यहां मनाते हैं नाग दिवाली, ऐसे करते हैं नागराज की पूजा

113

कुछ बड़े त्यौहारों को छोड़ कर भारत के सभी राज्यों में अलग-अलग धार्मिक मान्यताएं और रीति-रिवाज देखने को मिलती हैं। इनमें से कुछ परंपराएं इतनी अजीबोगरीब होती हैं, इनमें से ही एक अनोखा त्यौहार है नाग दिवाली।

अभी तक तो आपने दीपावली और देव दिवाली का नाम सुना होगा, लेकिन नाग दिवाली त्यौहार का नाम शायद ही किसी ने सुना होगा।

उत्तराखंड के चमोली जिले में नाग दिवाली के त्यौहार को धूमधाम से मनाते हैं। नाग दिवाली मार्गशीर्ष माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाती है। इस दिन नागों की विशेष पूजा की जाती है। इस साल ये तिथि देव दिवाली से बीस दिन बाद यानी 8 दिसंबर बुधवार को पड़ रही है।

क्या है मान्यता ?
नाग दीपावली पर नागों के पूजन का विशेष महत्व है। नागों को पाताललोक का स्वामी कहा जाता है। मान्यता है कि इस मौके पर घरों में रंगोली बनाकर नाग के प्रतीक के सामने दीपक लगाने से मनचाहा फल मिलता है।

चमोली जिले के लोगों का मानना है कि नाग देवता के पूजन से जीवन की सभी समस्याओं का समाधान होता है। इनकी पूजा करने से कुंडली के कालसर्प दोष का पूरी तरह से निवारण हो जाता है। साथ ही जीवन में आ रही दुविधाओं से मुक्ति मिलती है।

चमोली जिले के बांण गांव में नाग देवता का एक रहस्यमयी मंदिर है। कहा जाता है कि यहां नागराज मौजूद हैं और अपनी मणि की खुद रक्षा करते हैं।

नागराज नागमणि की रक्षा करते हुए निरंतर फुककार से विष छोड़ते रहते हैं, तभी लोबथ करीब 80 फीट की दूरी से इनकी पूजा करते हैं।

वहीं मंदिर के पुजारी भी आंख-मुंह में पट्टी बांधकर पूजा करने मंदिर के पास जाते हैं। ये मंदिर मां पार्वती के चचेरे भाई लाटू के नाम पर बनाया गया है। पंडित मुंह पर कपड़ा बांध कर पूजा करते है जिससे फूंफकार ना पड़े।

वहीं मंदिर का कपाट साल में एक बार वैशाख पूर्णिमा पर खोला जाता है। इस दिन यहां विशाल मेला लगता है। ये मंदिर समुद्र तल से कुल 8500 फीट की ऊंचाई पर है।