साल में तीन बार करें लौकी की खेती, बंपर होगी कमाई, जानें पूरी विधि

429

इस खरीफ सीजन में किसान लौकी की खेती कर अच्छा उत्पादन और मुनाफा दोनों कमा सकते हैं. जानिए इसकी खेती के लिए कैसी होनी चाहिए किस्म और मिट्टी.

लौकी की खेती से किसान कमा सकते हैं अच्छा मुनाफा

लौकी की खेती एक बहुत ही अच्छी खेती है इसमें किसान को कम मेहनत में ज्यादा फायदा होता है. ज्वार, बाजरा, गेहूं, धान, जौ, आलू, चना, सरसों की अपेक्षा सब्जियों की खेती में कमाई ज्यादा है. लेकिन ये मुनाफा काफी कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप खेती किस तकनीकी से करते हैं. जहां पहले किसान धान, गेहूं और मोटे अनाजों की पैदावार को अपनी आय का एक मात्र जरिया मानते थे, वहीं वर्तमान समय में किसानों ने इस सोच से आगे बढक़र आलू, टमाटर, बैंगन, मिर्च, तोरई, कद्दू, खीरा आदि जैसी सीजनल फसलों की खेती कर कमाई का जरिया ही नहीं बनाया है बल्कि इनकी खेती से पूरे साल लाखों रुपये की कमाई भी कर रहे हैं. किसान लौकी की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं लौकी सामान्य तौर पर दो आकार की होती हैं, पहली गोल और दूसरी लंबी वाली, गोल वाली लौकी को पेठा तथा लंबी वाली लौकी को घीया के नाम से जाना जाता हैं.

लौकी का इस्तेमाल सब्जी के अलावा रायता और हलवा जैसी चीजों को बनाने में भी किया जाता हैं. इसकी पत्तिया, तने व गूदे से अनेक प्रकार की औषधियां बनायी जाती है. पहले लौकी के सूखे खोल को शराब या स्प्रिट भरने के लिए उपयोग किया जाता था. यह हर सीजन में मिलने वाली सब्जी हैं. इस सब्जी की मांग बाजार में हर समय काफी बड़े स्तर पर रहती है. इसे ध्यान में रखकर किसान इस खरीफ सीजन में लौकी की आसान तरीके से खेती कर अच्छा उत्पादन और मुनाफा दोनों ले सकते हैं.

कैसी होनी चाहिए भूमि 

देश में लौकी की खेती को किसी भी क्षेत्र में सफलतापूर्वक की जा सकती है. इसकी खेती उचित जल निकासी वाली जगह पर किसी भी तरह की भूमि में की जा सकती है. किन्तु उचित जल धारण क्षमता वाली जीवाश्म युक्त हल्की दोमट भूमि इसकी सफल खेती के लिए सर्वोत्तम मानी गयी है. लौकी की खेती में भूमि का पी.एच मान 6 से 7 के मध्य होना चाहिए.

लौकी की अच्छी किस्में 

अर्का नूतन, अर्का श्रेयस, पूसा संतुष्टि, पूसा संदेश, अर्का गंगा, अर्का बहार, पूसा नवीन, पूसा हाइब्रिड 3, सम्राट, काशी बहार, काशी कुंडल, काशी कीर्ति एंव काशी गंगा आदि.

कब होती है इसकी खेती 

लौकी एक ऐसी कद्दूवर्गीय सब्जी हैं, जिसकी फसल वर्ष में तीन बार उगाई जाती हैं. जायद, खरीफ, रबी सीजन में लौकी की फसल ली जाती है.जायद की बुवाई मध्य जनवरी, खरीफ मध्य जून से प्रथम जुलाई तक और रबी सितंबर अंत से अक्टूबर के पहले सप्ताह तक लौकी की खेती की जाती है. जायद की अगेती बुवाई के लिए मध्य जनवरी में लौकी की नर्सरी की जाती है.

यह भी पढ़ेंः Tomato Price: जानिए कैसे किसान का ₹2-3 वाला टमाटर आपके किचन तक आते-आते हो जाता है ₹100 का

लौकी के पौधों में सिंचाई

लौकी के पौधों को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है. यदि रोपाई बीज के रूप में की गयी है, तो बीज को अंकुरित होने तक नमी बनाये रखना होता है. यदि रोपाई पौधों के रूप में की गयी है, तो पौधे रोपाई के तुरंत बाद खेत में पानी लगा देना चाहिए. बारिश के मौसम में जरूरत पड़ने पर पौधों की सिंचाई करनी चाहिए. बारिश के मौसम के बाद इसकी सप्ताह में एक बार सिंचाई करते रहना चाहिए.अधिक गर्मियों के मौसम में इन्हे सिंचाई की अधिक आवश्यकता होती है, इसलिए इन्हे 3 से 4 दिन के अंतराल में पानी देते रहना चाहिए. जिससे पौधों में नमी बनी रहे, और जब पौधों पर फल बनने लगे तब हल्की-हल्की सिंचाई कर देनी चाहिए जिससे फल अधिक मात्रा में प्राप्त हो सके.

कितना मुनाफा मिलता है..

इसके बीजों की खेत में रोपाई के लगभग 50 से 55 दिनों के बाद इसकी फसल पैदावार देना आरंभ कर देती है. जब इसके फल सही आकार और गहरा हरा रंग में ठीक-ठाक प्रकार का दिखने लगे तब उनकी तुड़ाई कर लें. फलों की तुड़ाई डंठल के साथ करें. इससे फल कुछ समय तक ताजा बना रहता है. फलों की तुड़ाई के तुरंत बाद उन्हें पैक कर बाजार में बेचने के लिए भेज देना चाहिए. लौकी की फसल में पैदावार की बात करें, तो इसकी खेती कम खर्च में अच्छी पैदावार देने वाली खेती हैं. लौकी की खेती के लिए एक एकड़ में लगभग 15 से 20 हजार की लागत आती है और एक एकड़ में लगभग 70 से 90 क्विंटल लौकी का उत्पादन हो जाता है बाजारों में भाव अच्छा मिल जाने पर 80 हजार से एक लाख रुपए का शुद्ध आय होने की संभावना रहती है.

लौकी की उन्नत वैज्ञानिक खेती कर किसानो की होगी लाखों की कमाई

लौकी की खेती : ज्वार, बाजरा, गेहूं, धान, जौ, आलू, चना, सरसों की अपेक्षा सब्जियों की खेती में कमाई ज्यादा है। लेकिन ये मुनाफा काफी कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप खेती किस तकनीकी से करते हैं। जहां पहले किसान धान, गेहूं और मोटे अनाजों की पैदावार को अपनी आय का एक मात्र जरिया मानते थे, वहीं वर्तमान समय में किसानों ने इस सोच से आगे बढक़र आलू, टमाटर, बैंगन, मिर्च, तोरई, कद्दू, खीरा आदि जैसी सह फसली खेती को कमाई का जरिया ही नहीं बनाया है बल्कि इनकी खेती से पूरे साल लाखों रुपये की कमाई भी कर रहे हैं। आज हम जिस सब्जी की खेती के बारे में बात कर रहे हैं। वह सभी कद्दूवर्गीय सब्जियों में एक महत्वपूर्ण सब्जी के रूप में जानी जाती हैं। इस सब्जी का नाम लौकी है। लौकी सब्जी को सभी कद्दू वर्गीय सब्जियों में प्रमुख माना जाता हैं। लौकी सामान्य तौर पर दो आकार की होती हैं, पहली गोल और दूसरी लंबी वाली, गोल वाली लौकी को पेठा तथा लंबी वाली लौकी को घीया के नाम से जाना जाता हैं। लौकी का इस्तेमाल सब्जी के अलावा रायता और हलवा जैसी चीजों को बनाने में भी किया जाता हैं। इसकी पत्तिया, तने व गूदे से अनेक प्रकार की औषधियां बनायी जाती है। पहले लौकी के सूखे खोल को शराब या स्प्रिट भरने के लिए उपयोग किया जाता था इसलिए इसे बोटल गार्ड के नाम से जाना जाता है। यह हर सीजन में मिलने वाली सब्जी हैं। इस सब्जी की मांग मंडी में हर समय काफी बड़े स्तर पर रहती है। किसान भाई इसकी खेती साल में तीन बार कर सकते हैं। लौकी की खेती से किसान भाई कम खर्च पर अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। आज हम आपको ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट में लौकी की खेती से संबंधित जानकारी जैसे- लौकी की खेती कैसे करें, लौकी की उन्नत किस्म एवं पैदावार की जानकारी देने जा रहे हैं।

लौकी की खेती – लौकी के बारे में मचान विधि से लौकी की खेती,हाइब्रिड लौकी का बीज,लौकी उगाने का तरीका,गोल लौकी की खेती, लौकी की फसल के रोग ,सर्दी में लौकी की खेती ,BRBG 65 Seeds,कद्दू वर्गीय सब्जियों की खेती,लौकी के फल,गमले में लौकी कैसे उगाए,लौकी बढ़ाने की दवा ,लौकी की 3G कटिंग, लौकी की उन्नत किस्में,लौकी का फूल, लौकी के बीज, लौकी कीटनाशक, लौकी,लौकी की दवा, गर्मी की लौकी की खेती , जनवरी में लौकी की खेती, गमले में लौकी की खेती , ग्रीष्मकालीन लौकी की खेती पूरी जानकारी दी जाएगी।