विवादों में लगातार घिरते जा रहे हैं रुधौली नगर पंचायत अध्यक्ष धीरसेन निषाद, भ्रष्टाचार,हत्या,बलात्कार,खबर चलाने पर पत्रकार से मारपीट, धमकी के अलावा और भी क्या-क्या आरोप लगने के बावजूद भी कुछ भी प्रशासन करने में हैं असमर्थ

303
बस्ती- नगर पंचायत अध्यक्ष रुधौली धीरसेन निषाद पहली बार जब जनता ने मताधिकार के प्रयोग से जब पहली बार रुधौली अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाया था तो लोगों को काफी उम्मीद थी कि नगर पंचायत का कायाकल्प बदल जाएगा लेकिन महज दिखावा साबित हुआ। पिछले पंचवर्षीय कार्यकाल में लगातार भ्रष्टाचार में डूबी नगर पंचायत रुधौली के अध्यक्ष ने काफी धनबल इकट्ठा कर जिससे पुनः पैसों की मदद एक बार फिर नगर पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हुआ। लेकिन इस बार माहौल, व्यवहार,कार्यशैली में काफी बदलाव दिखा। रुधौली के पहले बोर्ड बैठक के दिन से ही सभासदों ने प्रश्न चिन्ह लगना शुरू कर दिया पिछले कार्यकाल में हुए के विकास कार्य का खाका मांगना शुरू किया जिसका जवाब देने में असमर्थ दिखे। यही नहीं दूसरी बार अध्यक्ष बनने के बाद सिद्धार्थ नगर जनपद की एक महिला के साथ बलात्कार व हत्या का मामला शांत ही नहीं हुआ था कि स्थानीय पत्रकार अनूप बरनवाल के साथ खबर चलाने के लिए कर मारपीट जिसमें उनके तीन गुर्गो की गिरफ्तारी शांति भंग जैसी धाराओं में हुई थी। इसके पहले भ्रष्टाचार की खबर एक दैनिक पेपर में नगर पंचायत रुधौली की खबर छपी थी।

ताजा मामला रुधौली थाना क्षेत्र के रहने वाली एक महिला ने पुलिस अधीक्षक बस्ती पत्र देकर नौकरी के नाम पर के शारीरिक शोषण, बलात्कार सहित अन्य मामले की है। पीड़ित महिला ने बताया कि गांव के ही युवक मायाराम पाठक द्वारा विश्वास मनाते हुए बताया कि नगर पंचायत अध्यक्ष रुधौली के पास जाओ और निश्चय ही तुमको नौकरी दिलवाएंगे। लेकिन गांव के इस युवक ने दरिंदे अध्यक्ष के करतूतो के बारे में नहीं बताया इसके लिए क्या-क्या कीमत तुमको चुकानी पड़ेगी। कोरोना कल में अच्छे-अच्छे लोग भी मजबूर हो चुके थे घर की आर्थिक स्थितियों की काफी खराब हो गई थी। ऐसे में थाना क्षेत्र रुधौली की युवती द्वारा भी बलात्कार,छेड़खानी सहित शारीरिक शोषण जैसी घटिया हरकत नगर पंचायत अध्यक्ष रुधौली के साथ करना पड़ा।पीड़ित महिला ने बताया कि मरता क्या नहीं करता वाली तर्ज पर सब कुछ करने को मजबूर हो गई लेकिन नौकरी न मिलने अब न्याय की गुहार लगाई है।

पीड़िता ने बताया कि नौकरी के नाम पर कभी आवास पर, तो कभी गौशाला पर, तो कहीं एकांत जगह बुलाकर मेरे साथ शारीरिक शोषण बलात्कार करते थे कई माह बीत जाने के बावजूद भी नौकरी न देने के बाद हमने रिकॉर्डिंग को वायरल करने को कहा तो अगस्त 2022 में नौकरी दिया। इसके बावजूद भी मेरा शारीरिक शोषण करना बंद नहीं हुआ,यहां तक की कई बार गर्भपात भी करनी पड़ी लेकिन यह निर्दयी व बहसी नगर पंचायत अध्यक्ष अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है।ऐसे में पुलिस अधीक्षक बस्ती, पुलिस महानिरीक्षक बस्ती,पुलिस महानिदेशक गोरखपुर,मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सहित अन्य जगहों पर शिकायती पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। पीड़ित महिला ने बताया कि यदि ऐसे दरिंदे पर बहसी युवक पर कार्यवाही नहीं हुई तो पुलिस अधीक्षक बस्ती के सामने आत्मदाह आकर अपनी जान दे देंगे। पीड़िता ने यह भी कहा कि अब लोग मुझे हेय दृष्टि से देखने लगे ऐसे में हम जीकर भी क्या करेंगे।