श्रावस्ती: जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला पोषण समिति की बैठक सम्पन्न

160

कारगर योजना बनाकर समय से नैफेड द्वारा पोषाहार की आपूर्ति की जाए सुनिश्चित-जिलाधिकारी

रिपोर्ट । प्रवीण कुमार मिश्रा

श्रावस्ती। जिलाधिकारी कृतिका शर्मा की अध्यक्षता में जिला पोषण समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि प्रदेश सरकार नवजात शिशुओं/बच्चों/गर्भवती/धात्री महिलाओं को स्वस्थ्य रखने हेतु प्रतिबद्ध है, इसी उद्देश्य से आई0सी0डी0एस0 विभाग द्वारा तमाम योजनाओं का संचालन किया जा रहा है, जिससे गर्भवती महिलाओं की बेहतर ढंग से देखभाल कर उन्हें स्वस्थ्य बनाया जा सके। उन्होने कहा कि गर्भवती महिलाओं की गर्भधारण से लेकर शिशु के जन्म के 05 वर्ष तक (लगभग 01 हजार दिवस) की आयु पूर्ण होने तक उनकी देखभाल की जाए। गर्भवती महिलाओं का आंगनवाड़ी केन्द्रों पर रजिस्ट्रेशन कराकर समय-समय पर टीकाकरण एवं जांच कराकर स्वस्थ्य बनाया जाए। बच्चों के जन्म के तुरन्त बाद शून्य डोज में जो भी टीकाकरण होते है, उनका कार्ड बनवाकर 05 साल तक टीकाकरण कराना सुनिश्चित किया जाए। उन्होने यह भी निर्देश दिया कि गर्भवती महिलाओं के गर्भवती होने के 03 माह पूर्ण होने पर उनका एम0सी0पी0 कार्ड (मातृ एवं बाल सुरक्षा कार्ड) शत-प्रतिशत बनवाया जाए तथा उनकी बेहतर ढंग से देखभाल भी रखा जाए। उन्होने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे अपने-अपने क्षेत्रों के अन्तर्गत संचालित आंगनवाड़ी केन्द्रों पर जाएं, और निरन्तर मानिटरिंग करके सरकार द्वारा प्रदत्त सभी सुविधाएं बच्चों एवं महिलाओं को उपलब्ध करायें। यदि किसी भी अधिकारी द्वारा इसमें शिथिलता बरती गई तो निश्चित ही उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।
बैठक में जिलाधिकारी ने पोषण टैªकर ऐप पर वजन किये गये बच्चों, टी0एच0आर0 वितरण में माह जुलाई, 2023 में 58 प्रतिशत होने पर समस्त सी0डी0पी0ओ0 को निर्देशित किया कि प्रत्येक माह में प्राप्त पोषाहार का वितरण समय से कर उसकी रिपोर्ट पोषण ट्रैकर ऐप पर शत-प्रतिशत की जाए। माह-जुलाई एवं अगस्त, 2023 में पोषाहार की आपूर्ति कम पाये जाने पर उन्होने निर्देशित किया कि समस्त परियोजनाओं में पहले से ही कारगर योजना बनाकर नैफेड द्वारा पोषाहार की आपूर्ति सुनिश्चित करायी जाए। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाए, नहीं तो अब सम्बन्धित के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी। उन्होने यह भी निर्देश दिया कि सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों को समय से खोला जाए तथा समस्त आंगनवाड़ी कार्यकत्रियां केन्द्र पर उपस्थित रहें। केन्द्र बन्द करने के बाद होम विजिट हर हाल में किया जाए। यदि केन्द्र बन्द पाया जाता है तो सी0डी0पी0ओ0 उनके विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। टी0एच0आर0 यूनिट इकाई उत्पादन की समीक्षा के दौरान ज्ञात हुआ कि विकास खण्ड सिरसिया एवं जमुनहा में टी0एच0आर0 इकाई स्थापित है, किन्तु सिरसिया में स्थापित टी0एच0आर0 इकाई द्वारा अनुपूरक पुष्टाहार का उत्पादन किया जा रहा है तथा आंगनवाड़ी केन्द्रों पर अनुपूरक पोषाहार की आपूर्ति की जा रही है, विकास खण्ड जमुनहा में उत्पादन हो रहा है, जिस पर जिलाधिकारी ने डी0सी0 एन0आर0एल0एम एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया कि उत्पादन हो रही इकाई से अनुपूरक पुष्टाहार की आपूर्ति तत्काल आंगनबाड़ी केन्द्रो पर करायी जाय तथा जमुनहा की इकाई में भी तत्काल आंगनवाड़ी केन्द्रों पर आपूर्ति सुनिश्चित की जाय और समय-समय पर गुणवत्ता की जांच भी करायी जाए।
आंगनबाड़ी केन्द्रो पर हाटकुक्ड फूड की समीक्षा में जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि निदेशालय से उक्त योजना हेतु बजट का आंवटन नही हुआ है हाटकुक्ड खाता एक्टिवेट कराने के निर्देश प्राप्त हुए थे, जिसे सही कराते हुए प्रेषित कर दिया गया है, जिस पर जिलाधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि निदेशालय स्तर से निर्देश प्राप्त होते ही कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाय। पोषण टैªकर ऐप पर होम विजिट, सी0बी0ई गतिविधि, वी0एच0एस0एन0डी0 सत्रों की फीडिंग समीक्षा कम पाये जाने पर समस्त सी0डी0पी0ओ0 को निर्देशित किया गया कि शत-प्रतिशत फीडिंग कराना सुनिश्चित करायें। जिससे जनपद स्तर की रैंकिंग में सुधार लाया जा सके। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही कदापि न बरती जाए।
पोषण टैªकर ऐप पर सैम-मैम बच्चों की फीडिंग, वी0एच0एस0एन0डी0 सत्रो की समीक्षा में लक्ष्य के सापेक्ष फीडिंग कम पाये जाने पर जिलाधिकारी द्वारा समस्त सी0डी0पी0ओ0 को निर्देशित किया गया कि शत-प्रतिशत बच्चों का चिन्हांकन कराते हुए फीडिंग सुनिश्चित करायें। एन0आर0सी0में भर्ती करायें गये बच्चों की संख्या-माह-जुलाई, 2023 में एन0आर0सी0 में कुल 19 बच्चों को भर्ती कराया गया है। बच्चों की संख्या कम पाये जाने पर जिलाधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि माह में 10-10 दिन पर इसकी समीक्षा करते हुए भर्ती बच्चों के बारे में जानकारी लें तथा समस्त सी0डी0पी0ओ0 भी निगरानी करें जिससे कोई भी बेड खाली न रहे। बच्चों को डिस्चार्ज करने के पश्चात् मुख्य चिकित्साधिकारी तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी अपनी देख-रेख में उन बच्चों का फालोअप भी कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।

पूरी ख़बर यहाँ पढ़े : श्रावस्ती में जहर खुरानी का शिकार हुआ मुनीम : डॉक्टरों ने बहराइच रेफर किया,  बकाया वसूली करने के लिए लखनऊ से बस से आ रहा था

वित्तीय वर्ष 2021-22 में भवन निर्माण की स्थिति पर जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी एवं समस्त खण्ड विकास अधिकारी को निर्देशित किया गया कि जो आंगनबाड़ी केन्द्र भवन पूर्ण है उनको आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को हैण्डओवर कराया जाय तथा अपूर्ण भवनों को तत्काल पूर्ण कराया जाना सुनिश्चित करें। उन्होने बताया कि 01 जून, 2023 से सम्भव अभियान का संचालन किया जा रहा है, जो 31 सितम्बर, 2023 तक संचालित रहेगा। इसके अन्तर्गत सैम-मैम बच्चों का चिन्हांकन, गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण, सैम बच्चों का 06 प्रकार की दवाओं का वितरण, कुपोषित बच्चों की समय पर पहचान तथा पोषण के सम्बन्ध में जागरूक किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत पोषण ट्रैकर ऐप पर होम विजिट शत-प्रतिशत, ई-कवच पर सैम-मैम बच्चों की फीडिंग एवं अन्य लाभार्थियों की फीडिंग शत-प्रतिशत कराया जाना सुनिश्चित किया जाए, जिससे जनपद की रैंकिंग में सुधार लाया जा सके। उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि आपस में समन्वय स्थापित कर इस कार्यक्रम को सफल बनाये।
आंगनबाड़ी कार्यकत्रिया, ई0सी0सी0किट केन्द्र पर रखें तथा मुख्य सेविकाएं अपने-अपने परिक्षेत्र में माह में कम से कम 02 बैठक अवश्य करें तथा उनको पोषण टैªकर पर लाभार्थियों की फीडिंग की जानकारी अवश्य प्रदान की जाय, समस्त डेवपलमेन्ट पाटनर्स सेक्टर बैठक में उपस्थिति होकर आंगबाड़ी कार्यकत्रियों को पोषण टैªकर ऐप की जानकारी भी दें। पी0एल0आई-5 एवं पी0एल0आई0-6 फीडिंग की समीक्षा के दौरान उन्होने निर्देशित किया गया कि पोषण टैªकर ऐप पर शत-प्रतिशत फीडिंग करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को इसका लाभ अवश्य दिया जाय।
बैठक का संचालन जिला कार्यक्रम अधिकारी पी0के0 दास ने किया।इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह, उपजिलाधिकारी भिनगा पीयूष जायसवाल, उपजिलाधिकारी जमुनहा रामप्यारे, उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 उदयनाथ, जिला विकास अधिकारी राम समुझ, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी अजय कुमार यादव, सहायक निदेशक मत्स्य सुरेश कुमार, जिला पंचायत राज अधिकारी नन्दलाल, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमिता सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी डा0 अमरनाथ यति, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी रोशनलाल पुष्कर सहित समस्त खण्ड विकास अधिकारीगण, सभी सी0डी0पी0ओ0, सेव चिल्ड्रेन संस्था के प्रतिनिधिगण, समस्त डेवलपमेंट पार्टनर्स एवं अन्य विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।


श्रावस्ती: जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला नलकूल स्थल चयन समिति की बैठक सम्पन्न