बलरामपुर में बढ़ता जा रहा तेंदुए का खौफ..घर की छत पर चढ़कर बैठा तेंदुआ, पशुशाला से ले गया बछिया, विभाग ने भेजी टीम

58
बलरामपुर के सोहेलवा वन जीव क्षेत्र के जंगल से सटे गांवों में तेंदुए का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है। तेंदुआ न सिर्फ मवेशियों और बच्चों को अपना निशाना बना रहा है बल्कि लोगों के घरों और छतों पर भी चढ़कर बैठ जा रहा है। तेंदुए के हमलों और आबादी में आने से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों ने वन विभाग से बचाव की मांग की है।

बताया जा रहा है की सोहेलवा वन जीव क्षेत्र के बनकटवा रेंज के धन्नीडीह गांव में तेंदुआ बीती रात गांव में घुस गया और तुलाराम के पशुशाला में बंधी बछिया को उठा ले गया। उसका अवशेष झाड़ी में मिला। गांव वाले तेंदुए को लेकर चर्चा कर रहे थे तभी कुछ लोगों को छेड़ी राम के पक्के मकान की छत पर एक तेंदुआ बैठा देखा। तेंदुए को छत पर बैठा देखकर गांव में अफरा-तफरी मच गई।

लोगों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। गांव के ओमकार नाथ, राहुल मणि तिवारी, मिश्रीलाल, जटा शंकर विश्वनाथ, विनय कुमार, सुभाष आदि ग्रामीणों ने हिम्मत दिखाई और हाका लगाकर तेंदुए को छत से भगाया। शोर सुनकर तेंदुआ जंगल की तरफ भाग खड़ा हुआ। तेंदुए के आबादी वाले क्षेत्र में दिखाई दिए जाने से ग्रामीणों में दहशत का माहौल व्याप्त है।

वन्य जीवों से छेड़छाड़ न करने की अपील
ग्रामीणों ने वन विभाग के अधिकारियों से मांग करते हुए कहा कि तेंदुए को पकड़ने के लिए व्यापक इंतजाम किए जाएं, ताकि जनहानि से बचा जा सके। डीएफओ डॉ. सेम मारन एम ने बताया कि गांव में तेंदुए के घुसने की सूचना मिलने के बाद वन विभाग की टीम मौके पर भेजी जा रही है। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की है कि तेंदुआ या अन्य वन जीव के दिखाई दिए जाने के बाद उसके साथ छेड़छाड़ न करें।


विज्ञापन बॉक्स