प्रदेश के मुख्यमंत्री जी द्वारा कन्या सुमंगला योजना के लाभार्थियों से किया गया वर्चुअल संवाद

83

विधायक, जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी ने 15 बालिकाओं को प्रदान किया बेबी

श्रावस्ती। प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा लोकभवन, लखनऊ से वर्चुअल माध्यम से मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत लाभार्थियों से वर्चुअल संवाद कार्यक्रम किया गया। जिसका सजीव प्रसारण कार्यक्रम जनपद के कलेक्ट्रेट स्थित एन0आई0सी0 सभागार में किया गया। कार्यक्रम में मा0 विधायक रामफेरन पाण्डेय, जिलाधिकारी कृतिका शर्मा एवं मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह की उपस्थिति में मा0 मुख्यमंत्री जी के वर्चुअल संवाद को देखा व सुना गया। इस दौरान मा0 विधायक, जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी ने 15 बालिकाओं को बेबी किट का भी वितरण किया।
मा0 विधायक ने कहा कि प्रदेश सरकार की मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना बेटियों को सशक्त बनाने के लिए प्रदेश सरकार का एक महत्वपूर्ण कदम है। जो सभी गरीब वर्गों की बेटियों के लिए वरदान साबित हो रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार का ध्येय है कि गरीब लोग अपनी बेटियों को बोझ न समझें। बालिकाएं हर क्षेत्र में निरंतर आगे बढ़ रही हैं तथा देश के उत्थान में बेटियां महत्वपूर्ण इकाई है, इसलिए उन्हें अच्छी शिक्षा देकर आगे बढ़ायें। नारी सशक्तीकरण होने से समाज में परिवर्तन लाने की नई दिशा मिल सकेगी।
जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना बेटियों के लिए वरदान है। इस योजना के तहत अब बेटी के जन्म से लेकर स्नातक की पढ़ाई तक सरकार द्वारा 06 चरणों में धनराशि दी जाती है। उन्होने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या को समाप्त करना, समान लैंगिक अनुपात स्थापित करना, बाल विवाह की कुप्रथा को रोकना, बालिकाओं के स्वास्थ्य एवं शिक्षा को प्रोत्साहित करना, बालिकाओं को स्वावलम्बी बनाने में सहायता करना, बालिका के जन्म के प्रति समाज में सकारात्मक सोच विकसित करने के लिये प्रोत्साहित करने में यह योजना अत्यन्त कारगर साबित होगी। उन्होने बताया कि इस योजना का लाभ लेने के लिए परिवार में 02 बच्चे होने चाहिए। जिसमें 01 बालक, 01 बालिका अथवा दोनों बालिकाएं हो सकती है, उनके जन्म से लेकर स्नातक की पढ़ाई तक लाभ दिया जाता है। इस योजना के आवेदन हेतु mksy.up.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना से बालिकाओं के स्वास्थ्य, शिक्षा में अपेक्षित बढोत्तरी हो रही है। प्रदेश में बालिकाओं के शिक्षा, स्वास्थ्य व लिंगानुपात की समस्या को सुधारने के लिए मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना संचालित की जा रही है, जिससे बालिकाओं के प्रति आम जन मानस में सकारात्मक सोच का निर्माण करना इस योजना का प्रमुख लक्ष्य है, ताकि लोग कन्या जन्म को बोझ न समझे।
इस अवसर पर जिला प्रोबेशन अधिकारी सुबोध कुमार सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 दास, ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि गिलौला प्रकाश चन्द्र, आशुतोष पाण्डेय, सदभावना समिति के अध्यक्ष योगेन्द्रमणि त्रिपाठी एवं विनय कुमार तिवारी सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे।