INDIA नाम पर दावा कर सकता है पाकिस्तान

173

अगर मोदी सरकार संयुक्त राष्ट्र में INDIA नाम की आधिकारिक तौर पर इसकी मान्यता रद्द कर देती है तो पाकिस्तान INDIA नाम पर दावा कर सकता है..

यह चर्चा शुरू होने के बाद कि केंद्र सरकार इंडिया नाम की जगह ‘भारत’ नाम का इस्तेमाल करेगी, जिसके बाद देशभर से प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

चर्चा शुरू हो गई है कि केंद्र सरकार अब आधिकारिक तौर पर इंडिया नाम हटाकर भारत नाम चुनेगी। अगर ऐसा हुआ तो खबर है कि पाकिस्तान INDIA नाम पर अपना दावा ठोक देगा, ‘साउथ एशिया इंडेक्स’ ने इस बारे में ट्वीट किया है। (Pakistan may lay claim on name India if Modi govt derecognises it officially at UN)

केंद्र सरकार द्वारा देश का नाम बदलने के बाद अब संयुक्त राष्ट्र में देश का नाम इंडिया की जगह भारत करना होगा। साउथ एशिया इंडेक्स के मुताबिक, अगर ऐसा हुआ तो पाकिस्तान INDIA के नाम पर दावा करेगा और उसने इसके लिए तैयारी भी कर ली है।

पाकिस्तान में कुछ राष्ट्रवादी तत्वों ने पहले भी दावा किया था कि इंडिया नाम सिंधु क्षेत्र से आया है। सिंधु नाम सिंधु नदी की घाटी से निकला है। भारतीय संविधान में इंडिया दैट इज़ भारत.. राज्यों का संघ होगा, इसका उल्लेख किया गया है, इसका मतलब यह है कि इंडिया और भारत दोनों नाम आधिकारिक हैं।

इसलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की यह पुरानी मांग है कि इंडिया की जगह भारत का जिक्र किया जाए। कुछ दिन पहले सरसंघचालक ने यह स्थिति दोहराई थी।


India Vs Bharat: भारत में होने वाले जी 20 डिनर इन्विटेशन कार्ड पर इंडिया की जगह भारत लिखे जाने पर विवाद खड़ा हो गया. इसके बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया के बजाय प्रेसिडेंट ऑफ भारत कह कर पुकारा गया. इसके बाद ये अटकलें तेज हो गई है कि शायद पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार इंडिया का नाम बदलना चाहती है और उसके बदले भारत रखना चाहती है.

हाल ही में पाकिस्तान की स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अगर इंडिया नाम की मान्यता आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र में रद्द कर दी जाती है तो पाकिस्तान इंडिया के नाम पर अपना दावा पेश कर सकती है. आपको बता दें कि पाकिस्तान काफी लंबे समय से ये दलील देता आया है कि इंडिया नाम सिंधु क्षेत्र को दर्शाता है. इसके बाद शायद पाकिस्तान की नजरें इंडिया नाम पर हो सकती है.

वहीं South Asia Index report की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने अपने एक्स (पूर्व में ट्विटर) हैंडल से किए गए एक ट्वीट में कहा है कि अगर भारत संयुक्त राष्ट्र स्तर पर आधिकारिक तौर पर इसकी मान्यता रद्द कर देता है तो पाकिस्तान भारत नाम पर दावा कर सकता है.

मोहम्मद अली जिन्ना इंडिया नाम जताई थी आपत्ति

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना ने इंडिया नाम का विरोध किया था. उन्होंने ब्रिटिश भारत की ओर से नए स्वतंत्र देश के नाम के रूप में इंडिया नाम के अपनाने पर आपत्ति जताई थी. उन्होंने इसके जगह पर हिंदुस्तान या भारत का सुझाव दिया था.

एक बार साल 1947 में भारत की आजादी के एक महीने बाद मोहम्मद अली जिन्ना एक कला प्रदर्शनी का अध्यक्ष बनने के लिए लुईस माउंटबेटन के तरफ से भेजे गए निमंत्रण को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था.

लुईस माउंटबेटन के तरफ से भेजे गए निमंत्रण पत्र पर हिंदुस्तान के बजाय इंडिया शब्द का इस्तेमाल किया गया था. उस वक्त इस घटना के बाद जिन्ना ने भारत के आखिरी गवर्नर रहे माउंटबेटन को एक पत्र लिखा और कहा कि ये दुख की बात की कुछ अज्ञात कारणों की वजह से भारत ने इंडिया नाम को अपना लिया है.

INDIA vs BHARAT Row Pakistan claim India Name: केंद्र में सत्तासीन नरेन्द्र मोदी सरकार देश का नाम INDIA को हटाकर पूरी तरह भारत करने जा रही है। इस तरह के कयास लगाए जा रहे हैं, क्योंकि दिल्ली में होने वाले जी-20 सम्मेलन में शामिल वर्ल्ड लीडर्स के लिए राष्ट्रपति भवन में आगामी रविवार को आयोजित डिनर के लिए भेजे निमंत्रण पत्र में ‘प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया’ की जगह ‘प्रेसिडेंट ऑफ भारत’ वाक्य का इस्तेमाल किया गया है।

इसको लेकर कांग्रेस समेत करीब-करीब सभी विपक्षी दलों ने आपत्ति जताई है। उधर, पाकिस्तान की स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि पाकिस्तान ‘INDIA’ नाम पर अपना दावा कर सकता है। तर्क दिया जा रहा है कि अंग्रेजों ने INDIA नाम अविभाजित ‘भारत’ को दिया था। अगर भारत ‘INDIA’ यह नाम नहीं लेता है स्वाभाविक तौर पर पाकिस्तान INDIA नाम पर अपना दावा करेगा।

साउथ एशिया इंडेक्स के एक्स हैंडल से किए गए एक ट्वीट में कहा गया है- ‘अगर भारत संयुक्त राष्ट्र स्तर पर आधिकारिक तौर पर INDIA नाम की मान्यता रद्द कर देता है तो पाकिस्तान “INDIA” नाम पर दावा कर सकता है। पाकिस्तान में राष्ट्रवादी लंबे समय से तर्क देते रहे हैं कि INDIA नाम पर पाकिस्तान का अधिकार है, क्योंकि यह सिंधु क्षेत्र को संदर्भित करता है।

पाक ने कहा- दक्षिण पंथियों को INDIA से नफरत

साउथ एशिया इंडेक्स के इसे ट्वीट में आगे दावा किया है कि भारतीय दक्षिणपंथियों को लंबे समय से ‘INDIA’ नाम से नफरत है। इस बीच, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने दावा किया कि देश का मूल नाम निर्विवाद रूप से भारत था और अंग्रेजों ने ही इसे इंडिया कहना शुरू किया था।

यहां पर बता दें कि यह सही है कि INDIA नाम अंग्रेजी शासन में दिया गया था, जिसका भारत करीब 200 वर्ष तक गुलाम रहा था। लंबी लड़ाई के बाद 15 अगस्त 1947 में भारत आजाद हुआ, लेकिन बंटवारे के तहत एक दिन पाकिस्तान को अलग देश बना दिया। इसे भारत को बांटकर बनाया गया।

विपक्ष हुआ हमलावर

गौरतलब है कि संविधान में INDIA और भारत दोनों तरह के शब्दों का इस्तेमाल करने की इजाजत मिली हुई है। यह बात कुछ वर्ष पहले सुप्रीम कोर्ट भी कह चुका है। बताया जा रहा है कि केंद्र में सत्तासीन एनडीए सरकार अब INDIA शब्द को हटाकर सिर्फ भारत करने जा रही है। इसको लेकर जहां विपक्ष हमलावर है तो वहीं पड़ोसी देश पाकिस्तान से भी प्रतिक्रिया मिल रही है। वह भी नाम को लेकर आलोचना कर रहा है, लेकिन अपने हित में


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

India | BJP | Congress | Bharat | INDIA vs BHARAT Row