बस्ती में कलक्ट्रेट में सपाइयों ने किया प्रदर्शन: पैदल मार्च करते हुए जमकर की नारेबाजी, तहसील में हो रहे भ्रष्टाचार का विरोध

83

बस्ती जिले में समाजवादी पार्टी की ओर से विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रदर्शन किया गया। शास़्त्री चौक से पैदल मार्च करते हुए समाजवादी पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं का हुजूम कलेक्ट्रेट पहुंचा और यहां प्रदर्शन और जमकर नारेबाजी की गई। इसके बाद राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा गया।

जिलाध्यक्ष और विधायक महेंद्र नाथ यादव ने कहा कि तहसील में लूट और भ्रष्टाचार मचा हुआ है। बिना पैसे के गरीब का कोई काम नहीं हो रहा है। थानों पर अगर गरीब न्याय मांगने जाता है तो गुंडो माफिया द्वारा सताया जाता है। इस तरीके का भय कायम किया जा रहा है, जिससे गरीब थाने पर न्याय मांगने भी न जाए। उन्होंने कहा कि जिले में दो-दो गन्ना मिल हैं। अभी तक कोई गन्ना मिल चालू नहीं हुई है न अभी महीने के अंदर चालू होने की संभावना है।

उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि बस्ती व वाल्टरगंज मिलों को चालू किया जाए। उन्होंने कहा कि जिले में किसान परेशान हैं। डीएपी खाद नहीं मिल रही है। डीएपी खाद की कालाबाजारी हो रही है धान का क्रय केंद्र कहीं खुला नहीं है। कोई थाना क्षेत्र नहीं बचा है, जहां महीनों में सैकड़ों चोरियां न हो रही हों, कहा कि सारे थानों में चोरियों का बाढ़ आ गया है। कहा कि पुलिस प्रशासन चोरी का मुकदमा तक नहीं लिख रहा है। प्रदर्शन करने वालों में यह रहे शामिल वहीं वरिष्ठ समाजवादी नेता चंद्रभूषण मिश्र ने कहा कि धान क्रय केंद्रों को खोला जाए। कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करने वालों में पूर्व मंत्री श्रीपत सिंह, अमेंद्र पांडेय शिब्लू, चम्पा भारद्वाज, अंकित कुमार पांडेय, उर्मिल मिश्रा, राजवंत यादव, सालिकराम गोंड, यूनिस आलम, अयाज अहमद, अरविंद सोनकर, विंधवासिनी निषाद, प्रिया श्रीवास्तव, आशुतोष श्रीवास्तव, प्रशांत कुमार यादव, समीर चौधरी, राजेश चौरसिया आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट – प्रमोद कुमार यादव