Health Tips: योग के इन आसन से कम होने लगेगा मोटापा, हर दिन होगी एक नई शुरूआत

112

आज के समय में हर कोई बढ़ते मोटापे की वजह से परेशान है। गलत रहन-सहन, बुरी आदत और खान-पान में अनियमितता के कारण मोटापा बढ़ता है। जिससे कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। आज हम आपको योग के द्वारा मोटापा कम करने वाले आसनों (Yoga for weight loss) के बारे में बताएंगे। इन योग को करने से आपको कई और फायदे अपने शरीर पर देखने को भी मिलेंगे।

सूर्य नमस्कार 

सूर्य नमस्कार मन को शांत व स्वस्थ रखने के लिए बेहद लाभदायक होता है। इसे सुबह खाली पेट करना ही ठीक होता है। सूर्य नमस्कार कई तरह से होते हैं पर आप किसी एक ही आसन को चुने और उसी का हर रोज अभ्यास करें, जिससे आपको अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। इस आसन का असर पूरे शरीर पर पड़ता है। विशेष रूप से जहाँ मांसपेशियों का बड़ा समूह होता है। इससे बॉडी में लचीलापन आता है। यह आसन वजन कम करने में लाभकारी होता है।

Also Read: Health Tips: क्या आप भी हैं मानसिक तनाव और डिप्रेशन का शिकार, तो ऐसे करें बचाव

वीरभद्रासन

इस आसन का नाम भगवान शिव के अवतार, वीरभद्र, एक अभय योद्धा के नाम पर रखा गया है। घुटने के पीछे की नस, जाँघे, पैर और टखने मजबूत करने के लिए इस आसन को किया जाता है। इसके अलावा आंतरिक शक्ति बढ़ाने के लिए वीरभद्रासन लाभदायक होता है। मोटापा कम करने के लिए इस आसान को जरूर करें। उच्च रक्तचाप वाले मरीज़ यह आसन न करें।

भुजंगासन

छाती और कमर की मांसपेशियों को लचीला बनाने के लिए भुजंगासन जरूर करना चाहिए। तनाव, अस्थमा तथा अन्य रोगों के लिए यह आसन बेहद लाभदायक होता है। इस आसन को करने से पेट पर असर पड़ता है जो मोटापा कम करने के लिए लाभदायक होता है। कंधे के दर्द, कमर दर्द से पेरशान हैं तो इस आसन को करने से लाभ मिलेगा।

Also Read: Health Tips: आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए करें ये पांच योगासन, जल्द ही उतर जाएगा चश्मा

धनुरासन

इस आसन को करने से शरीर का आकार धनुष के जैसा होता है। जिस वजह से इस आसन को धनुरासन के नाम से जाना जाता है। इस आसन को करने से छाती, गर्दन और कंधे की जकड़न दूर होती है। इसके अलावा रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाने में यह आसन उपयोगी होता है। गर्भवती महिलाओं को धनुरासन करने से बचना चाहिए। जिनका हाल ही में पेट से जुड़ा ऑपरेशन हुआ है उन्हें भी इस आसन से दूर रहना चाहिए।

चक्कीचलनासन

इस आसन में हाथों से चलाने वाली गेहूँ की चक्की को चलाने की नकल की जाती है। जिस वजह से इस आसन को चक्कीचलनासन कहा जाता है। पीठ,उदर एवं बाजुओं की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए यह आसन उपयोगी होता है। इस आसन को प्रतिदिन करने से पेट की चर्बी कम होती है। जिससे मोटापा कम होता है। कम रक्तचाप, गर्भावस्था, सिर दर्द, माइग्रेन, सर्जरी आदि स्थिति में चक्कीचलनासन नही करना चाहिए।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )