मुस्लिम युवक के माथे पर दाग दिया ‘जय भोलेनाथ’:लोग बोले अगर यही सनातन धर्म की पहचान है तो इसे तत्काल दफना देना ही उचित होगा, जानिए सच्चाई

298

पिछले दिनों उत्तर-प्रदेश के बरेली शहर से खबर आई कि एक मानसिक रूप से कमजोर युवक के माथे पर किसी ने जय भोलेनाथ गोद दिया है। घटना से जुड़ा वीडियो तेजी से वायरल हुआ जिसमें युवक के माथे पर किसी नुकीली वस्तु से कुछ गुदा हुआ भी दिखाई दे रहा है। पीड़ित युवक का वीडियो सामने आने के बाद दावा किया गया कि मानसिक रूप से कमजोर इस युवक के माथे पर किसी हिंदू ने ‘जय भोलेनाथ’ गोद दिया है।

सोशल मीडिया पर वायरल एक तस्वीर को वायरल कर दावा किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के बरेली में मानसिक रूप से कमजोर युवा दानिश के माथे पर गर्म लोहे से ‘जय भोलेनाथ’ लिख दिया गया। वायरल तस्वीर को सनातन धर्म पर निशाना साधते हुए शेयर किया जा रहा है, जिससे यह प्रतीत हो रहा है कि इस घटना के आरोपी हिंदू समुदाय से हैं।

एम एन टी न्यूज़ ने अपनी जांच में इस दावे को गलत पाया, जिसे सांप्रदायिक रूप से भड़काऊ दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। संबंधित घटना में आरोपी और पीड़ित दोनों ही मुस्लिम समुदाय के हैं और पुलिस ने इस मामले में आरोपी को हिरासत में लिया था, हालांकि बाद में दोनों पक्ष में समझौता होने के बाद आरोपी को छोड़ दिया गया।

फेसबुक यूजर मयंक राज ने 4 सितंबर को एक वीडियो को पोस्‍ट करते हुए दावा किया, “अगर यही सनातन धर्म की पहचान है तो इसे तत्काल दफना देना ही उचित होगा मनुष्यता के जीवनोत्थान हेतु। युवक के माथे पर दाग दिया जय भोलेनाथ! यूपी के बरेली में मानसिक रूप से कमजोर दानिश के माथे पर औजार गर्म करके जय भोलेनाथ लिखने का आरोप, परिजनों का हंगामा।”

वायरल पोस्‍ट के कंटेंट को यहां ज्‍यों का त्‍यों ही लिखा गया है। इसे सच मानकर दूसरे यूजर्स भी वायरल कर रहे हैं। पोस्‍ट का आर्काइव वर्जन यहां देखें।

एम एन टी यूज ने पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए दैनिक जागरण, बरेली के ईपेपर को स्‍कैन करना शुरू किया। हमें 4 सितंबर की तारीख को एक खबर प्रकाशित मिली। इसमें घटना के बारे में लिखते हुए बताया गया कि एक शख्‍स ने अपने ममेरे भाई के माथे पर जय भोलेनाथ लिख दिया। मानसिक रूप से कमजोर युवक उस वक्‍त विरोध नहीं कर सका । मामला पुलिस तक भी पहुंचा, लेकिन रिश्‍तेदार होने के कारण पीड़ित का परिवार कार्रवाई से मुकर गया। पूरी खबर नीचे पढ़ें।

जांच के अगले चरण में बरेली पुलिस के एक्‍स हैंडल को स्‍कैन किया गया। एक यूजर्स को जवाब देते हुए बरेली पुलिस ने लिखा, “प्रकरण में जांच से पाया गया है कि शादाब खान नाम के व्यक्ति ने अपने ममेरे भाई के माथे पर लगभग 05 दिन पहले मार्कर पेन से एक धार्मिक वाक्य लिख दिया था, जो अब हल्का पड़ गया है। पीड़ित की मां ने इस संबंध में कोई भी कार्यवाही करने से इन्कार कर शिकायती प्रार्थना पत्र नहीं दिया है।”

निष्‍कर्ष : एम एन टी न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। बरेली में युवक के माथे पर जय भोलेनाथ लिखने वाला शख्‍स हिंदू नहीं, बल्कि पीडि़त के ही समुदाय का था। कुछ लोग घटना के वीडियो को सांप्रदायिक दावे के साथ वायरल कर रहे हैं।

देखते ही देखते यह अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल होती गई। इसी क्रम में आप नेता राम गुप्ता का एक ट्वीट भी सामने आया। जिसमें घटना से जुड़ा वीडियो शेयर करते हुए राम गुप्ता लिखते हैं, अगर यही सनातन धर्म की पहचान है तो इसे तत्काल दफना देना ही उचित होगा मनुष्यता के जीवनोत्थान हेतु। (अर्काइव ट्वीट)

देखें ट्वीट :

राम गुप्ता खुद को आम आदमी पार्टी का फाउंडर मेंबर बताते हैं और ट्विटर पर इनके 7,307 फॉलोवर्स भी हैं। देखें स्क्रीन शॉट।

राम को आम आदमी पार्टी की चीफ नेशनल स्पोक्सपर्सन प्रियंका कक्कड़ समेत आप पार्टी के ही नेशनल जॉइंट सेक्रेटरी पंकज सिंह भी फॉलो करते हैं। देखें स्क्रीन शॉट।

इस पूरे मामले से जुड़ी खबर दैनिक भास्कर ने 3 दिन पहले अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित की थी। इस खबर में स्पष्ट रूप से बताया गया था कि युवक के माथे पर जय भोलेनाथ मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति ने ही लिखा था। खबर के अनुसार, बरेली के प्रेमनगर थाना क्षेत्र के शाहबाद मोहल्ले में मोहम्मद शादाब बिजली विभाग में संविदा पर कर्मचारी है। शादाब के मकान में एक मुस्लिम परिवार किराए पर रहता है। जहां किराएदार परिवार का बेटा मानसिक रूप से कमजोर है। आरोप है कि मकान मालिक व विद्युत कर्मचारी शादाब ने मानसिक रूप से कमजोर युवक दानिश के माथे पर किसी नुकीले औजार से हिंदू समुदाय का नारा जय भोलनाथ गोद दिया था। (पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें)

दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट।
दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट।

वहीं, पड़ताल के दौरान हमें उत्तरप्रदेश पुलिस का एक ट्वीट भी मिला जिसमें बताया गया था कि शादाब खान नाम के व्यक्ति ने अपने ममेरे भाई के माथे पर लगभग 05 दिन पहले मार्कर पेन से धार्मिक वाक्य लिखा था।

देखें ट्वीट –

स्पष्ट है कि मुस्लिम युवक के माथे पर हिंदू द्वारा ‘जय भोलेनाथ’ लिखने का दावा पूरी तरह से गलत है और भ्रामक है।


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

विज्ञापन बॉक्स