एनडीआरएफ ने आपदा से बचाव के तरीके बताए: बलरामपुर में टीम ने जागरूकता अभियान चलाया, 16 सितंबर तक संवेदनशील गांवों का होगा दौरा

71

एनडीआरएफ 11 वाहिनी के उपमहानिरीक्षक मनोज कुमार शर्मा के दिशा-निर्देशन में एनडीआरएफ टीम बलरामपुर जिले के सदर क्षेत्र का दौरा कर जिलाधिकारी अरविन्द सिंह और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण गृह मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली के निर्देशन में टीम ने जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ मिलकर जन जागरण अभियान चलाया।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल

एनडीआरएफ टीम ने तहसील सदर अन्तर्गत ग्राम टेंगनहिया मानकोट गांव के समीप कम्युनिटी अवेयरनेस प्रोग्राम चलाया, जिसमें भूकंप, बाढ़ में बचाव के तरीके, आकाशीय बिजली से बचाव, गले में फंसी बाहरी वस्तु को निकालने के तरीके बताए और रक्तस्राव प्रबंधन, उपलब्ध संसाधनों से स्ट्रेचर बनाना और उपलब्ध संसाधनों से फ्लोटिंग डिवाइस (राफ्ट) बनाने का आयोजन किया।

11वीं वाहिनी एनडीआरएफ

पौधारोपण के महत्व को बताया

टीम ने गांव के लोगों को पर्यावरण के संतुलन को बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण के महत्त्व के बारे में जागरूक किया और इस अभियान को अपने जीवन में शामिल करने के लिए प्रेरित किया। टीम की अगुआई उप-निरीक्षक जयप्रकाश और उनके सहायक टीम के सदस्यों ने प्रशिक्षण प्रदान किया। एनडीआरएफ की टीम 16 सितंबर तक जिले में रह कर विभिन्न संवेदनशील गांवों का दौरा कर जायजा लेगी और लोगों को आपदा से बचने के तरीके बताएगी।


NDRF Units | NDRF – National Disaster Response Force

एन डी आर एफ वाराणसी की 11 वाहिनी के उपमहानिरीक्षक मनोज कुमार शर्मा के दिशा-निर्देशन में NDRF टीम बलरामपुर जिले के सदर क्षेत्र का दौरा कर रही है। इस दौरान, टीम ने जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ मिलकर आपदा जोखिम को कम करने के लिए विभिन्न संसाधनों और हितकार्यों को सशक्त बनाने के लिए लोगों को जागरूक किया है। सदर उप-जिलाधिकारी श्री राजेंद्र बहादुर से मार्गदर्शन प्राप्त करके बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया और प्रशिक्षित और अनुभवी टीमों द्वारा तेंगानहिया मानकोट गाँव से समीप कम्युनिटी अवेयरनेस प्रोग्राम चलाया, जिसमें भूकंप, बाढ़ में बचाव के तरीके, आकाशीय बिजली से बचाव, गले में फँसी बाहरी बस्तु को निकालने के तरीके, रक्तस्राव प्रबंधन, उपलब्ध संसाधनों से स्ट्रेचर बनाना, और उपलब्ध संसाधनों से फ्लोटिंग डिवाइस (राफ्ट) बनाने का आयोजन किया। गाँव के लोगों को पर्यावरण के संतुलन को बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण के महत्त्व के बारे में जागरूक किया और इस अभियान को अपने जीवन में शामिल करने के लिए प्रेरित किया। टीम की अगुआई उप-निरीक्षक जयप्रकाश और उनके सहायक टीम के सदस्यों ने प्रशिक्षण प्रदान किया।”


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…