द शादी कर लूंगा। अब जब परिवार तक ये बात आ गई, तो मेरे साथ धोखा कर रहे हैं।

Also Read: मुरादाबाद: शराब पकड़ने गई पुलिस टीम को बंधक बना पीटा, जान बचाकर भागीं महिला पुलिसकर्मी, 2 सिपाही घायल

वहीं, आईजी रामकृष्ण भारद्वाज ने इस केस की जांच सिद्धार्थनगर की एसपी प्राची को सौंपी है। पुलिस अधीक्षक गोपाल कृष्ण चौधरी ने कहा कि दोनों परिवार के बीच का व्यक्तिगत मामला है। केस दर्ज होने के बाद सीओ विनय चौहान के ट्रांसफर के लिए डीजीपी मुख्यालय को पत्र लिखा गया है। साथ ही उनको सर्किल से हटा कर सारे चार्ज ले लिए गए हैं।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.)