बस्ती: ग्राम पंचायत डहडा मिश्र का पंचायत भवन बना ग्रामीण का आशियाना

107

बस्ती ( विक्रमजोत ) – प्रदेश सरकार के आदेशानुसार प्रत्येक ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन निर्माण कार्य चल रहा है और कुछ ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है एवं कुछ ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधान एवं सचिव लापरवाही / उदासीनता से निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है । विकासखण्ड विक्रमजोत में कुछ ग्राम पंचायतों में पुराना पंचायत भवन है । प्रत्येक ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन में कम्प्यूटर सामाग्री , सीसीटीवी फुटेज , कुर्सी मेज , आलमारी इत्यादि सामाग्री की खरीदारी करने के लिए सरकार ने सरकारी धन दिया था और प्रत्येक ग्राम पंचायतों में कम्प्यूटर समेत अन्य सामाग्री की खरीददारी कर ली गयी है और कुछ पंचायत भवन पर कम्प्यूटर समेत अन्य सामाग्री रखा भी गया है लेकिन कुछ ग्राम पंचायतों में सरकारी धन निकाल कर मात्र कागजों में उपकरण की खरीददारी कर ली गयी है । प्रत्येक पंचायत भवन पर एक पंचायत सहायक की नियुक्ति की गयी है । प्रत्येक पंचायत सहायक को 6000 रुपये मानदेय भी दिया जा रहा है । कुछ पंचायत सहायक पंचायत भवन पर कार्य कर रहे हैं और कुछ पंचायत सहायक मात्र कागज में डियूटी करके ग्राम प्रधान एवं सचिव की मिलीभगत से सरकारी का बंदरबांट करने में नही चूक रहे हैं । इसी क्रम में ग्राम पंचायत डहडा मिश्र में पुराना पंचायत भवन है जिस पर कभी कोई अधिकारी / कर्मचारी आता नही है और पंचायत सहायक की नियुक्ति हुई या नही ग्राम पंचायत में ग्रामीणों को नही पता है । वर्तमान समय में डहडा पंचायत भवन पर एक ग्रामीण अपना जीवन यापन कर रहा है। ग्रामीण ने बताया कि हमार घर गांव में है लेकिन हमे ग्राम प्रधान अभय सिंह ने कहा कि तुम पंचायत पर रहो क्योंकि पंचायत भवन पर कभी कोई आता जाता नही है तुम अपना यापन करो । ग्राम पंचायत डहडा मिश्र में पंचायत भवन भ्रष्टाचार की पोल खोल रहा है और जिम्मेदार अधिकारी / कर्मचारी सरकार की मंशा पर पानी फेर रहे हैं । मीडिया टीम ने इस सम्बंध में ग्राम प्रधान अभय सिंह ने जानकारी के लिए फोन किया तो मीडिया के फोन को ग्राम प्रधान अभय सिंह ने उठाना उचित नहीं समझा और फोन को काट दिया । उक्त प्रकरण में खण्ड विकास अधिकारी विक्रमजोत ने मीडिया टीम से फोन के माध्यम से बताया कि पंचायत भवन में किसी ग्रामीण को निवास करने का कोई शासनादेश जारी नहीं है। यदि पंचायत भवन में कोई निवास कर रहा है तो शासनादेश के खिलाफ है इस मामले की जांच कराकर सम्बंधित के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।