राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा: अखिलेश के बयान पर दिनेश शर्मा का पलटवार, बोले- क्या कारसेवकों पर गोली चलाने के लिए उन्हें मिला था कोई निमंत्रण

172

22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस प्राण प्रतिष्ठा में सम्मिलित होंगे। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने इस भव्य कार्यक्रम में शामिल होने के लिए देशभर में लोगों को निमंत्रण भेजा है। अलग-अलग दलों के प्रमुख नेताओं को भी ट्रस्ट की ओर से इनविटेशन भेजे गए हैं। हालांकि, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव का कहना है कि उन्हें अभी निमंत्रण नहीं मिला है। इस पर भाजपा के राज्यसभा सदस्य और पूर्व डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा (Dr. Dinesh Sharma) ने अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को आड़े हाथ लिया है।

रामलला से मांगी चाहिए माफी

दिनेश शर्मा ने कहा कि क्या कारसेवकों पर गोली चलाने के लिए उन्हें कोई निमंत्रण मिला था। तब तो यह नहीं कहा था कि निमंत्रण नहीं मिला तो गोली नहीं चलाएंगे। गोली चलाने के लिए निमंत्रण की प्रतिक्षा नहीं है और रामलला के दर्शन करने के लिए निमंत्रण की प्रतिक्षा क्यों है।

Also Read: UP: स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर समाजवादी पार्टी में गरमाई राजनीति, 2 धड़ों में बंटे पार्टी नेता, अखिलेश बना सकते हैं गाइडलाइन

उन्होंने कहा कि जब सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ गया तो एक अच्छे नागरिक की तरह, एक सनातनी के तौर पर सपरिवार जाकर रामलला के चरणों में प्रणाम जरूर करना चाहिए था और रामलला से यह भी कहना चाहिए था कि रामलला जो भी आपके बारे में गलत बयानी हमारी पार्टी के लोगों ने की है उसके प्रति हमें खेद है। यह कांग्रेस को भी करना चाहिए था। समाजवादी पार्टी को भी यह करना चाहिए था और डीएमके को भी करना चाहिए था।

आईएनडीआईए गठबंधन का है हिडेन एजेंडा 

वहीं, समाजवादी पार्टी के महाब्राह्मण सम्मेलन को लेकर उन्होंने कहा कि सबको सब कुछ करने का अधिकार है, लेकिन उन्हें लगता है कि ब्राह्मण को सम्मेलन नहीं सम्मान की जरूरत है और समाजवादी पार्टी उनका अपमान पर अपमान करती जा रही है। सनातन का भी, हिंदू का भी, लक्ष्मी माता का भी, श्रीरामचरित मानस को प्रतिबंधित करने की बात उनकी पार्टी में लोग कहते हैं। ऐसे शब्दों का प्रयोग करने वाले व्यक्ति का लगातार समाजवादी पार्टी में प्रमोशन भी होता जा रहा है। इसका मतलब है कि आईएनडीआईए गठबंधन का एक एजेंडा है और यह हिडेन एजेंडा है।

Also Read: ‘हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं, ये एक धोखा है…’ सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य की विवादित बयानबाजी का वीडियो वायरल

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )