सिद्धार्थनगर: बिस्कोहर में तहसीलदार-खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम का छापा..बिना लाइसेंस संचालित मिली मिठाई की फैक्ट्री, टीम ने जांच को लिए नमूने

63

तहसीलदार इटवा देवेंद्र मणि त्रिपाठी एवं सहायक आयुक्त खाद्य सिद्धार्थनगर गिरजेश कुमार दुबे के नेतृत्व में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने बिस्कोहर नगर पंचायत मुख्यालय पर छापेमारी की। यहां बिना लाइसेंस सोनपापड़ी मिठाई का कारखाना चलता पाया गया। टीम ने जांच के वास्ते चार नमूने संग्रहित किए। जबकि मिठाई फैक्ट्री काे बंद करने की हिदायत दी गई। टीम की ओर से कहा गया कि इससे संबंधित नोटिस भी जारी की जाएगी। टीम ने बिस्कोहर के अलावा धोबहा में भी छापेमारी की। जहां करीब 90 किलो दूषित मिठाई पाई गई, सभी मिठाई को वहीं पर नष्ट कराया गया।
तहसीलदार व सहायक आयुक्त खाद्य गिरजेश कुमार दुबे के नेतृत्व में खाद्य सुरक्षा अधिकारी चंद्रभानु, डीके यादव, रवीन्द्र नाथ वर्मा व पीके वर्मा की टीम ने बिस्कोहर स्थित दुर्गेश जायसवाल की फैक्ट्री पर छापेमारी की। जांच में पता चला कि बिना लाइसेंस इसका संचालन किया जा रहा था। यहां बड़े पैमाने पर सोनपापड़ी बनाई जाती है। टीम ने पपड़ी, बेसन, रिफाइंड पामोलीन आयल व वनस्पति के 4 नमूने संग्रहित किए। जिसे जांच के लिए खाद्य विशलेषक प्रयोगशाला भेजा जाएगा।


यहां भी की गई छापेमारी

इसी कड़ी में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने इटवा थानांतर्गत धोबहा बाजार में यादव स्वीट्स के यहां से 80 किलो और चौधरी स्वीट्स के यहां से 10 किलो बर्फी व मिल्क केक पकड़ा जो दूषित अवस्था में मिला। टीम ने सारी मिठाइयों को नष्ट कराया और दुकानदार को हिदायत दी कि शुद्ध मिठाई की ही बिक्री करें।


सहायक आयुक्त खाद्य बोले- जारी की जाएगी नोटिस

सहायक आयुक्त खाद्य गिरजेश कुमार दुबे ने बताया कि बिस्कोहर में बिना लाइसेंस सोनपापड़ी बनाने का कारखाना चल रहा था। चार वस्तुओं की सैंपलिंग की गई है। कारखाने को बंद करने के लिए नोटिस जारी की जाएगी। धोबहर में 90 किलो दूषित मिठाई नष्ट कराई गई। दूषित एवं मिलावटी मिठाई तथा अन्य खाद्य सामग्री का निर्माण व बिक्री नहीं होने दी जाएगी।

विज्ञापन बॉक्स