UP: नवरात्रि में दुर्गा पंडालों से ‘नारी शक्ति’ को जागृत करेगी योगी सरकार, शुरू होने जा रहा बड़ा अभियान

189

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए समर्पित योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार एक बार फिर शारदीय नवरात्र पर मिशन शक्ति के तहत महिला सशक्तीकरण को लेकर बड़ा अभियान चलाएगी। इस बार यह अभियान प्रदेश भर में 15 से 24 अक्टूबर तक सर्किलवार चलाया जाएगा, जिसमें प्रदेश के विभिन्न ग्राम सभा, दुर्गा पंडाल, मंदिर, वार्ड, मोहल्ला से जागरुकता रैली निकाली जाएगी। इस दौरान जगह-जगह पर नुक्कड़ नाटक, लघु फिल्म, आपसी संवाद और ध्वनि संदेश के माध्यम से नारी सुरक्षा और सशक्तिकरण पर जागरुक किया जाएगा। वहीं हर ग्राम पंचायत रैली का एक पड़ाव भी होगा, जहां पूर्व निर्धारित कार्यक्रम होंगे। सर्किलवार रैली में ग्राम और न्याय पंचायतों में भ्रमण के दौरान शक्ति दीदी के साथ ग्राम प्रधान, अध्यापिका, न्याय पंचायत के लिए नियुक्त बीसी सखी, राजस्व लेखपाल, एएनएम, आशा वर्कर व अन्य भी मौजूद रहेंगी।

प्रतिदिन हर सर्किल के 12 ग्राम पंचायतों से होकर गुजरेगी सर्किलवार रैली

महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन के एडीजी बीपी जोगदंड ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरुप हर साल की तरह इस बार भी शारदीय नवरात्र पर प्रदेश भर में मिशन शक्ति के तहत महिला सशक्तिकरण अभियान की तैयारियों पूरी कर ली गई हैं। इस बार प्रदेश भर में महिला सशक्तिकरण सर्किलवार रैली निकाली जाएगी। यह रैली प्रदेश के सभी 75 जिलों के 450 सर्किल के 58,754 ग्राम पंचायत और 1300 वार्ड- मोहल्ले से होकर निकलेगी। सर्किलवार रैली में स्थानीय क्षेत्राधिकारी शामिल होकर हर दिन अपने सर्किल के 10 से 12 ग्राम पंचायतों का भ्रमण कराएंगे। इस दौरान रैली का प्रत्येक ग्राम पंचायत, वार्ड, मोहल्ले में एक पड़ाव होगा, जहां पूर्व निर्धारित कार्यक्रम लघु फिल्म, नुक्कड़ नाटक, आपसी संवाद और ध्वनि संदेश दिये जाएंगे। वहीं रैली के रूट पर पड़ने वाले पूजा पंडालों में भी कार्यक्रमों को आयोजन किया जाएगा। विभिन्न कार्यक्रमों में महिला सुरक्षा, महिला संबंधी शासकीय योजनाओं, महिला संबंधी हेल्पलाइन की जानकारी दी जाएगी।

रैली में यह विभाग भी होंगे शामिल

रैली में यूपी पुलिस की शक्ति दीदी के साथ महिला एवं बाल विकास विभाग, समाज कल्याण विभाग, ग्राम्य विकास विभाग और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अधिकारी और कर्मचारी भी मौजूद रहेंगे, जो मौके पर ही महिलाओं की समस्याओं को समाधान करेंगे। वहीं मिशन शक्ति के तहत सेफ सिटी अभियान भी चलाया जाएगा। इसमें प्रदेशभर में तीन हजार पिंक बूथ बनाने का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें पहले चरण में नौ जिलों में स्थित 20 धार्मिक स्थल पर पिंक बूथ बनाए जाएंगे। इसी तरह सभी 10,417 महिला बीटों के लिए इलेक्ट्रिक दो पहिया वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे, जिसमें पहले चरण में 1100 महिला बीट को सुविधा दी जाएगी।

UP: मां-बाप का ख्याल नहीं रखा तो संपत्ति से बेदखल होंगे बच्चे, योगी सरकार लाने जा रही ये कानून