श्रावस्ती: जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक सम्पन्न

63

👉 अलीगढ़ भेजे गये हृदय रोगियों के ईलाज में रक्तदान करने वाले चिकित्सकों को किया गया सम्मानित
👉वी0एच0एन0डी0 सत्रों पर शत-प्रतिशत करायी जाए फीडिंग-जिलाधिकारी

रिपोर्ट । प्रवीण कुमार मिश्रा
श्रावस्ती। जिलाधिकारी कृतिका शर्मा की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक शुक्रवार को सायंकाल कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर अन्य जनपदों की तुलना में अधिक है, जो चिंता का विषय है। इसलिए मातृ एवं शिशु मृत्यु दर पर रोकथाम के लिए कारगर कदम उठाए जाएं, ताकि स्वास्थ्य के देखभाल के अभाव में जिले में किसी भी गर्भवती/धात्री महिला एंव नवजात शिशुओं की मौत न होने पाए। ए0एन0एम0 और आशा गांव में स्वास्थ्य कार्यक्रमों के संचालन की मुख्य धुरी है, इसलिए सभी प्रभारी चिकित्साधिकारी ए0एन0एम0 और आशा वार किये गये कार्यो की समीक्षा भी करें। उन्होने यह भी निर्देश दिया कि आर0सी0एच0 पोर्टल पर गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं का पंजीकरण/अपडेशन शत-प्रतिशत किया जाए।जिलाधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के मुखिया से लेकर उनके अधीनस्थ प्रभारी चिकित्साधिकारियों के साथ ही स्वास्थ्य पर्यवेक्षक, ए0एन0एम0, आशा बहू, आशा संगिनियों को अब विशेष ध्यान रखकर दायित्व बोध के साथ काम करना होगा। इसके लिए उन्होने जिले की हर गर्भवती महिलाओं से लेकर नवजात शिशुओं को सूचीबद्ध किया जाए तथा समय से टीकाकरण के साथ-साथ स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उन्हें समय से इलाज मुहैया कराकर स्वस्थ्य बनाया जाए, ताकि जिले की मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके। उन्होने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र/प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रवार मातृ एंव शिशु मृत्यु दर की समीक्षा की और मृत्यु के कारणों का विश्लेषण करते हुए सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होने यह भी निर्देश दिया कि यदि भविष्य में कोई भी मातृ एव शिशु की प्रसव से पूर्व प्रसव के दौरान या प्रसव केे पश्चात मृत्यु होती है तो सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारियों को मृत्यु का कारण जच्चा-बच्चा की प्रसव पूर्व की गई देख भाल एवं टीकाकरण/पोषण सम्बन्धी दी गई सुविधाओं के विषय में स्थिति स्पष्ट करनी होंगी।समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि ए0एन0एम0 और आशाओं के माध्यम से परिवार नियोजन के बारे में जानकारी दी जाए। उन्होने कहा कि जनसंख्या वृद्धि रोकने के लिए सरकार की ओर से परिवार नियोजन के लिए अस्पताल के माध्यम से कई सुविधाएं जरूरत मन्दो को निशुल्क दी जा रही है। इसके साथ ही उन्हें प्रोत्साहन स्वरूप महिला नसबंदी के लिए दो हजार रूपये, पुरुष नसबंदी के लिए तीन हजार रूपये, प्रसव के बाद कापर टी लगवाने पर नगद धनराशि दी जा रही है। जिले के सभी अस्पतालों में पुरूष महिला नसबन्दी, महिलाओं को प्रसव के बाद कापर टी, अंतरा इंजेक्शन, छाया टेबलेट, ओरल पिल्स, माला एन एवं निरोध भी मुफ्त दिया जा रहा है। इसे जरूरतमन्द अपनाकर अपना एवं अपने परिवार का जीवन खुशहाल बना सकते है।जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय क्षयरोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत कुल बाह्य रोगियों का पांच प्रतिशत मरीजों की स्पुटम जांच के लिए निर्देशित किया। आर0के0एस0के0 विप्स काय्रक्रम कन्सलटेन्ट को निर्देशित किया गया कि इकौना से अप्राप्त रिपोर्ट तत्काल भरवाना सुनिश्चित करें। आर0बी0एस0के0 कार्यक्रम के तहत कन्सल्टेन्ट को निर्देश दिया कि आंगनवाड़ी स्वास्थ्य परीक्षण पूर्व सूचना अवश्य दें, जिससे अधिक से अधिक संख्या में बच्चे उपलब्ध हो सके और उनकी स्क्रीनिंग हो सके। उन्होने यह भी निर्देश दिया कि जनपद के समस्त अधीक्षक अपने अधीन कार्यरत चिकित्साधिकारियों की आई0डी0 बनवाना सुनिश्चित करें और टेलीकन्सल्टेशन करना सुनिश्चित किया जाए।जिलाधिकारी ने समस्त फार्माशिष्टों को निर्देशित किया कि साप्ताहिक बैठक में ए0एन0एम0 को औषधि एवं लाजिस्टिक वितरण कराना सुनिश्चित किया जाए। उन्होने यह भी निर्देशित किया है कि संयुक्त जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एवं सभी सामुदायिक/प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के अधीक्षक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत रोगी कल्याण समिति की बैठक कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (गोल्डेन कार्ड) की समीक्षा के दौरान निर्देशित किया कि अभियान चलाकर लक्ष्यों की पूर्ति कराते हुए अधिक से अधिक परिवारों को गोल्डेन कार्ड बनवाया जाय।इस दौरान जिलाधिकारी ने ’राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन’ के अन्तर्गत राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत जनपद के चिन्हित हृदय रोग से ग्रसित बच्चों के निःशुल्क उपचार हेतु संदर्भन केन्द्र जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज, अलीगढ़ भेजे गये हृदय रोगियों को ईलाज के दौरान ब्लड की आवश्यकता पड़ने पर रक्तदान करने वाले चिकित्सकों क्रमशः अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 पुष्पलता, डा0 प्रदीप, डा0 विजय, डा0 सत्य सरन एवं प्रतीक शाक्य को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया ।बैठक का संचालन डी0सी0पी0एम0 राकेश कुमार गुप्ता ने किया।इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0पी0 सिंह, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 राम गोपाल, उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 सन्त प्रकाश, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी अभय प्रताप, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमिता सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 दास, डब्ल्यू0एच0ओ0 के एस0एम0ओ0, यूनिसेफ के प्रतिनिधि सहित सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारीगण, हेल्थ पार्टनर्स एवं सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

विज्ञापन बॉक्स