श्रावस्ती में घर पर अवैध कब्जे का प्रयास:दिनदहाड़े घर की महिलाओं घर में के अंदर भेजा, घर से हट नहीं रही महिलाएं

104

श्रावस्ती में एक गरीब परिवार के घर पर कुछ दबंगों ने दिनदहाड़े कब्जे की नीयत से अपने घर की महिलाओं को दाखिल करा दिया। घर का जो मालिक है वह घर पर मौजूद भी नहीं था। वह इन दिनों प्रदेश में रहकर मजदूरी कर रहा है। कुछ ही दूरी पर बैंक ड्यूटी में लगे पुलिसकर्मी भी इस मामले में मौके पर पहुंचकर वापस लौट गए।

जानकारी के मुताबिक, हरदत्त नगर गिरन्ट थाना क्षेत्र के इमलिया चौराहे पर स्थित शब्बीर अंसारी के मकान में दबंगो ने दिनदहाड़े कब्जा करने के लिए अपने घर की महिलाओ को गरीब के मकान में जबरन दाखिल करा दिया।जिससे एकाएक चौराहे पर हड़कंप मच गया।

हज़रत अली और शब्बीर अंसारी दो सगे भाई एक ही मकान में रहते हैं। पीड़ित हजरत अली के अनुसार उसने अपनी एक दुकान कटवा निवासी आज़ाद खान के नाम बेच दिया था। कुछ दिनों बाद आज़ाद खान ने दुकान के बजाए पूरा मकान दोदी गांव निवासी बड़कऊ के हाथों बेच दिया।

हजरत अली का आरोप है कि आज़ाद खान ने फ़र्ज़ी तरीके से पूरा मकान ही स्टाम्प पेपर पर लिखवा लिया था। जिस पर इस मामले की तहरीर भी पीड़ित ने उस दौरान दी थी। जिसके चलते भड़काऊ के पक्ष में कोई निर्णय नहीं हो सका था।

महिलाओं को जबरन घर में दाखिल कराने के दौरान हंगामा हो गया।
महिलाओं को जबरन घर में दाखिल कराने के दौरान हंगामा हो गया।

मुंबई में रहता है घर का मालिक

पीड़ित हजरत अली इस समय मुंबई में रहकर मजदूरी कर रहा है। आरोप है कि जबरन बड़कऊ के पुत्र पहलवान खान, मुंशी खान व उसके अन्य भाइयों ने मिलकर घर की कई महिलाओं को लेकर पहुंचे और जबरन दरवाजा खोलकर महिलाओं को घर में दाखिल करा दिया। दबंगों की महिलाएं गरीब के मकान में डेरा डाले हुए हैं।