UP: विपक्षी सांसदों के निलंबन पर मायावती बोलीं- सभापति का मजाक उड़ाना अनुचित और अशोभनीय

97

संसद से विपक्षी सांसदों के निलंबन का मामला लगातार बढ़ता जा रहा है। इसको लेकर बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने गुरुवार को यानी आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रतिक्रिया दी है। मायावती ने कहा कि संसद के वर्तमान सत्र के दौरान दोनों सदनों के रिकॉर्ड संख्या में लगभग 150 विपक्षी सांसदों का निलंबन होना सरकार और विपक्ष के लिए दोनों के लिए अच्छा नहीं है।

विपक्ष विहीन संसद में विधेयकों का पारित होना अच्छी परंपरा नहीं

बसपा चीफ मायावती ने इस घटना को संसदीय इतिहास के लिए दुखद, दुर्भाग्यपूर्ण व लोगों को आघात पहुंचाने वाला बताया। उन्होंने कहा कि इसी दौरान सभापति का संसद में मजाक उड़ाने का वीडियो वायरल होना अनुचित व अशोभनिय है। इस प्रकार से सरकार व विपक्ष के बीच जबरदस्त मतभेद व तनाव वाली घटनाओं से देश के लोकतंत्र संसदीय परंपराओं को बचाना बहुत ही जरूरी है। साथ ही विपक्ष विहिन संसद में देश व आमजन से जुड़े देशहित के विधेयकों का पारित होना अच्छी परंपरा नहीं है।

बसपा चीफ मायावती का कहना है कि संसद में हाल ही में हुआ सुरक्षा उल्लंघन भी ठीक नहीं है। यह बेहद गंभीर और चिंता का विषय है। ऐसे में हमें मिलकर संसद की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। एक-दूसरे पर दबाव डालने से काम नहीं चलेगा। आरोपियों और साजिशकर्ताओं के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जानी जरूरी है।

Also Read: ‘मिमिक्री’ मामले पर योगी बोले- उपराष्ट्रपति के प्रति विपक्ष का आचरण असंसदीय, अशोभनीय और अक्षम्य

बता दें कि संसद की सुरक्षा में चूक होना भी एक गंभीर मामला है। इसे लेकर बुधवार को लोकसभा से दो और सांसदों केरल कांग्रेस के केसी थॉमस व माकपा के एएम आरिफ को पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया। ये तख्तियों के साथ वेल में नारेबाजी कर रहे थे। अब तक निलंबित 143 में से लोकसभा के 118 और राज्यसभा के 25 सांसद हैं।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )