विधायक, आयुक्त, जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी ने सीताद्वार मंदिर परिसर में झाडू लगाकर ’’स्वच्छता ही सेवा’’ श्रमदान कार्यक्रम का किया शुभारम्भ

85

 

 

 

 

 

 

स्वच्छता ही जीवन का है मूल आधार-आयुक्त

 

 

जिले को स्वच्छ बनाने में अपनी महती भूमिका निभायें जनपदवासी-जिलाधिकारी

 

रिपोर्ट । प्रवीण कुमार मिश्रा

 

श्रावस्ती। देश के माननीय प्रधानमंत्री जी एवं प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार ’’स्वच्छता ही सेवा-कचरा मुक्त अभियान 15 सितम्बर, 2023 से पूरे देश में चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत 02 अक्टूबर के अवसर पर स्वच्छता के लिए जन आन्दोलन उत्सव के तहत ’’स्वच्छ भारत दिवस’’ के रूप में मनाया जाना है, जो महात्मा गांधी को उनकी जयंती पर एक श्रृद्धांजलि है। इसके तहत आज जनपद के विकास खण्ड इकौना अन्तर्गत स्थित सीताद्वार मंन्दिर परिसर में विधायक रामफेरन पाण्डेय, जनपद हेतु नामित नोडल अधिकारी/देवीपाटन मण्डल गोण्डा के आयुक्त योगेश्वर राम मिश्र, जिलाधिकारी कृतिका शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह एवं अपर जिलाधिकारी अमरेन्द्र कुमार वर्मा ने स्वयं झाडू लगाकर ’’स्वच्छता ही सेवा-2023 ’कचरा मुक्त भारत’’ 01 घण्टे श्रमदान कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस दौरान विधायक, आयुक्त, जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी ने विसर्जन स्थल पर लीगेसी वेस्ट, सीताद्वार मंदिर, झील एवं रैन बसेरे के पास साफ-सफाई कर श्रमदान दिया तथा उपस्थित अधिकारियों/कर्मचारियों एवं आम जनमानस को स्वच्छता की शपथ भी दिलाई।इस अवसर पर विधायक ने कहा कि महात्मा गांधी जी की जयंती से पहले आज देशभर में स्वच्छता ही सेवा अभियान के तहत एक घण्टे का श्रमदान किया जा रहा है, जो महात्मा गांधी जी को सच्ची श्रृद्धांजलि है। ’स्वच्छता ही सेवा’ एक साझा जिम्मेदारी है और इसका हर प्रयास स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने में अहम भूमिका निभाता है। उन्होने कहा कि देश के मा0 प्रधानमंत्री जी के परिकल्पना के अनुसार देश को स्वच्छ बनाने हेतु इस श्रमदान के लिए एक तारीख, एक घंटा, एक साथ का नारा दिया है, जिससे जन आन्दोलन के रूप में सफाई अभियान चलाकर देश को स्वच्छ बनाया जा सके। उन्होने जनसामान्य से अपील करते हुए कहा कि कचरे को इधर-उधर न फेंके। स्वच्छ समाज से ही स्वच्छ भारत का सपना साकार हो सकेगा।

इस दौरान आयुक्त ने कहा कि स्वच्छता ही जीवन का मूल आधार है। किसी भी समाज के लिए स्वच्छता सामाजिक रूप से भी आवश्यक है और स्वास्थ्य के लिए भी आवाश्यक है। इसलिए साफ-सफाई अपनाकर ही बीमारियों से बचा जा सकता है। देश के प्रधानमंत्री जी के मंशानुसार महात्मा गांधी जी की जयंती के अवसर पर ’’स्वच्छता ही सेवा-2023 कचरा मुक्त भारत’’ कार्यक्रम को जनआन्दोलन के रूप में मनाया जा रहा है, जो बहुत ही सराहनीय है। इस इसका उद्देश्य सामूहिक स्वच्छता अभियान जैसी विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से देश भर में जन भागीदारी सुनिश्चित करना है।इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा महात्मा गांधी जी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री जी के आह्वान पर स्वच्छता ही सेवा श्रमदान कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। आगामी दिनों में जिले के सभी अस्पतालों, सरकारी कार्यालयों एवं सभी ग्राम पंचायतों में साफ-सफाई की जायेगी। इस अभियान के माध्यम से विशेष स्वच्छता अभियान चलाकर लोगों को स्वच्छता अपनाने हेतु जागरूक किया जायेगा। उन्होने सभी जनपद वासियों से अपील करते हुए कहा कि जिले को साफ-सुथरा रखने के लिए ’स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़े से जुड़़कर सभी जनपदवासी स्वयं को स्वच्छता के प्रति समर्पित करें और जनपद को स्वच्छ बनाने में अपनी महती भूमिका निभायें।

मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से गांव, वार्ड और पड़ोस में स्वच्छता के लिए स्वैच्छिक श्रमदान कर जनपद को स्वच्छ बनाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होने कहा कि सभी जनपदवासी अपने आस-पास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और स्वच्छता ही सेवा अभियान से जुड़कर देश को स्वच्छ बनाने में अपना श्रमदान करें।इस अवसर पर उपजिलाधिकारी इकौना राम दत्तराम, उपजिलाधिकारी पी0के0 राय, प्रभागीय वनाधिकारी डी0एन0 सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी इकौना सन्तोष कुमार, तहसीलदार इकौना अरूण कुमार, नायब तहसीलदार इकौना राघवेन्द्र पाण्डेय, जिला पंचायत राज अधिकारी नन्दलाल, जिला समाज कल्याण अधिकारी डा0 अमरनाथ यति, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमिता सिंह, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी देवेन्द्र राम, खण्ड विकास अधिकारी इकौना सी0बी0 तिवारी, जिला समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन राजकुमार त्रिपाठी सहित ग्राम प्रधान एवं अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारी/कर्मचारीगण तथा आम जनमानस श्रमदान के लिए उपस्थित रहा।इसके अलावा जनपद के संयुक्त जिला चिकित्सालय में स्थित जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र, सभी तहसीलों, विकास खण्डों, नगर निकायों, ग्राम पंचायतों सहित सभी सरकारी कार्यालयों शिक्षण संस्थानों के परिसरों में सामुहिक श्रमदान कार्यक्रम का आयोजन कर जनआन्दोलन के रूप में सफाई अभियान चलाकर साफ-सफाई की गयी तथा स्वच्छता की शपथ भी दिलायी गयी।