सूख गई फसल तो किसान ने कर लिया सुसाइड:परिजन बोले- बारिश ना होने बर्बाद हो गई फसल, इसलिए लगा ली फांसी

179

ललितपुर में गुरुवार की सुबह एक किसान ने सुसाइड कर लिया। परिजनों की मानें तो फसल सूखने के बाद से किसान टेंशन में था।सुबह-सवेरे वो चारा काटने की बात कहकर घर से निकला था। कुछ ही देर बाद गांव के लोगों ने परिजनों को बताया कि किसान का शव पेड़ से लटका हुआ है। मौके पर पहुंचे परिजनों ने पुलिस को सूचना दी।

मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। मामले में पुलिस ने परिजनों के साथ-साथ गांव के लोगों का बयान भी दर्ज किया है। किसान की सुसाइड की खबर सुन आसपास के कई गांवों के लोग मौके पर पहुंच गए।

ये किसान की फाइल फोटो है, जो परिजनों ने साझा की है।

घर में सबसे बड़ा था जसवंत

पूरा मामला जिले के बार थाना के देवरान गांव का है। यहां मनलखान सिंह राजपूत के 55 वर्षीय पुत्र जसवंत सिंह राजपूत ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। जसवंत का शव उसी के खेते में पेड़ से लटकता मिला। जसवंत तीन भाई-बहन में सबसे बड़ा था। उसके एक पुत्र और दो बेटियां हैं। एक बेटी की शादी हो चुकी थी।

यह भी पढ़ेंः नवंबर या दिसंबर, जाने कब आएगी पीएम किसान सम्मान निधि की 15वीं किस्त

चाचा वीर सिंह ने बात करते हुए बताया, ”जसवंत घर का सबसे बड़ा था। उसने 7-8 एकड़ में फसल लगाई थी। बारिश नहीं होने से फसल बर्बाद हो गई है। उसने फसल के लिए कर्जा भी लिया था। फसल खराब होने के चलते ही जसवंत ने ऐसा किया है। वो बटाई में भी खेत लिए हुए था। कम से कम 3 लाख का कर्जा लिया होगा। वो सिर्फ और सिर्फ खेती-किसानी ही करता था। जसवंत की आय का कोई दूसरा साधन नहीं था और न ही कोई और बात थी कि जिससे तंग आकर वो ऐसा करता।”

ये पोस्टमॉर्टम हाउस के बाहर खड़े किसान जसवंत के परिजन हैं।
ये पोस्टमॉर्टम हाउस के बाहर खड़े किसान जसवंत के परिजन हैं।

दो-तीन दिन से गुमसुम था, बहनें आई लेकिन…

चाचा ने कहा, ”जसवंत दो-तीन दिन से गुमसुम था। वो किसी से बात नहीं कर रहा था। बार-बार खेतों पर जाता था। आज राखी का त्योहार था, तो उसकी बहनें आने वाली थी। घर वाले सभी जल्दी उठ गए थे। वो भी उठा और फिर बस खेत की ओर चला गया। उसने घर वालों को बताया था कि चारा काटने जा रहा हूं।” वहीं, भतीजे नरेंद्र ने बताया कि कृषि की भूमि दादा जी के नाम 7 एकड़ व दादी के नाम डेढ़ एकड़ के लगभग है। इसी भूमि पर ताऊ और चाचा खेती करते हैं।

यह भी पढ़ेंः ‘मन की बात’ कार्यक्रम में PM मोदी ने की यूपी की सराहना, CM योगी ने जताया आभार

जसवंत के परिजनों के मुताबिक उसने मूंगफली-उड़द और मक्के की फसल बोई थी। थानाध्यक्ष मनोज कुमार मिश्रा ने कहा कि किसान के शव का पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है। मामले में जांच-पड़ताल जारी है।

क्या बोले अधिकारी

जिलाधिकारी आलोक सिंह ने बताया कि ललितपुर में अच्छी फसल हुई है। वह लगातार किसानों से बात कर रहे हैं। दो दिन पहले ही किसानों से बात हुई है। सभी ने बताया कि अच्छी फसल हुई है। जसवंत नाम के किसान ने किन कारणों से आत्महत्या की। इसकी जांच कराई जाएगी।

उप कृषि निदेशक बसन्त कुमार ने बताया कि मूंगफली की फसल अच्छी हुई है। दलहन व तिलहन की फसल को कोई नुकसान नहीं है। वहीं, उप जिलाधिकारी तालबेहट श्रीराम यादव ने बताया कि मामले की जानकारी मिलते ही, मौके पर जांच के लिए लेखपाल को भेजा गया है। वैसे अभी तक किसी भी गांव से फसल खराब होने की सूचना नहीं है। आत्महत्या करने के दूसरे कारण भी हो सकते हैं। जांच-रिपोर्ट के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः नवंबर या दिसंबर, जाने कब आएगी पीएम किसान सम्मान निधि की 15वीं किस्त