बस्ती: रास्ते के आभाव में मेड़ के सहारे आने – जाने के लिए मजबूर गरीब निषाद परिवार , सीएम से लगाई न्याय की गुहार

78

बस्ती (गौर ) – अंग्रेजों से देश तो आजाद हुए लगभग 76 वर्ष पूर्ण हो गया लेकिन बस्ती जिले के विकासखण्ड गौर के अर्न्तगत ग्राम पंचायत जलालाबाद में कुछ गरीब निषाद परिवार आज भी गुलाम है अर्थात गरीब निषाद परिवार देश आजादी से रास्ते के आभाव में मेड़ के सहारे आने – जाने के लिए मजबूर है । पूर्वजों ने रास्ते के लिए अथक प्रयास किया था और अथक प्रयास करके मर भी गये लेकिन आने – जाने के लिए घर तक रास्ता नही मिला एवं जो आने – जाने के लिए रास्ता मिला था उसको भी खेत के अगल बगल वाले काट – काट कर रास्ते को मेड़ में तब्दील कर दिया है ।
आपको बता दें कि ग्राम पंचायत जलालाबाद के गरीब निषाद परिवार के घर कोई सदस्य बीमार हो गए तो लगभग 01 किमी दूर चारपाई पर लादकर मुख्य रास्ते पर ले जाना पड़ता है । अभी जल्द मे गरीब निषाद परिवार की नई बहू का इलाज के दौरान निधन हो गया था तो लाश को चारपाई से लादकर घर लाया गया था । मेड़ पर मिट्टी न होने के कारण बरसात में पानी भरा रहता है । गरीब निषाद परिवार को बरसात के दिनों में एक फिट पानी में हल कर आना जाना पड़ता है । पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया है कि पूर्व प्रधान लाल चन्द्र पुत्र रामदेव द्वारा वर्ष 2019 मई में राम फेर के घर भेल्लर के घर तक मिट्टी एवं खड़ंजा के नाम पर लगभग 255000 रुपये का भुगतान भी प्राप्त किया जा चुका है । पीड़ित परिवार उपजिलाधिकरी हर्रैया , तहसील दिवस हर्रैया , थाना पैकोलिया , थाना दिवस पैकोलिया , जिलाधिकारी बस्ती एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से रास्ते के लिए न्याय की गुहार लगाई है लेकिन किसी अधिकारी के द्वारा रास्ते के आभाव में मेड़ के सहारे आने – जाने वाले गरीब निषाद परिवार की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लिया है । पीड़ित परिवारों के द्वारा कई बार शिकायत की जांच करने पहुंचे अधिकारी / कर्मचारी उल्टी – सीधी रिपोर्ट लगाकर मामले का निस्तारण कर देते हैं ।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिनके खेत के बगल से निषाद परिवार मेड़ के सहारे आते – जाते हैं वे लोग बंजर भूमि (सरकारी भूमि ) अवैध रूप से कब्जा किये है । इधर बंजर भूमि कब्जा किये है उधर मेड़ के रास्ते को काट – काट कर पतला कर रहे हैं । वर्तमान ग्राम प्रधान से कई बार पीड़ित रास्ते की समस्या के लिए कहा है लेकिन ग्राम प्रधान कहते हैं कि हम रास्ता कहा से बना दे क्योंकि हमें दोनों पक्षों को लेकर चलना है हम तुम लोगों के रास्ते के लिए किसी से विवाद नही करेंगें । इस सम्बंध में पूर्व प्रधान लालचन्द्र से मीडिया टीम ने राम फेर के घर से भल्लर के घर तक मिट्टी कार्य एवं खड़ंजा निर्माण कार्य के नाम 255000 रुपये निकाल कर कार्य पूर्ण न होने के बारे में जानकारी प्राप्त किया तो पूर्व प्रधान लाल चन्द्र ने बताया कि उक्त सड़क निर्माण कार्य के लिए मई 2019 में कोई सरकारी धन नही निकाला गया था मात्र सड़क निर्माण कार्य के लिए स्टीमेट बनाया गया था ।