मुंबई – दुकानों पर मराठी साइन बोर्ड नहीं लगाने वालों पर कार्रवाई, दुसरे दिन 161 दुकानदारों पर कार्रवाई

137

मुंबई में मराठी बोर्ड (Marathi boards in Mumbai) न लगाने वाली दुकानों पर मुंबई नगर निगम (BMC) ने कार्रवाई शुरू कर दी है। मुंबई नगर निगम ने दुकानदारों को 27 नवंबर तक दुकानों पर मराठी बोर्ड लगाने की डेडलाइन दी थी। इसके बाद इस कार्रवाई के दूसरे दिन मुंबई नगर निगम ने 161 दुकानों पर कार्रवाई की।(Mumbai Action against those who do not put Marathi sign boards on shops)

मराठी साइनबोर्ड लगाना अनिवार्य

सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार अब 28 नवंबर से मुंबई नगरपालिका क्षेत्र में दुकानों और प्रतिष्ठानों पर मराठी में नेमप्लेट लगाना अनिवार्य है। सुप्रीम कोर्ट के इन निर्देशों पर नगर निगम प्रशासन ने अमल शुरू कर दिया है। इस कार्रवाई के सिलसिले में मुंबई नगर निगम ने बुधवार को 3 हजार 575 दुकानों और प्रतिष्ठानों का दौरा किया।

इस दौरे के दौरान नगर निगम प्रशासन के अधिकारियों ने 161 दुकानों पर कार्रवाई की.दुकानों पर कार्रवाई के लिए नगर निगम प्रशासन की ओर से टीमें तैनात की गई हैं। इन टीमों ने कल मंगलवार को 3 हजार 269 दुकानों और प्रतिष्ठानों का दौरा किया। इस कार्रवाई के दौरान नगर निगम प्रशासन की टीम ने 176 दुकानों पर कार्रवाई की। पिछले दो दिनों में प्रशासन की टीमों ने 337 दुकानों पर कार्रवाई की।

यह कार्रवाई अगली अवधि में भी जारी रहेगी। साथ ही मनपा प्रशासन ने मुंबई की सभी दुकानों पर मराठी में नाम बोर्ड लगाने की अपील की है।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बुधवार को मराठी में साइनबोर्ड नहीं लगाने पर 161 दुकानों और प्रतिष्ठानों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की। बीएमसी ने मुंबई में 3575 दुकानों और प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया। सुप्रीम कोर्ट के आदेश में दुकानदारों को मराठी साइनबोर्ड लगाने के लिए दो महीने की समय सीमा दी गई थी जो 25 नवंबर को समाप्त हो गई है।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बुधवार को मराठी में साइनबोर्ड नहीं लगाने पर 161 दुकानों और प्रतिष्ठानों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की। बीएमसी ने कहा कि अधिकारियों की टीम ने मुंबई में 3,575 दुकानों और प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया।

बीएमसी ने दुकानों के खिलाफ की कार्रवाई

इस दौरान 161 दुकानों और प्रतिष्ठानों के साइनबोर्ड को कोर्ट के निर्देशों और मराठी साइनबोर्ड के नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया गया। मंगलवार को अभियान के पहले दिन बीएमसी की टीम ने 3,269 दुकानों और प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया और 176 दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की। दो दिनों के भीतर 337 प्रतिष्ठानों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

सुप्रीम कोर्ट की समय-सीमा खत्म

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश में दुकानदारों को मराठी साइनबोर्ड लगाने के लिए दो महीने की समय सीमा दी गई थी जो 25 नवंबर को समाप्त हो गई है।

एमएनएस कार्यकर्ताओं ने जताई आपत्ति

एमएनएस कार्यकर्ताओं ने गैर मराठी भाषामें लिखे साइनबोर्ड पर पोत दी कालिख महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को लातूर में कई दुकानों और प्रतिष्ठानों के साइनबोर्ड पर कालिख पोत दी। साइनबोर्ड राजकीय भाषा मराठी के बजाय अंग्रेजी में लिखा हुआ था।