कूड़ा उठान की वसूली पर रोक लगाने को सभासदों की मांग

77

नगर विकास राज्य मंत्री व डीएम हो सौंपे अलग-अलग ज्ञापन

श्रावस्ती सीतापुर। शहर में डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन की नि:शुल्क सुविधा को बंद कर अब गृह स्वामी व व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के मालिकों को आगामी एक जनवरी से मोटी रकम खर्च करनी होगी। नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी वैभव त्रिपाठी की इस कारगुजारी को लेकर पहले शहर के बाशिंदों में विरोध के स्वर मुखर हुए और बाद में शहर के सभासद भी लामबंद हो गए हैं।
शहर के सभासदों ने पहले नगर विकास राज्य मंत्री राकेश राठौर गुरू को और फिर जिलाधिकारी के नाम संबोधित एक ज्ञापन एडीएम को सौंप कर नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी वैभव त्रिपाठी की मनमानी पर रोक लगाने की मांग करते हुए कूड़ा उठान के नाम पर आागमी एक जनवरी से होने वाली अवैध वसूली को तत्काल रोकने की मांग की है। अपने ज्ञापन में सभासदों ने कहा है कि अधिशासी अधिकारी द्वारा शासन से कोई अनुमति लिए बिना अथवा नगर पालिका के बोर्ड में इस प्रस्ताव को पारित किए बिना ही कूड़ा उठान के नाम पर अवैधी वसूली का फरमान जारी कर दिया है। सभासदों का यह भी कहना है कि नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी वैभव त्रिपाठी अपनी हठधर्मिता के चलते बिना बोर्ड में कोई प्रस्ताव के ही लगातार शहर के लोगों पर टैक्स का बोझ डाल रहे हैं। उनकी इस मनमानी से शहर के लोगों में जबरदस्त असंतोष एवं आक्रोश व्याप्त है। अपने ज्ञापन के माध्यम से सभासदों ने मांग की है कि अधिशासी अधिकारी के अनाप-शनाप निर्णयों को रोकर बोर्ड के अधिकारों को सुरक्षित किया जाए एवं जनता को न्याय दिलाया जाए। इस मौके पर सभासद राकेश गुप्ता पिंकू, केके रस्तोगी, धीरज पाण्डेय, नितिन सिंह, कंचन मेहरोत्रा, रिजवान खान, लज्जावती, सुरेश चंद्र, विष्णुजी वर्मा, विनोद गिहार, कुसुम लता, किशोरी लाल, सायरा बानो, फूलजहां, रफिया खातून, रामेश्वरी, रामनाथ, संजय राठौर, आकाश वर्मा, सर्वेश विश्वकर्मा, सुनीता यादव, प्रशांत श्रीवास्तव, संजीव प्रताप सिंह, मो. सलीम, राम सरन और रामेश्वरी यादव प्रमुख रूप से मौजूद रहे।