नए संसद भवन के तर्ज पर लखनऊ में बनेगी नई विधानसभा, जानिए क्या है योगी सरकार का प्लान

139

दिल्ली में नए संसद भवन की तर्ज पर अब उत्तर प्रदेश में भी नए विधानभवन (UP New Vidhansabha) का निर्माण कराने का फैसला किया गया है. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर नए विधानभवन की आधारशिला रखी जा सकती है. भविष्य में होने वाले परिसीमन को देखते हुए वर्तमान में यूपी विधानभवन काफी छोटा साबित हो सकता है ऐसे में यूपी की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार अब दिल्ली की तरह यूपी में भी नए विधानभवन को बनाने की तैयारी कर रही है.

यह भी पढ़ेंः Health Tips: स्किन के लिए बेस्ट हैं ये नेचुरल जूस, त्वचा को बनाते हैं खूबसूरत और ग्लोइंग

गौरतलब है कि नए विधानसभा भवन का प्रस्ताव पहले ही पास हो चुका है. बताया जा रहा है कि मौजूदा विधानसभा भवन 100 साल से अधिक पुराना है और लखनऊ के हजरतगंज में स्थित है. हजरतगंज राजधानी का प्रमुख क्षेत्र है. ऐसे में जब विधानसभा की कार्रवाई चलती है तो ऐसे में आम जनमानस को ट्रैफिक की समस्याओं से भी जूझना पड़ता है. इसके अलावा मौजूदा विधानसभा में जगह की कमी भी महसूस हो रही है.




यह भी पढ़ेंः जियो-एयरटेल ने नहीं दिया साथ, BSNL नेटवर्क के भरोसे चंद्रयान-3 कर रहा था वैज्ञानिकों से बात वो ही बीएसएनएल नेटवॉक रुपईडीहा में फेल

यूपी में नए विधानभवन को बनाने में करीब तीन हजार करोड़ रुपये की लागत आने की उम्मीद है. स्वर्गीय अटल जी जयंती पर इस नए विधानभवन की आधारशिला रखी जाएगी. नए विधानभवन का निर्माण दारुलशफा और आसपास के क्षेत्र को मिलाकर होगा. माना जा रहा है कि नए विधानभवन का निर्माण कार्य साल 2027 तक कराए जाने की कोशिश की जाएगी. योगी सरकार का लक्ष्य है कि 18वीं विधानसभा के कम से कम एक सत्र का आयोजन नए भवन में हो.

यह भी पढ़ेंः बहराइच में पत्नी को पीटा, घसीटकर पानी में फेंका, VIDEO:बच्चे चीखते-चिल्लाते रहे पर नहीं माना, दूसरी शादी के बाद पत्नी से होता था विवाद





यूपी में वर्तमान विधानभवन भविष्य में होने वाले परिसीमन को देखते हुए छोटा हो सकता है, विधानभवन में सदस्यों को बैठने के लिए पहले से ही कम जगह है, मौजूदा भवन का उद्घाटन 1928 में हुआ था, लेकिन अब जनसंख्या के हिसाब से हालात काफी बदल गए हैं. सेंट्रल विस्टा की तरह नया विधानभवन भी आधुनिक सुविधाओं और लेटेस्ट तकनीक से लेस होगा. इस भवन का निर्माण भी इस आधार पर होगा कि इसमें यूपी की संस्कृति की झलक मिले और पूरे देश में मिसाल बन सके. यूपी के नए विधानसभा भवन को पूरी तरह भूकंप रोधी और इको फ्रेंडली तरीके से बनाया जाएगा. तय लक्ष्य के मुताबिक 2027 में जब नए विधानभवन का निर्माण पूरा होगा तो तब पुरानी विधानसभा को बने हुए सौ साल पूरे होने को होंगे.

Also Read: राष्ट्रीय पोषण माह: CM योगी ने कहा- मां यशोदा की तरह आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की भूमिका, खाते में ट्रांसफर की 29 करोड़ की राशि

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )