बस्ती: घर में घुसकर महिला नायब तहसीलदार के कपड़े फाड़े:* राजस्व अधिकारी दरवाजा तोड़कर सरकारी घर में घुसा; रेप करने की कोशिश की

416

बस्‍ती में विवादों को पलभर में सुलझाने वाली लेडी मजिस्ट्रेट को अपनी इज्‍जत और जान बचाने के लिए बेड के नीचे छिपना पड़ना. यहां सदर तहसील के नायब तहसीलदार पर घर में घुसकर रेप की कोशिश के आरोप में मामला दर्ज किया गया है.

बस्‍ती: यूपी के बस्‍ती जिले से सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां विवादों को पलभर में सुलझाने वाली लेडी मजिस्ट्रेट को अपनी इज्‍जत और जान बचाने के लिए बेड के नीचे छिपना पड़ना. सदर तहसील के नायब तहसीलदार पर घर में घुसकर महिला नायब तहसीलदार से रेप की कोशिश का आरोप लगा है. महिला नायब तहसीलदार की शिकायत पर जांच शुरू कर दी गई.


महिला अधिकारी ने कोतवाली बस्ती में नायब तहसीलदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। महिला ने नायब तहसीलदार पर 11 नवंबर की देर रात घर में घुसकर दुष्कर्म करने कपड़े फाड़ने और जान से मारने के प्रयास का आरोप लगाया है। पुलिस मामले में मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। उधर जिलाधिकारी ने जांच टीम भी गठित की है।

बस्ती। राजस्व विभाग में तैनात महिला अधिकारी ने नायब तहसीलदार घनश्याम शुक्ल पर 11 नवंबर की रात घर में घुसकर दुष्कर्म का प्रयास करने के साथ जान से मारने की कोशिश करने का मुकदमा दर्ज कराया है। जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने मामले की जांच के लिए तीन महिला अधिकारियों की टीम गठित की है।

बस्ती में तैनात महिला अधिकारी ने पुलिस को बताया कि 11 नवंबर को वह अपने सरकारी आवास में अकेले सोई थीं। सदर तहसील में तैनात आरोपित नायब तहसीलदार रात करीब एक बजे उनका दरवाजा खटखटाने लगे। दरवाजा न खोलने पर वह घर के पिछले दरवाजे को तोड़कर अंदर घुस गए। नायब तहसीलदार घर में घुसते ही गालियां देने लगे और मारपीट कर शरीर पर कई जगह दांत से काट लिया। जमीन पर गिराने के बाद कपड़ा फाड़कर दुष्कर्म करने का प्रयास किया। विरोध के चलते सफल न होने पर उन्होंने गला दबाकर जान से मारने का प्रयास किया। महिला अधिकारी के बेसुध होने पर उन्हें मरा समझकर छोड़ गए।

तीन दिन तक सदमे में रहीं अधिकारी

महिला अधिकारी ने बताया कि घटना के चलते वह तीन दिन सदमे में रहीं। उनके पिता आवास पर आए लेकिन उन्होंने कुछ नहीं बताया। 15 नवंबर को वह घर चली गईं। शुक्रवार को हिम्मत जुटाकर उन्होंने पुलिस को तहरीर दी। महिला अधिकारी के साथ अनाचार की शिकायत मिलते ही हरकत में आए उच्चाधिकारियों ने ढांढस बंधाकर न्याय का भरोसा दिलाया।

एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह समेत कई लोगों ने सीएम व डीजीपी को ट्वीट कर कार्रवाई की मांग की है। नायब तहसीलदार का पक्ष जानने के लिए उनके मोबाइल नंबर 8004242820 पर फोन किया गया, लेकिन काल रिसीव नहीं हुआ ।

24 घंटे में जांच करने के निर्देश

जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिए तीन महिला अधिकारियों की टीम गठित की है। पुलिस क्षेत्राधिकारी रुधौली प्रीती खरवार की अध्यक्षता में गठित टीम में पीओ डूडा सुनीता सिंह व ईओ नगर पंचायत मुंडेरवा कीर्ति सिंह शामिल हैं। जांच टीम को 24 घंटे में रिपोर्ट देने को कहा गया है।

क्या कहते हैं अधिकारी

आरोपित नायब तहसीलदार के विरुद्ध घर में घुसकर मारपीट, दुष्कर्म का प्रयास, हत्या की कोशिश समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। पीड़िता का मेडिकल कराया गया है। सीओ ने पीड़िता का बयान दर्ज कर लिया है। साक्ष्य संकलन के पश्चात अगली कार्रवाई की जाएगी। गोपाल कृष्ण चौधरी, पुलिस अधीक्षक, बस्ती

घर में अकेली थीं, तभी धमक पड़ा आरोपी

दरअसल, सदर तहसील में तैनात लेडी मजिस्ट्रेट 12 नवंबर की रात घर में अकेली थीं. आरोप है कि नायब तहसीलदार रात करीब 1 बजे अचानक घर का दरवाजा खटखटाने लगे. आरोप है कि जब लेडी मजिस्ट्रेट ने दरवाजा नहीं खोला तो नायब तहसीलदार पीछे के दरवाजे को तोड़कर घर में घुस आए.

बेड के नीचे छिपकर बचाई जान

आरोप है कि नायब तहसीलदार ने पहले जमकर पिटाई की. इसके बाद दुष्‍कर्म की कोशिश की. विरोध किया तो शरीर के कई हिस्‍सों पर दांत से काट लिए. इतना ही नहीं पर्श पर भी पटक जबरदस्‍ती करने लगा, विरोध करने पर गला दबाकर हत्‍या की कोशिश की. किसी तरह बेड के नीचे छिपकर जान बचानी पड़ी.

परिजनों के साथ थाने पहुंची लेडी मजिस्ट्रेट

लेडी मजिस्ट्रेट ने बताया कि नायब तहसीलदार की इस करतूत की वजह से वह घर में ही तीन दिनों तक डरी सहमी रहीं. 15 नवंबर को तीन दिन की छुट्टी लेकर अपने माता-पिता के पास चली गईं. इसके बाद परिजनों के साथ थाने पहुंचकर आरोपी नायब तहसीलदार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई.

इन धाराओं में मुकदमा दर्ज

पूरे मामले में एएसपी दीपेंद्र चौधरी कहना है कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. नायब तहसीलदार के खिलाफ धारा 376, 307, 452, 323, 504, 354, 511 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. मामले की कोतवाली पुलिस से जांच कराई जा रही है. जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

दरवाजा तोड़ घुसा, कपड़े फाड़े… नायब तहसीलदार ने साथी महिला अधिकारी से की रेप की कोशिश

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में सरकारी महिला अफसर संग दुष्कर्म की कोशिश करने का मामला सामने आया है. जिले के सदर तहसील में तैनात महिला नायब तहसीलदार ने अपने ही समकक्ष नायब तहसीलदार घनश्याम शुक्ला पर अपनी इज्जत लूटने का आरोप लगाया है. महिला अफसर ने कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई है. पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार दिपावाली के दिन उनके सरकारी आवास के बगल में रहने वाले नायब तहसीलदार घनश्याम शुक्ला रात में करीब 1 बजे उनका दरवाजा खटखटाया. जब महिला अफसर ने दरवाजा नहीं खोला तो घनश्याम शुक्ला दरवाजा तोड़ते हुए महिला अफसर के घर में जबरन घुस गया. महिला संग जबरन दुष्कर्म करने की कोशिश करने लगा.

दरिंदगी की हद पार करते हुए घनश्याम शुक्ला ने महिला अफसर का गला तक दबा दिया. जब आरोपी घनश्याम शुक्ला को यह समझ आया कि महिला की मौत हो गई है. तब जाकर उसे छोड़ा. इसके बाद घनश्याम शुक्ला वहां से चला गया. पीड़िता अपने बेड की चादर की आड़ में छिप गई. लेकिन इस आहट को आरोपी ने सुन लिया. इसके बाद एकबार फिर उस महिला अफसर पर झपट पड़ा. महिला ने आरोपी को धक्का देकर बाहर निकल आई. आरोपी घनश्याम शुक्ला को कमरे में बाहर से बंद कर दिया.

पुलिस ने मामले में नहीं दिखाई दिलचस्पी

महिला ने पुलिस को बताया कि दीपावली की रात उसके लिए जीवन भर के लिए एक कला सपना बनकर रह गई है. महिला अफसर के साथ हुए इस जघन्य अपराध के बाद पुलिस ने मामले में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. इसके बाद इस मामले को बीजेपी के एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह ने ट्वीट किया. तब जाकर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया.

पुलिस ने इन धाराओं में दर्ज किया केस

आनन-फानन में देर रात महिला अधिकारी का पुलिस ने मेडिकल कराया. काफी मशक्कत करने के बाद महिला अधिकारी का मुकदमा पुलिस ने दर्ज कर लिया है. इस मामले में बस्ती पुलिस ने आरोपी नायब तहसीलदार घनश्याम शुक्ला के खिलाफ 376, 452, 323, 504, 354, 307 और 511 जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज करके आगे की छानबीन में जुट गई है.