महराजगंज: दो साल से जमे विवादित शहर कोतवाल रवि कुमार राय आखिरकार हटाये गये, 13 सिपाही और कोतवाल लाइनहाजिर

398

रिपोर्ट: गजेन्द्र गुप्ता

महराजगंज: पुलिस अधीक्षक ने कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रवि कुमार राय को लाइन हाजिर कर दिया है। आनद कुमार गुप्ता को महाराजगंज कोतवाली का प्रभारी निरीक्षक बनाया गया है जो फरेंदा थाना में प्रभारी निरीक्षक थे। पुलिस अधीक्षक डॉ कौस्तुभ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए थाना कोतवाली महाराजगंज के 13 पुलिस कर्मियों को भी लाइन हाजिर कर दिया है। वरिष्ठ उप निरीक्षक अजीत प्रताप सिंह को फरेंदा थाना प्रभारी बनाया गया है जो महाराजगंज कोतवाली में तैनात थे।

पुलिस अधीक्षक डॉ कौस्तुभ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए महाराजगंज कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रवि राय सहित 14 पुलिस कर्मीयों को किया लाइन हाजिर

दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

भाजपा नेता पर रेप और हत्या का आरोप,पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा के खिलाफ सदर कोतवाली पुलिस ने हत्या व रेप का मुकदमा दर्ज किया है। भाजपा नेता पर आरोप है कि उसने शहर में किराए पर रहने वाले संतकबीरनगर जिले के दलित परिवार की बड़ी बेटी के साथ दुष्कर्म किया। आरोप है कि किशोरी के पिता ने दुष्कर्म करते देख लिया तो उसे अनजान जगह ले गया और हत्या कर दी। शव का पोस्टमार्टम कराया गया, पर परिवार को अभी तक रिपोर्ट की कॉपी नहीं मिली है। वहीं इस मामले में भाजपा नेता ने आरोपों को निराधार बताया और कहा कि उसे षडयंत्र के तहत फंसाया जा रहा है।
कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर 17 वर्षीय किशोरी ने बताया कि घटना बीते 28 अगस्त की रात आठ बजे की है। उसका परिवार संतकबीरनगर जिले के मेंहदावल क्षेत्र का रहने वाला है। रोजी-रोटी की तलाश में पिता अपनी चार बेटियों व आठ साल के पुत्र के साथ महराजगंज आया था। किराये के मकान में रहने के दौरान किशोरी का परिवार आरोपी के संपर्क में आया। युवती का पिता पिछले पांच साल से शहर में फुटपाथ के किनारे चाट-पकौड़ा बेचता था। पीड़िता के मुताबिक 28 अगस्त की रात को उसके पिता दुकान पर थे। उसी समय राही मासूम रजा उसके कमरे में घुस आया और उसके साथ दुष्कर्म करने लगा। उसी दौरान उसके पिता घर आ गए। बेटी के साथ हैवानियत देख उसे बचाने के लिए संघर्ष करने लगा। आरोप है कि आरोपी, उसके पिता को घसीट कर कहीं अनजान जगह ले गया और हत्या कर दी।
कोतवाली पुलिस को दी तहरीर में पीड़िता ने बताया कि उसने आरोपी को पूर्व में अपनी छोटी बहन के साथ छेड़छाड़ करते देख लिया था। इस पर उसने मुंह खोलने पर हत्या की धमकी दी थी।
हत्या, दुष्कर्म, पॉक्सो व एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज 
कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रवि कुमार राय ने बताया कि पीड़िता की तहरीर के आधार पर शहर के वीर बहादुर नगर वार्ड निवासी राही मासूम रजा के खिलाफ हत्या, दुष्कर्म, पाक्सो व एससीएसटी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपित राही मासूम रजा को पूछताछ के लिए कोतवाली में लाया गया है। प्रकरण में विधिक कार्रवाई की जा रही है।
भाजपा जिला संयोजक ने प्रदेश नेतृत्व को भेजी जानकारी 
भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा के खिलाफ हत्या, दुष्कर्म समेत कई अन्य गंभीर धाराओं में कार्रवाई मामले में भाजपा जिला संयोजक संजय पांडेय ने बताया कि रिपोर्ट भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रांतीय अध्यक्ष के अलावा प्रदेश नेतृत्व को भेज दी गई है। जैसा निर्देश मिलेगा, उसका अनुपालन कराया जाएगा।
कई दलों में रह चुका है आरोपी
भाजपा अल्पंसख्यक मोर्चा का जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा इससे पहले समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी में भी रह चुका है।
एसपी डॉ. कौस्तुभ ने बताया, कोतवाली क्षेत्र में किशोरी के साथ दुष्कर्म व उसके पिता की हत्या के आरोप में तहरीर के आधार पर पुलिस ने केस दर्ज किया है। नियम के मुताबिक जांच होगी। जांच रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम विधिक कार्रवाई की जाएगी। महिलाओं व बालिकाओं के साथ अपराध के मामले में कार्रवाई व जांच में कोई समझौता नहीं।

दलित लड़की से रेप, फिर पिता की हत्या… यूपी के महाराजगंज में BJP नेता राही मासूम रजा पर केस दर्ज

महाराजगंज जिले में भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा पर दलित किशोरी के साथ रेप और विरोध करने पर उसके पिता की हत्या करने जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है.

उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले में भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा पर दलित किशोरी के साथ रेप और विरोध करने पर उसके पिता की हत्या करने जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है. पुलिस ने भाजपा नेता के खिलाफ 302, 376,354, 452, 323, 504, 506, बाल संरक्षण अधिनियम, 3/4 3(2) (v) जैसी आईपीसी की धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया है.

महाराजगंज जिले के भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष राही मासूम रजा के खिलाफ सदर कोतवाली पुलिस ने हत्या व रेप का मुकदमा दर्ज किया है. भाजपा नेता पर आरोप लगे हैं कि उसने शहर में किराए पर रहने वाले संतकबीरनगर जिले के दलित परिवार की बड़ी बेटी के साथ पहले दुष्कर्म किया, जब किशोरी के पिता ने दुष्कर्म करते देख लिया तो उसे अनजान जगह ले जाकर उसकी हत्या कर दी. जिसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया, लेकिन भाजपा नेता के रसूख की वजह से पीड़ित परिवार को अभी तक रिपोर्ट की कॉपी नहीं दी गई है

वहीं, इस पूरे मामले में भाजपा नेता ने सभी तरह के आरोपों को बेबुनियाद बताया है. उसने यह भी कहा कि उसे षडयंत्र के तहत फंसाया जा रहा है. साजिश करने वाले बेनकाब होंगे.

पीड़िता की तहरीर में लिखी ये बात

पूरे घटनाक्रम में कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर 17 वर्षीय किशोरी ने बताया कि घटना बीते 28 अगस्त की रात आठ बजे की है. उसका परिवार संतकबीरनगर जिले के मेंहदावल क्षेत्र का रहने वाला है. रोजी-रोटी की तलाश में पिता अपनी चार बेटियों व आठ साल के पुत्र के साथ महाराजगंज आया था. किराये के मकान में रहने के दौरान किशोरी का परिवार आरोपी के संपर्क में आ गया. 

युवती का पिता पिछले पांच साल से शहर में फुटपाथ के किनारे चाट-पकौड़ा बेचता था. पीड़िता के मुताबिक, 28 अगस्त की रात को उसके पिता दुकान पर थे. उसी समय राही मासूम रजा उसके कमरे में घुस आया और उसके साथ दुष्कर्म करने लगा. तभी उसके पिता घर आ गए. बेटी के साथ दरिंदगी देख उसे बचाने के लिए संघर्ष करने लगा.

आरोप है कि आरोपी राही मासूम रजा, उसके पिता को घसीट कर कहीं अनजान जगह ले गया और उसकी हत्या कर दी. घटना के पूर्व आरोपी ने उसकी छोटी बहन के साथ छेड़छाड़ भी की और मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी भी दी.

कहानी राही मासूम रजा की

दलित किशोरी के साथ रेप और उसके पिता के हत्या का आरोपी राही मासूम रजा के बारे में लोग कहते हैं वह एक चालाक नेता हैं. जिसकी सत्ता रहती है वो उसी का हो जाता है. हर दल से ये अपनी साठ-गांठ बना के रखता है. हर दल में इसके लोग हैं, जो सत्ता में आते ही इसको अपने साथ ले लेते हैं. भाजपा से पहले वो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी में रह चुका है..

मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है: एसपी 

पूरे मामले में पुलिस अधीक्षक डॉ. कौस्तुभ ने बताया की कोतवाली क्षेत्र में किशोरी के साथ दुष्कर्म व उसके पिता की हत्या के आरोप में तहरीर के आधार पर कोतवाली पुलिस ने केस दर्ज किया है. नियम के मुताबिक जांच की जा रही है. जांच रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम विधिक कार्रवाई की जाएगी.

लगभग दो साल से महराजगंज के शहर कोतवाल की कुर्सी पर रहे जबरदस्त विवादित पुलिस इंस्पेक्टर रवि कुमार राय सहित कोतवाली अंतर्गत नगर चौकी के 13 सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

महराजगंज: शहर कोतवाल रवि कुमार राय और 13 सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। लगभग दो साल से महराजगंज कोतवाली के थानेदार रहे रवि कुमार राय जबरदस्त विवादों में घिरे रहे। कैसे अपने स्वार्थ के मुताबिक अनुभवहीन उच्च अफसरों को गुमराह करना है, इस बात की नयी परिपाटी जिले में विवादित कोतवाल रवि कुमार राय ने लिख डाली। संवाददाता के मुताबिक शहर के एक संगीन मामले को लेकर महकमे के बड़े अफसरों के बीच में आपस में ही तलवारें खींच चुकी थीं। आखिरकार नतीजा कोतवाल के खिलाफ गया और इनको लाइन हाजिर कर दिया गया। ये तो गये ही साथ ही अपने काले कारनामों की वजह से 13 सिपाहियों को भी ले बीते। कोतवाली के अंतर्गत आने वाली नगर चौकी के तेरह सिपाहियों को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है। मुख्यमंत्री भी कर चुके हैं बेइज्जत बात मार्च 2021 की है। इस्पेक्टर रवि कुमार राम गुलरिहा के थानेदार थे। यहां हत्या के मामले में उन्होंने गजब का कोड कर डाला। इसकी पोल खुली मुख्यमंत्री के जनता दर्शन में बेलीपार थाना के चेरिया निवासी मीना देवी ने सीएम के पास पहुंच बताया कि उसके बेटे की हत्या के मामले में आरोपियों को रवि राम ने गिरफ्तार तक नहीं किया और उल्टे बचाने के लिए फाइनल रिपोर्ट लगा दी। यह सुन सीएम बहुत नाराज हुए। इसके बाद एसएसपी जोगेन्द्र कुमार को विस्तृत जांच के लिए कहा। फिर दो अपर पुलिस अधीक्षकों ने जांच में रवि राय को दोषी पाया फिर गोरखपुर में इसे लाइन हाजिर किया गया। सीएम के सामने जब इसकी पूरी पोल खुल गयी तब इसने बचने के लिए गोरखपुर से अपना तबादला महराजगंज करा लिया। CM ने दिया रवि राय के खिलाफ FIR का आदेश साल 2021 में गोरखपुर जिले के गुलरिहा थाना क्षेत्र के सराय गुलरिहा गांव में हत्या के प्रयास से संबंधित एक मामले में CIM दीपक नाथ सरस्वती ने तत्कालीन थानेदार रवि राय के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश दिया था। उच्च अफसरों को लड़ाने और गुमराह करने में माहिर है रवि राम डाइनामाइट न्यूज़ को चौकाने वाली जानकारी मिली है। कोतवाल रवि कुमार राय गजब का घाघ है और महकमे का पुराना चावल अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए कैसे जिले के अंदर और जिले के बाहर बड़े अफसरों को लड़ाना है… कोई इससे सिखे सबसे पहले यह अपने निशाने पर लेता है महकमे के अनुभवहीन अफसरों को फिर यह अपनी शातिर चाल चलता है। अंदर की खबर है कि इसने जिले के एक पुलिस अफसर को जोन के एक बड़े पुलिस अफसर से लड़ा दिया। यही नहीं जिले के अफसर को इसने इसी जिले के एक अन्य अफसर से लड़ा दिया। इन दोनों मामलों की महकमे के अंदर महराजगंज से लेकर गोरखपुर तक गजब की चर्चा है। बड़े अफसरों को झूठी सूचनायें देने में है माहिर हैं

चौंकाने वाली जानकारी मिली है कि पुलिसिया सूत्रों का कहना है कि दो साल के विवादित कार्यकाल के दौरान अधिकांश मामलों में यह अपनी सुविधा के हिसाब से जिले के बड़े अफसरों को रिपोर्ट देता था, इससे भी अधिक हैरानी की बात यह है कि ये अफसर इसके झांसे में आकर गोरखपुर और लखनऊ तक इसकी झूठी रिपोर्ट को सच मान अपनी मुहर लगाते जाते थे। दो साल के कार्यकाल की SIT से जांच की मांग शहर के तमाम लोग कोतवाल के दो साल के कार्यकाल की SIT से विस्तृत जांच की मांग कर रहे हैं। इनका कहना है कि जिन भी हाई प्रोफाइल मामलों की जांच कोतवाल ने की है और उनमें FR या चार्जशीट भेजी है, उनकी विस्तृत जांच SIT बनाकर की जाय तो उसमें मीना देवी के साथ हुए घनघोर अत्याचार जैसे कई मामलों का भंडाफोड होगा।

दो साल के कार्यकाल की SIT से जांच की मांग शहर के तमाम लोग कोतवाल के दो साल के कार्यकाल की SIT से विस्तृत जांच की मांग कर रहे हैं। इनका कहना है कि जिन भी हार्ड प्रोफाइल मामलों की जांच कोतवाल ने की है और उनमें FR या चार्जशीट भेजी है, उनकी विस्तृत जांच SIT बनाकर की जाय तो उसमें मीना देवी के साथ हुए घनघोर अत्याचार जैसे कई मामलों का भंडाफोड़ होगा।

आनंद गुप्ता संभालेंगे महराजगंज कोतवाली की कमान रवि राय की छुट्टी के बाद महराजगंज शहर का नया कोतवाल फरेन्दा के थानेदार आनंद कुमार गुप्ता को बनाया गया है। जबकि फरेन्दा का नया थानेदार अजीत कुमार सिंह को बनाया गया है।

महराजगंज: शहर कोतवाल रवि कुमार राय और 13 सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। लगभग दो साल से महराजगंज कोतवाली के थानेदार रहे रवि कुमार राय जबरदस्त विवादों में घिरे रहे।

कैसे अपने स्वार्थ के मुताबिक अनुभवहीन उच्च अफसरों को गुमराह करना है, इस बात की नयी परिपाटी जिले में विवादित कोतवाल रवि कुमार राय ने लिख डाली।

संवाददाता के मुताबिक शहर के एक संगीन मामले को लेकर महकमे के बड़े अफसरों के बीच में आपस में ही तलवारें खींच चुकी थीं। आखिरकार नतीजा कोतवाल के खिलाफ गया और इनको लाइन हाजिर कर दिया गया। ये तो गये ही साथ ही अपने काले-कारनामों की वजह से 13 सिपाहियों को भी ले बीते। कोतवाली के अंतर्गत आने वाली नगर चौकी के तेरह सिपाहियों को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है। 

मुख्यमंत्री भी कर चुके हैं बेइज्जत

बात मार्च 2021 की है। इंस्पेक्टर रवि कुमार राय गुलरिहा के थानेदार थे। यहां हत्या के मामले में उन्होंने गजब का कांड कर डाला। इसकी पोल खुली मुख्यमंत्री के जनता दर्शन में। बेलीपार थाना के चेरिया निवासी मीना देवी ने सीएम के पास पहुंच बताया कि उसके बेटे की हत्या के मामले में आरोपियों को रवि राय ने गिरफ्तार तक नहीं किया और उल्टे बचाने के लिए फाइनल रिपोर्ट लगा दी। यह सुन सीएम बहुत नाराज हुए। इसके बाद एसएसपी जोगेन्द्र कुमार को विस्तृत जांच के लिए कहा। फिर दो अपर पुलिस अधीक्षकों ने जांच में रवि राय को दोषी पाया फिर गोरखपुर में इसे लाइन हाजिर किया गया। सीएम के सामने जब इसकी पूरी पोल खुल गयी तब इसने बचने के लिए गोरखपुर से अपना तबादला महराजगंज करा लिया। 

CJM ने दिया रवि राय के खिलाफ FIR का आदेश

साल 2021 में गोरखपुर जिले के गुलरिहा थाना क्षेत्र के सराय गुलरिहा गांव में हत्या के प्रयास से संबंधित एक मामले में CJM दीपक नाथ सरस्वती ने तत्कालीन थानेदार रवि राय के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश दिया था। 

उच्च अफसरों को लड़ाने और गुमराह करने में माहिर है रवि राय

चौंकाने वाली जानकारी मिली है कि कोतवाल रवि कुमार राय गजब का घाघ है और महकमे का पुराना चावल। अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए कैसे जिले के अंदर और जिले के बाहर बड़े अफसरों को लड़ाना है… कोई इससे सिखे। सबसे पहले यह अपने निशाने पर लेता है महकमे के अनुभवहीन अफसरों को। फिर यह अपनी शातिर चालें चलता है। अंदर की खबर है कि इसने जिले के एक पुलिस अफसर को जोन के एक बड़े पुलिस अफसर से लड़ा दिया। यही नहीं जिले के अफसर को इसने इसी जिले के एक अन्य अफसर से लड़ा दिया। इन दोनों मामलों की महकमे के अंदर महराजगंज से लेकर गोरखपुर तक गजब की चर्चा है।

बड़े अफसरों को झूठी सूचनायें देने में है माहिर

पुलिसिया सूत्रों का कहना है कि दो साल के विवादित कार्यकाल के दौरान अधिकांश मामलों में यह अपनी सुविधा के हिसाब से जिले के बड़े अफसरों को रिपोर्ट देता था, इससे भी अधिक हैरानी की बात यह है कि ये अफसर इसके झांसे में आकर गोरखपुर और लखनऊ तक इसकी झूठी रिपोर्ट को सच मान अपनी मुहर लगाते जाते थे।

दो साल के कार्यकाल की SIT से जांच की मांग

शहर के तमाम लोग कोतवाल के दो साल के कार्यकाल की SIT से विस्तृत जांच की मांग कर रहे हैं। इनका कहना है कि जिन भी हाई-प्रोफाइल मामलों की जांच कोतवाल ने की है और उनमें FR या चार्जशीट भेजी है, उनकी विस्तृत जांच SIT बनाकर की जाय तो उसमें मीना देवी के साथ हुए घनघोर अत्याचार जैसे कई मामलों का भंड़ाफोड़ होगा। 

लाइन हाजिर सिपाहियों की सूची

आनंद गुप्ता संभालेंगे महराजगंज कोतवाली की कमान


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

रवि राय की छुट्टी के बाद महराजगंज शहर का नया कोतवाल फरेन्दा के थानेदार आनंद कुमार गुप्ता को बनाया गया है। जबकि फरेन्दा का नया थानेदार अजीत कुमार सिंह को बनाया गया है।

विज्ञापन बॉक्स