जियो-एयरटेल ने नहीं दिया साथ, BSNL नेटवर्क के भरोसे चंद्रयान-3 कर रहा था वैज्ञानिकों से बात वो ही बीएसएनएल नेटवॉक रुपईडीहा में फेल

121

नेटवर्क ध्वस्त उपभोक्ता परेशान

रूपईडीहा बहराइच। भारत नेपाल सीमा क्षेत्र रूपईडीहा में आए दिन बीएसएनएल का नेटवर्क ध्वस्त रहने से लोग परेशान हैं बीएसएनएल कंपनी है जो भारत के कई पड़ोसी देशों को अपना नेटवर्क देकर वहां की संचार बेवस्था को बखूबी चला रही है। इस बीएसएनल का कस्बा रूपईडीहा में बुरा हाल है बीएसएनएल कार्यालय पर कोई भी सरकारी कर्मचारी की तैनाती न होने से समस्या जस की तस बनी रहती है।यहां बिजली जाते ही नेटवर्क चला जाता है।बैकअप बैटरी का भी बुरा हाल है उपभोक्ताओं का कहना है कि पहले यहां जेनेरेटर की व्यवस्था रहती थी परंतु अब वह भी नज़र नही आ रही। एक ओर जहां बीएसएनएल ब्रॉडबैंड,फाइबर और अब बीएसएनएल नेटवर्क पर लोगों का एक-दूसरे से बात तक करना मुश्किल हो गया है वही लोगों का कहना है कि विभाग के अधिकारियों से कई बार इन समस्याओं की शिकायत की गई लेकिन कोई इसे गंभीरता से नहीं लेता है। हालत यह है कि आए दिन नेटवर्क की समस्या से आजिज आए ग्राहकों की संख्या भी दिन पर दिन कम होती जा रही है। लोग अब निजी नेटवर्क का सहारा लेने लगे हैं।इस सम्बंध में एसडीओ नफीस कुरैशी से बात करने की कोशिश की गई तो उनका मोबाइल भी नेटवर्क क्षेत्र में नही है बता रहा था इससे ये पता चलता है कि इस कंपनी के अधिकारियों के मोबाइल में भी नेटवर्क नही रहता है और वह भी दूसरे प्राइवेट कंपनियों के नेटवर्क का इस्तेमाल करते है।यहाँ तक कि अभी कुछ दिन पहले ही भारतीय चंद्रयान मिशन -3 को सफलता पूर्वक चंद्रमा पर उतारने में जिस कंपनी के संचार माध्यम का इस्तेमाल किया गया वह भी बीएसएनएल ही था.