भ्रष्टाचार के भेंट चढ़ा अमृत सरोवर जैतपुर

152

सीडीओ संजय मीणा ने बताया की जांच कर की जाएगी कार्रवाई

अमृत सरोवर के नाम पर किया गया है खाना पूर्ति

गोरखपुर। विकासखंड पिपरौली स्थित ग्राम पंचायत जैतपुर में सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं पर पलीता लगाते दिखाई दिए ग्राम पंचायत के जिम्मेदार जहां एक तरफ सरकार के द्वारा हर ब्लॉक में लगभग सभी ग्राम पंचायत में अप्रैल, 2022 को स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पर भारत की “आज़ादी का अमृत महोत्सव” समारोह के हिस्से के रूप में मिशन अमृत सरोवर लॉन्च किया गया था। इस मिशन का लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्रों में जल संचय की समस्या को दूर करने के लिये भारत के प्रत्येक ज़िले में कम-से-कम 75 अमृत सरोवरों का निर्माण/पुनरुद्धार करना था। सरकार के द्वारा ऐसा ऐसा निर्णय लिया गया वही विकासखंड पिपरौली के ग्राम पंचायत जैतपुर में सरकार की मनसा पर जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारियां की निर्वाह करने में पूर्ण रूप से असक्षम है वही ग्राम पंचायत में दो अमृत सरोवर का निर्माण हुआ है पहले अमृत सरोवर की कुल लागत लगभग 10 लाख रुपए दूसरे अमृत सरोवर की लागत लगभग 12 से 13 लख रुपए की धनराशि स्वीकृत की गई इतने पैसे खर्च होने के बावजूद भी अमृत सरोवर पूर्ण रूप से अधूरा है। वही ग्रामीणों का कहना था हमें बोलने और बताने की जरूरत नहीं है मौखिक पोखरो पर जाकर के देख लीजिए कि क्या कार्य किया गया है कार्य के नाम पर सिर्फ खाना पूर्ति किया गया है। और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा दिया गया है।

इस बाबत सीडीओ संजय मीणा से बातचीत की गई उन्होंने कहा जांच कर कर दोषी पाए जाने वाले जिम्मेदारों पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। सरकार के पैसों का जो दुरुपयोग किया गया है वह भी वसूला जाएगा।