सरयू एक्सप्रेस में महिला सिपाही से दरिंदगी: GRP और UP सरकार के जवाब से संतुष्ट दिखा इलाहाबाद HC, दी सुनवाई की अगली तारीख

191

सरयू एक्सप्रेस ट्रेन में महिला सिपाही के साथ हुई दरिंदगी मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) में सुनवाई हुई. हाईकोर्ट में राज्य सरकार और रेलवे ने जवाब दाखिल किया. हाईकोर्ट वर्तमान में चल रही जांच से संतुष्ट है. कोर्ट ने मामले में केंद्र और राज्य सरकार से जवाब तलब किया. मामले की अगली सुनवाई 13 सितंबर को होगी. एसपी रेलवे, लखनऊ पूजा यादव हाईकोर्ट में पेश हुईं और अब तक हुई जांच के बारे में उन्होंने कोर्ट को जानकारी दी. उन्होंने कोर्ट को बताया कि महिला सिपाही की हालत अभी गंभीर बनी हुई है और उसका बयान दर्ज नहीं किया जा सका है. हालत सामान्य होने पर महिला सिपाही का बयान दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः हमारे लिए गरीब ही प्राथमिकता, फिर चाहें वह अल्पसंख्यक हों, अति पिछड़े वर्ग के हों, निराश्रित हों या फिर हों दलित, सभी के विकास के लिए प्रयासरत हैं: योगी

एसपी रेलवे पूजा यादव ने कोर्ट को बताया कि इस मामले में आरोपियों की पहचान की जा रही है. घटना की जांच और वर्कआउट के लिए कई टीमों का गठन किया गया है. मामले के जल्द से जल्द खुलासे को लेकर टीमें दिन-रात काम कर रही हैं. जीआरपी ऑफिसर और यूपी सरकार के जवाब पर कोर्ट ने संतुष्टि जताई. कोर्ट ने यूपी सरकार को जल्द से जल्द जांच पूरी कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया.

रविवार को छुट्टी के दिन रात में भी हुई सुनवाई

इलाहाबाद हाई कोर्ट इस मामले में सुओ मोटो लेकर खुद ही सुनवाई कर रहा है. हाईकोर्ट ने इस मामले में सुओ मोटो लेकर रविवार को छुट्टी के दिन रात के वक्त भी सुनवाई की थी. कोर्ट में शासकीय अधिवक्ता ए के संड भी जानकारी के साथ मौजूद थे. चीफ जस्टिस प्रीतिंकर दिवाकर और जस्टिस आशुतोष श्रीवास्तव की डिविजन बेंच में मामले की सुनवाई हुई.

महिला सिपाही अर्धनग्न और बेहोशी की हालत मिली

बता दें कि महिला सिपाही के साथ तीन दिन पहले ट्रेन में हैवानियत हुई थी. सरयू एक्सप्रेस ट्रेन में सवार महिला सिपाही अर्धनग्न और बेहोशी की हालत में ट्रेन में खून से लथपथ पाई गई थी. हालत गंभीर होने की वजह से महिला सिपाही को इलाज के लिए लखनऊ के केजीएमयू में रेफर किया गया था. महिला सिपाही की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है. मामले में पीड़ित महिला सिपाही के साथ रेप की भी आशंका जताई जा रही है. सुल्तानपुर में तैनात महिला सिपाही की ड्यूटी अयोध्या के सावन मेले में लगी हुई थी.

Also Read: कानपुर: हाथ में कलावा और माथे पर तिलक देख आतिफ और फैसल ने रमेश बाबू को गोलियों से दिया था भून, 5 साल बाद परिवार को मिला इंसाफ


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

विज्ञापन बॉक्स