राजधानी भोपाल से आर्थिक राजधानी इन्दौर दौड़ेगी मैट्रो, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेट्रो मॉडल कोच का किया अनावरण

105
भोपाल मेट्रो सितंबर में ट्रायल के लिए पटरी पर दौड़ेगी, लेकिन 26 अगस्त को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके मॉडल का उद्घाटन किया. यह मॉडल पटरी पर तो नहीं दौड़ेगा, लेकिन जनता इसे देखकर भोपाल मेट्रो का अनुभव ले सकेगी

भोपाल-इंदौर मेट्रो परियोजना दिसंबर 2026 तक पूरी हो जाएगी। मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत भोपाल-इंदौर ऑरेंज लाइन और ब्लू लाइन का निर्माण किया जा रहा है।

भोपाल मेट्रो सितंबर में ट्रायल के लिए पटरी पर दौड़ेगी, लेकिन 26 अगस्त को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके मॉडल का उद्घाटन किया. यह मॉडल पटरी पर तो नहीं दौड़ेगा, लेकिन जनता इसे देखकर भोपाल मेट्रो का अनुभव ले सकेगी। मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत भोपाल-इंदौर ऑरेंज लाइन और ब्लू लाइन का निर्माण किया जा रहा है।

भोपाल-इंदौर मेट्रो परियोजना दिसंबर 2026 तक पूरी हो जाएगी। भोपाल मेट्रो की लंबाई 31 किमी है और इसकी लागत 7000 करोड़ रुपये है जबकि इंदौर मेट्रो लाइन की लंबाई भी 31 किमी है और इसकी लागत 7500 करोड़ रुपये है।

भोपाल और इंदौर मेट्रो की खासियत

स्वचालित दरवाजे, स्टार्ट-स्टॉप और आपातकालीन हैंडलिंग

साइबर हमलों और हैकिंग से सुरक्षित
यात्री सुरक्षा के लिए स्वचालित बाधा और पटरी से उतरने का पता लगाना
कोच में 50 यात्रियों के बैठने की क्षमता और 300 यात्रियों के खड़े होने की क्षमता है।
हर दो मिनट में आगमन और प्रस्थान की आवृत्ति
ब्रेक के साथ ऊर्जा पुनर्जनन तकनीक के माध्यम से ऊर्जा की बचत
कोच में होगी रोगाणु नियंत्रण और एयर-फिल्टरेशन तकनीक, हवा रहेगी हमेशा साफ
कोचों में एआई तकनीक से संचालित सीसीटीवी लगाए जाएंगे
स्वचालित वस्तु पहचान (कैमरा चेहरों को पहचान लेगा)

स्वचालित और स्मार्ट प्रकाश नियंत्रण प्रणाली
उच्च स्तरीय यात्री सुरक्षा (HL3 मानक)
दिव्यांग व्यक्तियों के लिए विशेष व्हीलचेयर और बैठने की उपयुक्त व्यवस्था
कोच रखरखाव के लिए 15 वर्ष की सेवा गारंटी
भोपाल-इंदौर मेट्रो क्या खास बनाती है?

वायर मेष मुक्त विद्युतीकरण प्रणाली 750 वी डीसी तीसरी रेल
मप्र में पहली बार 132 केवी बिजली आपूर्ति भूमिगत केबल नेटवर्क

बेहतर मानव सुरक्षा के लिए मोटर चालित शॉर्ट सर्किट उपकरण
आपातकालीन यात्री निकासी के लिए तीसरी रेल पावर का स्वचालित स्विच
छत पर सोलर पैनल
स्टेशन की विशेषताएं

ऊर्जा-बचत स्वचालित प्रकाश नियंत्रण के साथ स्मार्ट प्रकाश व्यवस्था
यात्री सुरक्षा के लिए अग्निशमन प्रणाली

प्लेटफार्म पर आपातकालीन बिजली स्विच ऑफ प्रणाली

ऊर्जा कुशल एयर कंडीशनर
ईवी चार्जिंग से सुसज्जित स्टेशनों के साथ दोपहिया पार्किंग
स्टेशन के सार्वजनिक क्षेत्रों में यात्रियों के लिए मोबाइल चार्जिंग पॉइंट उपलब्ध होंगे
कम धुआं शून्य हैलोजन केबल
सिगर्लिंग और टेलीकॉम

कुशल परिचालन क्षमता और समय की बचत के लिए उन्नत सीबीटीसी प्रौद्योगिकी और स्वचालित टाइम टेबल विनियमन (एटीआर) प्रणाली
सुरक्षित और कुशल संचालन के लिए ऑपरेशनल टेक्नोलॉजी (ओटी) साइबर सुरक्षा मेनलाइन संचालन के साथ बेहतर

एकीकरण के लिए सीबीटीसी क्षमता के साथ उन्नत डिपो संचालन

सुचारू और सुरक्षित चालक रहित ट्रेन संचालन के लिए घुसपैठ का पता लगाने वाली प्रणाली (आईडीएमएस)।
फाइबर ऑप्टिक ट्रांसमिशन सिस्टम यात्रियों को समय पर जानकारी प्रदान करता है
लिफ्ट और एस्केलेटर

विकलांगों और अन्य यात्रियों के लिए लिफ्ट और एस्केलेटर
जमीनी स्तर से कॉनकोर्स स्तर तक और कॉनकोर्स स्तर से प्लेटफार्म स्तर तक उठाएँ
दृष्टिहीनों के लिए लिफ्ट कारों और लैंडिंग के अंदर ब्रेल बटन
आपातकालीन स्थिति में सभी लिफ्टों में स्टेशन नियंत्रण कक्ष से जुड़े लिफ्ट के अंदर ऑटो कॉल सुविधा, इंटरकॉम और अलार्म
एलिवेटर फायर अलार्म सिस्टम के साथ एकीकृत स्टेशन की सभी लिफ्टों में सभी आवश्यक आपातकालीन निकासी संकेत उपलब्ध कराए गए हैं। प्रवेश और निकास दोनों प्लेटफार्मों तक पहुंचने के लिए एस्केलेटर

रिपोर्ट – दिनेश शर्मा