बस्ती: अचेतावस्था में मिले बंगाली स्वीट हाउस संचालक दंपती, मेडिकल कॉलेज रेफर

190

एएसपी ओपी सिंह ने कहा कि मामला अभी संज्ञान में नहीं है। थानेदार को मौके पर भेजा गया है। यह जानकारी मिली है कि उन्हें गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा चुका है।

स्थानीय बाजार में बंगाली स्वीट हाउस के नाम से मिठाई की दुकान चलाने वाले एक दंपती संदिग्ध परिस्थितियों में घर में अचेतावस्था में मिले। जब देर तक दुकान स्वामी प्रतिष्ठान पर नहीं पहुंचे तो उनके साथ दुकान पर काम करने वाला ममेरा भाई घर चाबी लेने पहुंचा।

यहां दरवाजा खुलवाने की कोशिश किया तो दरवाजा नहीं खुला। छत पर किसी तरह चढ़ कर वह भीतर पहुंचे। यहां पति-पत्नी को बेहोश पाया। इसकी जानकारी दुकान के अन्य लोगों को दी। मौके पर पहुंचे ग्रामीण व दुकान के कर्मियों ने पति-पत्नी को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां से उन्हें गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।

विजय बंगाली बनकटी कस्बे में किराए पर दुकान लेकर कई वर्षों से मिठाई की दुकान चलाते हैं। बाजार से कुछ दूरी पर किराए के मकान में वह परिवार सहित रहते हैं। शुक्रवार की शाम दुकान अपने सहयोगियों के भरोसे छोड़कर घर पर चले गए। शनिवार की सुबह जब वह काफी देर तक दुकान पर नहीं पहुंचे तो उनके सहयोगी ममेरे भाई रानू उनका हालचाल लेने कमरे पर गए।
वहां दरवाजा बंद देख कर वह आवाज लगाने लगे, लेकिन देर तक कोई जवाब न मिलने पर वह मकान मालिक व आसपास के लोगों को सूचित किया। इसके बाद सीढ़ी के सहारे छत पर चढ़कर खिड़की के रास्ते से भी आवाज लगाई, जब कोई जवाब नहीं आया तो वह सीढ़ी के रास्ते कमरे में पहुंचा तो देखा कि विजय बंगाली (35) और उनकी पत्नी मंदिरा (30) अचेतावस्था में बिस्तर पर पड़े हैं, जबकि तीन साल का बेटा विप्रो उनकी बगल में सो रहा था।

इसके बाद ममेरे भाई ने दरवाजे की चाबी ढूंढ कर सामने का गेट खोला। इसके बाद दंपति को ग्रामीणों के सहयोग से जिला अस्पताल ले गए। वहां गंभीर हालत को डॉक्टरों ने दोपहर बाद मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के लिए रेफर कर दिया। थानाध्यक्ष लालगंज जितेंद्र सिंह ने बताया मामला अभी तक संज्ञान में नहीं आया है। क्या मामला है इसकी जानकारी ली जाएगी।

बोले एएसपी
एएसपी ओपी सिंह ने कहा कि मामला अभी संज्ञान में नहीं है। थानेदार को मौके पर भेजा गया है। यह जानकारी मिली है कि उन्हें गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा चुका है।