श्रावस्ती: अब जिले में चलाया जायेगा ’’ प्रशासन आपके द्वार’’ कार्यक्रम-जिलाधिकारी

90

मौके पर निस्तारित न होने वाली समस्याओं को सूचीबद्ध कराकर पात्रता के आधार पर करायी जाएगी निस्तारित-जिलाधिकारी

श्रावस्ती। जिलाधिकारी कृतिका शर्मा ने जिले में आम जनमानस की समस्याओं को उनके घर पर ही निराकरण के लिए एक नई पहल की शुरूआत की है। सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ सीधे जनता तक पहुंचाने के लिए जनपद में ’’प्रशासन आपके द्वार’’ कार्यक्रम का आयोजन प्रस्तावित है। कार्यक्रम को सफल बनाने के उद्देश्य से जिलाधिकारी कृतिका शर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि विकास खण्ड सिरसिया के अन्तर्गत ब्रहमदत्त इण्टर कालेज चैलाही में 16 अक्टूबर, 2023 को पूर्वान्ह 11 बजे से अपरान्ह 05 बजे तक ’’प्रशासन आपके द्वार’’ कार्यक्रम के अन्तर्गत चौपाल लगाया जायेगा। इस दौरान विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं का प्रचार-प्रसार एवं योजनाओं का स्टाल लगाया जायेगा। चौपाल में सभी विभागीय अधिकारी अपने-अपने विभागों से सम्बन्धित एक पंजिका बनायेंगे। जिसमें आने वाली समस्याओं को फरियादियों के नाम, पता, मोबाइल नम्बर सहित दर्ज करेंगे। ’’प्रशासन आपके द्वार’’ कार्यक्रम के दौरान जैसे-किसी लाभार्थी को पेंशन व किसान सम्मान निधि का लाभ मिल रहा था, किन्तु ई-केवाईसी न कराने की वजह से उनकी पेंशन और किसान सम्मान निधि की धनराशि उनके खाते में नही आ पायी है, ऐसे लाभार्थियों का मौके पर ही ई-केवाईसी कराया जायेगा। इसके साथ ही आधार कार्ड पंजीयन कार्य एवं संशोधन कार्य कराने के साथ-साथ राजस्व विभाग से सम्बन्धित समस्याओं को भी सूचीबद्ध कराकर निस्तारण की कार्यवाही करायी जायेगी।उन्होने बताया कि अब ’’प्रशासन आपके द्वार’’ कार्यक्रम के तहत जिले के सभी विकास खण्डों में कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। जिसमें सभी विभागों के स्टाल लगाये जायेंगे। इस स्टाल में सभी सम्बन्धित विभागीय अधिकारी अपने स्टाफ के साथ स्वयं मौजूद रहकर सरकार की योजनाओं का प्रचार-प्रसार करेंगे और चौपाल में आने वाली समस्याओं को सूचीबद्ध कर जिन समस्याओं का मौके पर निराकरण हो सकता है, उसका निराकरण करेंगे और ऐसी समस्याएं जिनका मौके पर निराकरण सम्भव नही है, उसे सूचीबद्ध कर पात्रता के आधार पर निराकरण हेतु अग्रिम कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे, ताकि आम जनमानस को अपनी समस्याओं के निस्तारण के लिए बार-बार जिला, तहसील एवं ब्लाक मुख्यालयों का चक्कर न लगाना पड़े।जिलाधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत जो ग्रामीणों किन्हीं कारणों से अभी तक सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पाए हैं उनको लाभ पहुंचाया जाएगा। ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ लेने के लिए कई किलोमीटर चलकर मुख्यालय आना पड़ता था। अब अधिकारी स्वयं उन तक पहुंचेंगे और योजनाओं का लाभ पहुंचाएंगे। सरकार की मंशा है कि कोई भी पात्र व्यक्ति सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से वंचित न रहे। इसी मंशा के ध्यान में रखते हुए इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम में प्रत्येक विकासखंड में रोस्टर के अनुसार संबंधित विभागों के द्वारा समस्त ग्रामों में कैंप लगाकर योजनाओं का लाभ जनता को दिया जाएगा। उन्होने कहा कि विभिन्न केंद्र एवं राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं में छूटे हुए पात्र लाभार्थियों का तत्काल रजिस्ट्रेशन करवाकर यथा संभव उनको लाभ दिलवाया जाएगा। इस कार्यक्रम में सरकार की योजनाओं जैसे-समाज कल्याण, प्रोबेशन, स्वास्थ्य, जल निगम, खाद्य एवं रसद, पंचायती राज, राष्ट्रीय आजीविका मिशन, आयुष्मान कार्ड, प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय, पेंशन आदि के तहत पात्र लाभार्थियों को लाभ दिलाने हेतु पंजीकरण कराया जायेगा। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए जिला स्तर पर मुख्य विकास अधिकारी और ब्लाक स्तर पर खंड विकास अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। कार्यक्रम समस्त विभागों द्वारा उनकी योजनाओं से सम्बन्धित स्टाल लगाया जायेगा तथा पात्रता के आधार पर उनका रजिस्ट्रेशन कर लाभ भी दिलाया जायेगा।जिलाधिकारी ने उक्त कार्यक्रम का वृहद प्रचार-प्रसार हेतु उपजिलाधिकारी एवं खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिया है कि सम्बन्धित गांवों में मुनादी कराने के साथ-साथ ग्राम प्रधान के माध्यम से गांवों में व्यापक प्रचार प्रसार कराये, ताकि वंचित पात्रजनों को सरकार की योजनाओं से जोड़ा जा सके।

बैठक में उपजिलाधिकारी भिनगा पीयूष जायसवाल, जिला विकास अधिकारी रामसमुझ, उप निदेशक कृषि कमल कटियार, उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 उदयनाथ, जिला समाज कल्याण अधिकारी डा0 अमरनाथ यति, अग्रणी बैंक प्रबन्धक सुभाष चन्द्र मित्रा, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 मानव, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी अभय प्रताप, जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 दास, जिला उद्यान अधिकारी दिनेश चौधरी, ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर शरद श्रीवास्तव सहित खण्ड विकास अधिकारीगण एवं अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।