ASEAN Summit: पीएम मोदी ने आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में पेश की 12-सूत्रीय सहयोग योजना

97

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को यहां 20वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन (ASEAN-INDIA Summit) में भाग लिया और क्षेत्रीय संगठन के साथ सहयोग को मजबूत करने के लिए 12-सूत्री योजना का अनावरण किया। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री ने इंडोनेशियाई राजधानी की अपनी एक दिवसीय यात्रा पर गुरुवार सुबह 20वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और 18वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) में भाग लिया।

भविष्य की रूपरेखा तैयार करने को लेकर व्यापक चर्चा

आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में मोदी ने दोनों पक्षों के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत करने और इसके भविष्य की रूपरेखा तैयार करने के बारे में व्यापक चर्चा की। प्रधानमंत्री ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में आसियान के केंद्रीय शक्ति होने की पुष्टि की और भारत के हिंद प्रशांत महासागर की पहल (आईपीओआई) और हिंद-प्रशांत पर आसियान के आउटलुक (एओआईपी) के बीच तालमेल पर प्रकाश डाला। उन्होंने आसियान-भारत एफटीए (एआईटीआईजीए) की समीक्षा को समयबद्ध तरीके से पूरा करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

पीएम मोदी ने कनेक्टिविटी के साथ भारत-आसियान सहयोग को मजबूत करने के लिए 12-सूत्री प्रस्ताव भी द‍िया। इसमें डिजिटल परिवर्तन; व्यापार और आर्थिक जुड़ाव; समसामयिक चुनौतियों का समाधान करना; लोगों के बीच संपर्क; और रणनीतिक जुड़ाव को गहरा करना शामिल हैं। भारतीय पक्ष ने मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी और आर्थिक गलियारा स्थापित करने की घोषणा की जो दक्षिण पूर्व एशिया-भारत-पश्चिम एशिया-यूरोप को जोड़ता है और आसियान भागीदारों के साथ भारत के डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर स्टैक को साझा करने की भी पेशकश की।

इसने डिजिटल परिवर्तन और वित्तीय कनेक्टिविटी में सहयोग पर ध्यान केंद्रित करते हुए डिजिटल भविष्य के लिए आसियान-भारत फंड की भी घोषणा की और हमारे जुड़ाव को बढ़ाने के लिए ज्ञान भागीदार के रूप में कार्य करने के लिए आसियान और पूर्वी एशिया के आर्थिक और अनुसंधान संस्थान (ईआरआईए) को समर्थन के नवीनीकरण की घोषणा की।

Also Read: G20 Summit: ऋषि सुनक की पहली भारत यात्रा पर सम्मान में परिवार देगा रात्रिभोज, रात भर होगा डांस

भारत ने बहुपक्षीय मंचों पर ग्लोबल साउथ के सामने आने वाले मुद्दों को सामूहिक रूप से उठाने का भी आह्वान किया और आसियान देशों को भारत में डब्ल्यूएचओ द्वारा स्थापित किए जा रहे ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। इसने मिशन लाइफ पर एक साथ काम करने का भी आह्वान किया और जन-औषधि केंद्रों के माध्यम से लोगों को सस्ती और गुणवत्ता वाली दवाएं उपलब्ध कराने में भारत के अनुभव को साझा करने की भी पेशकश की।

भारतीय पक्ष ने ‘आतंकवाद, आतंकी वित्तपोषण और साइबर-दुष्प्रचार’ के खिलाफ सामूहिक लड़ाई का आह्वान किया, आसियान देशों को आपदा प्रतिरोधी बुनियादी ढांचे के लिए गठबंधन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया और आपदा प्रबंधन में सहयोग का आह्वान किया। इसने समुद्री सुरक्षा, सुरक्षा और डोमेन जागरूकता पर सहयोग बढ़ाने का भी आह्वान किया और दो संयुक्त वक्तव्य, एक समुद्री सहयोग पर और दूसरा खाद्य सुरक्षा पर अपनाया गया।

Also Read: America: कैलिफोर्निया में भारतीय मूल के दिवंगत पुलिस अफसर के नाम पर रखा सड़क का नाम

आसियान शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 21वीं सदी एशिया की सदी है। यह हमारी सदी है। इसके लिए नियम आधारित पोस्ट-कोविड विश्व व्यवस्था का निर्माण और मानव कल्याण के लिए सभी के प्रयास आवश्यक हैं। स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत की प्रगति और ग्लोबल साउथ की आवाज को बुलंद करना सभी के साझा हित में है। मेरा मानना है कि आज की चर्चा से भारत और आसियान क्षेत्र के भविष्य को मजबूत करने के लिए नए संकल्प सामने आएंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि आज ‘वैश्विक अनिश्चितताओं’ के माहौल में भी हमारे आपसी सहयोग से हर क्षेत्र में निरंतर प्रगति हो रही है। उन्‍होंने कहा कि यह हमारे रिश्ते की ताकत और लचीलेपन का प्रमाण है। इस वर्ष के आसियान शिखर सम्मेलन का विषय ‘आसियान मामले: विकास का केंद्र’ है। आसियान मायने रखता है क्योंकि यहां हर किसी की आवाज सुनी जाती है और आसियान विकास का केंद्र है क्योंकि आसियान क्षेत्र वैश्विक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Also Read: Pakistan: केयरटेकर प्रधानमंत्री ने कहा- भारत को बनना चाहिए सबसे महान लोकतंत्र, हम सुधारना चाहते हैं संबंध

प्रधानमंत्री ने 18वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) में ईएएस तंत्र के महत्व को दोहराया तथा इसे और मजबूत करने के लिए भारत के समर्थन की पुष्टि की। प्रधानमंत्री मोदी ने आसियान की केंद्रीयता के लिए भारत के समर्थन को रेखांकित किया और एक स्वतंत्र, खुले और नियम आधारित हिंद-प्रशांत सुनिश्चित करने का आह्वान किया और हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए दृष्टिकोण के तालमेल पर प्रकाश डाला, और रेखांकित किया कि ब्लॉक क्वाड के दृष्टिकोण का केंद्र बिंदु है।

क्वाड में भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं। उन्होंने आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और भोजन और दवाओं सहित आवश्यक वस्तुओं के लिए लचीली आपूर्ति श्रृंखला और ऊर्जा सुरक्षा सहित वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए एक सहयोगी दृष्टिकोण का भी आह्वान किया। मोदी ने जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में भारत के कदमों और आईएसए, सीडीआरआई, लाइफ और ओएसओडब्‍ल्‍यूओजी जैसी हमारी पहलों पर भी प्रकाश डाला।

बैक-टू-बैक आसियान-भारत शिखर सम्मेलन और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन का आयोजन भारत के अनुरोध पर मेजबान इंडोनेशिया द्वारा किया जा रहा है क्योंकि भारत सप्ताहांत में जी20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा।


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )