मूडीज ने भारत की वृद्धि दर का बढ़ाया अनुमान, 2023 कैलेंडर वर्ष में 6.7% GDP रहने की उम्मीद

103

रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody’s Investors Service) ने शुक्रवार को भारत के विकास के अनुमान में बदलाव किया है। देश की मजबूत आर्थिक गति की वजह से 2023 कैलेंडर वर्ष के लिए भारत की वृद्धि का अनुमान बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है।

मूडीज ने अपने ग्लोबल मैक्रो आउटलुक में कहा कि मजबूत सर्विस सेक्टर और पूंजीगत व्यय ने पहले तिमाही के विकास दर को 7.8 फीसदी तक दर्ज किया। ऐसे में 2023 कैलेंडर वर्ष के विकास पूर्वानुमान को 5.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है। इसमें उन्होंने कहा कि मजबूत अंतर्निहित आर्थिक गति को देखते हुए, भारत के आर्थिक विकास प्रदर्शन के लिए आगे बढ़ने के जोखिम को भी पहचानते हैं।

Also Read: प्रतिबंध के बावजूद सिंगापुर को चावल का निर्यात करेगा भारत, विदेश मंत्रालय ने बताई वजह

मूडीज के अनुसार दूसरी तिमाही का बेहतर प्रदर्शन 2023 में उच्च आधार बनाता है। ऐसे में मूडीज ने वर्ष 2024 का विकास अनुमान 6.5 प्रतिशत से घटाकर 6.1 प्रतिशत कर दिया है। भारत में जून से अक्टूबर तक चलने वाले मानसून सीज़न में भी औसत से कम बारिश हो सकती है। इसका परिणामस्वरूप खाद्य पदार्थों की कीमतें बढ़ सकती हैं।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने 29 अगस्त 2023 तक देश भर में 9 फीसदी बारिश की कमी का अनुमान लगाया है। वहीं, मूडीज ने कहा कि अगर इस साल अल नीनो 2023 की दूसरी छमाही में आता है तो कृषि कमोडिटी की कीमतें बढ़ सकती हैं।

Also Read: भारत सरकार की कंपनी के लिए 2 डाटा सेंटर स्थापित करेगी CIPL, 137 करोड़ रुपए का हुआ अनुबंध

बता दें कि आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति ने अगस्त में तीसरी बार रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया। इसके अलावा खाद्य मूल्य मुद्रास्फीति में हालिया वृद्धि और अनिश्चित अल नीनो-संबंधित मौसम की स्थिति के कारण अगले साल की शुरुआत में मौद्रिक नीति में ढील पर विचार में देरी होगी।

ऐसे में मूडीज ने कहा कि भारत में घरेलू मांग में तेजी बनी हुई है और जब तक मुख्य महंगाई भी अपेक्षाकृत स्थिर रहेगी। इस वजह से दरों में बढ़ोतरी की भी संभावना नहीं है।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )