हेवती में हाई प्रोफाईल मनरेगा मजदूर करते हैं काम।नही हैं अपने करोड़ो की प्रॉपर्टी पर घमंड

1203

लग्जरी गाड़ी और अपने शान शौकत में पानी की तरह करते हैं पैसा खर्च..फिर भी नही हैं अपने पैसे पर घमंड।

घर पर नौकर-चाकर हैं लेकिन मनरेगा में मजदूरी अपने पत्नी के साथ करते हैं काम।

महराजगंज। किसी भी चुनाव में नेता या जनप्रतिनिधि चुनाव के दौरान अपने क्षेत्र की जनता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने की बात करते हैं लेकिन चुनाव में जीत मिलते ही अपनी सभी यादें भूल जाते हैं।लेकिन जनपद में सिसवा विकास खंड अंतर्गत एक ग्राम सभा ऐसा भी हैं जहाँ चुनाव जीतने के बाद भी घर की बहुएं से लेकर जवान तक गरीबों के साथ मनरेगा मजदूरी मजदूरों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करते हैं।इनके घर पर चौका-बर्तन से लेकर सभी कार्य मजदूर करते हैं।लेकिन स्वयं मनरेगा मजदूरी करने में कोई शर्म नही करते।यह भी नही की इनकी हैसियत किसी जमींदार से कम हैं।इनकी स्थाई पैतृक संपत्ति लगभग 25 एकड़ हैं।घर पर लग्जरी गाड़ियां दरवाजे की शोभा बढ़ा रही हैं खेत खलिहानों में 3 ट्रैक्टर ट्रालियों सीना तानकर खड़ी हैं।इतना ही नही हेवती चैराहे पर जिधर भी आप की नजर दौड़ेगी उधर बस इन्ही मनरेगा मजदूरों के ही मकाने दिखाई देगा।जिससे महीने के हजारों रुपये भाड़े के रूप में आता रहता हैं।इतना कुछ होने के बाद भी खर्च इतना हैं कि लग्जरी गाड़ी और अपने एसो आराम के लिए मनरेगा में मजदूरी करते हैं।

आइये जानते हैं उन हाई प्रोफाइल मनरेगा मजदूरों को

*1-अरुण उर्फ मुन्ना पटेल पुत्र ओमप्रकाश पटेल।*

जॉब कार्ड नम्बर UP-52-005-021-001/316

इनके द्वारा वित्तीय वर्ष 2019-2020 में 2548₹

2021-2022 में 17748₹

2022-2023 में 18531₹

तथा वर्तमान वित्तीय वर्ष में 12650 ₹ का मनरेगा मजदूरी किया गया हैं तथा इनके खाते में उपरोक्त धनराशि भेजा गया हैं।

*2-वरुण उर्फ राजन पटेल पुत्र ओमप्रकाश पटेल।*

वरुण उर्फ राजन पटेल वर्तमान समय में अपने आप को हेवती ग्राम प्रधान प्रतिनिधि के रूप में बताते हैं लोगो के बताने के अनुसार सत्ताधारी पार्टी में जनपद स्तर पर इनका अच्छा पकड़ हैं जिसके कारण ग्राम सभा के विकास कार्यो में खुलकर सरकारी नियमों की धज्जियां उड़ाते हैं इनके हनक के आगे कोई अधिकारी इनके खिलाफ आवाज नही उठाता हैं जिसका यह भरपूर लाभ उठाते हैं।वरुण उर्फ राजन पटेल राजशाही अंदाज और लग्जरी गाड़ी में घूमने के शौकीन हैं।

परन्तु इनके द्वारा भी गरीब मजदूरों के साथ कड़ी धूप में मनरेगा मजदूरी किया गया हैं आइये इनके कार्यो पर एक नजर डालते हैं।

जब कॉर्ड नम्बर: UP-52-005-021-001/317 द्वारा

वित्तीय वर्ष 2019-2020 में 2548₹

वित्तीय वर्ष 2021-2022 में 17748₹

वित्तीय वर्ष 2022-2023 में 21300₹

तथा वर्तमान वित्तीय वर्ष में 12650₹ रुपये का इनके द्वारा कार्य किया गया हैं जिसकी धनराशि इनके खाते में भेजा गया हैं।

पर्दे में रहने वाली घर की बहू भी पति के साथ किया मजदूरी।

चाहरदिवाली के अंदर और पर्दे में रहने वाली महिला के नाम पर भी मनरेगा मजदूरी निकाला गया।हम बात कर रहे हैं वरुण कुमार उर्फ राजन पटेल की धर्मपत्नी स्मिता पटेल की इन्होंने भी अपने ससुर ओमप्रकाश पटेल के प्रधानी काल में वित्तीय वर्ष 2019-2020 में ग्राम सभा मे हो रहा कार्य शशिबिन्द के खेत से कम्हरिया सिवान तक चकबन्द निर्माण कार्य में 25 मई 2019 से लेकर 08 जुलाई 2019 तक कुल 14 दिन कड़ी धूप में मनरेगा मजदूरी किया उसके बदले 182₹/दिन के हिसाब से 2548₹ स्टेट बैक आफ इंडिया सिसवा बाजार में इनके खाते में भेजा गया।

सूत्रों का माने तो स्मिता पटेल के खुद का जूठन का वर्तन घर की नौकरानी साफ करती हैं लेकिन पटेल परिवार ने अपने धन के अहंकार को त्यागकर ईमानदारी पूर्वक मनरेगा मजदूरी कर क्षेत्र की जनता को यह दिखा दिया कि मैं भले ही यहां का जमींदार हूं।महीने में केवल शान शौकत में लाख रुपये खर्च करता हूँ लेकिन मनरेगा मजदूरी मैं भी करता हूँ।