“न मैंने डील की और न ही कोई दबाव है”:आलोक मौर्या ने कहा- ज्योति मौर्या के खिलाफ शिकायत वापस लेना मेरा फैसला

252

पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य के खिलाफ चल रही जांच खत्म हो सकती है। जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट विभागीय सचिव को सौंप दी है. इस मसले पर अंतिम फैसला सरकार को लेना है. एक-दो दिन में रिपोर्ट शासन को भेज दी जाएगी। ज्योति के पति आलोक मौर्य पर भ्रष्टाचार समेत कई गंभीर आरोप हैं। इस संबंध में आलोक ने शासन से भी शिकायत की थी।

आयोग ने पाया कि पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य के पति आलोक मौर्य ने आरोपों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं दिया है. इस रिपोर्ट के आधार पर अब सरकार तय करेगी कि ज्योति मौर्य की जांच खत्म की जाए या नहीं. ज्योति मौर्य ने आलोक मौर्य और उनके परिवार के खिलाफ उत्पीड़न का मामला भी दर्ज कराया है. अब वह इन मामलों को वापस भी ले सकती है. मीडिया सूत्रों ने यह भी दावा किया है कि ज्योति और आलोक के बीच समझौता हो सकता है।

जांच आयोग ने ज्योति के पति से भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में सबूत देने को कहा था. इस काम के लिए आलोक मौर्य को 20 दिन की डेडलाइन भी दी गई थी. 20 दिनों की अवधि के बाद आलोक मौर्य आयोग के समक्ष उपस्थित हुए और आरोप वापस ले लिये गये। ज्योति मौर्य पर लगे आरोपों के बाद सरकार ने प्रयागराज प्रमुख विजय विश्वास पंत को जांच का निर्देश दिया था. इसके बाद सचिव ने तीन अधिकारियों की एक कमेटी बनायी. माना जा रहा है कि कमेटी अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और ज्योति के खिलाफ जांच पूरी हो सकती है.

2015 में ज्योति एसडीएम बनीं थी

आलोक मौर्य और ज्योति की शादी 13 साल पहले हुई थी। श्री आलोक की नियुक्ति 2009 में जिला पंचायत राज में चतुर्थ श्रेणी अधिकारी के पद पर हुई थी। शादी के बाद उन्होंने अपनी पत्नी ज्योति को पढ़ाया. 2015 में ज्योति का चयन एसडीएम पद के लिए हुआ। ज्योति को सिविल सेवा आयोग में महिलाओं में तीसरा और कुल मिलाकर 16वां स्थान मिला है। एक ही साल में आलोक और ज्योति की जुड़वाँ बेटियाँ हुईं। आलोक मौर्य ने पत्नी के अफेयर को लेकर हर महीने हजारों रुपये बर्बाद करने का आरोप लगाया, लेकिन कोई सबूत नहीं दे सके.

पीसीएस ज्योति मौर्या के पति आलोक मौर्या ने कहा है, “शिकायत वापस लेना मेरा खुद का फैसला है। न तो किसी का दबाव है और न ही हमारे और ज्योति के बीच कोई ‘डील’ हुई है। सोशल मीडिया की खबरें झूठी और बेबुनियाद हैं। हम अपनी बेटियों के भविष्य के लिए ज्योति मौर्या के साथ रहना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा, 22 सितंबर को परिवार न्यायालय में सुनवाई है। इस मामले में भी हम यही हलफनामा लगाएंगे। हमने अभी अपनी ओर से विवाद को खत्म करने की पहल की है। ज्योति का रुख क्या है इस पर अभी कुछ भी उनकी ओर से साफ नहीं किया गया है।

आलोक मौर्या जब फैमिली कोर्ट में पहुंचे तो बाहर निकलने के बाद फूट-फूटकर रोने लगे।
आलोक मौर्या जब फैमिली कोर्ट में पहुंचे तो बाहर निकलने के बाद फूट-फूटकर रोने लगे।

शिकायत वापस लेने के बाद ज्योति से कोई बात नहीं हुई

आलोक मौर्या से दैनिक भास्कर ने फोन पर बात की। उन्होंने बताया कि 28 अगस्त को जांच कमेटी के सामने मुझे सुबूत पेश करने के लिए बुलाया गया था। मेरे पास ज्योति के खिलाफ ठोस सुबूत भी है पर इस झगड़े को मैं अपनी ओर से समाप्त करना चाहता हूं। जब आलोक से पूछा गया कि सोशल मीडिया में चल रहा है कि आपके और ज्योति के बीच शिकायत वापस लेने को लेकर बिग “डील” हुई है।

इस पर आलोक ने कहा, ऐसा कुछ भी नहीं है। ज्योति मौर्या के खिलाफ डायरी के पन्नों में दर्ज भ्रष्टाचार की शिकायत वायरल होने के बाद मेरी और ज्योति मौर्या की कोई बातचीत ही नहीं हुई है। शिकायत हमने की थी और शिकायत वापस लेना केवल और केवल मेरा फैसला है।

इसमें न तो किसी का कोई दबाव मेरे ऊपर था और न ही मेरे और ज्योति के बीच कोई डील हुई है। इस तरह की खबरें अफवाह और बेबुनियाद हैं। हमारी ज्योति मौर्या से कोई बात नहीं हुई। शिकायत वापस लेने के बाद भी न हमने उनको फोन किया और न ही उन्होंने।

यह तस्वीर ज्योति मौर्या और आलोक मौर्या की है।
यह तस्वीर ज्योति मौर्या और आलोक मौर्या की है।

22 को सुनवाई, बेटियों के भविष्य के लिए साथ रहना चाहता हूं

आलोक मौर्या ने बताया, 22 सितंबर को प्रयागराज के फैमिली कोर्ट में ज्योति मौर्या द्वारा दायर की गई तलाक की अर्जी पर सुनवाई है। परिवार न्यायालय में मैं उपस्थित हूंगा। उन्होंने बताया, वह पहले भी कह चुके हैं कि बेटियों के भविष्य के लिए वह ज्योति मौर्या के साथ रहना चाहते हैं। फिर से अपनी जिंदगी पटरी पर लौटाना चाहते हैं।

हम 22 सितंबर को परिवार न्यायालय में उपस्थित होकर यही हलफनामा लगाएंगे। अब ज्योति मौर्या के ऊपर यह निर्भर करता है कि उनका रुख क्या होगा। अगर वह हमारे साथ अपनी बाकी बची जिंदगी नहीं बिताना चाहती हैं तो उन पर हमारा कोई वश और बंधन भी नहीं है। वह बालिग हैं और कोर्ट उनके निर्णय को भी सुनेगी। हम अपना काम कर रहे हैं। हमारा स्टैंड है कि हम बेटियों के भविष्य के खातिर एक बार फिर से ज्योति के साथ नई जिंदगी जीना चाहते हैं। अब गेंद ज्योति मौर्या के पाले में है।

होमगार्ड कमांडेंट मनीष पर ज्योति मौर्या के साथ एक पत्नी के रहते हुए अवैध संबंध बनाने का आलोक ने आरोप लगाया था। शासन ने इसकी भी जांच कराई थी।
होमगार्ड कमांडेंट मनीष पर ज्योति मौर्या के साथ एक पत्नी के रहते हुए अवैध संबंध बनाने का आलोक ने आरोप लगाया था। शासन ने इसकी भी जांच कराई थी।

आलोक ने किया था दावा-ज्योति की हर महीने अवैध कमाई लाखों में

आलोक मौर्या ने दैनिक भास्कर को एक डायरी दी थी और यह दावा किया था कि यह डायरी PCS अफसर ज्योति मौर्या की है। इस डायरी में हर पेज पर स्वास्तिक और शुभ-लाभ लिखा है। हर महीने भ्रष्टाचार से कितनी अवैध कमाई होती है उसका लेखा-जोखा है।

इस डायरी और भ्रष्टाचार की खबर वायरल होने के बाद शासन ने प्रयागराज के अपर आयुक्त प्रशासन अमृत लाल बिंद की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन कर दी थी। जांच कमेटी ने इस प्रकरण पर आलोक मौर्या को समन जारी कर पेश होने का आदेश दिया था।

आलोक मौर्या 8 अगस्त को जांच कमेटी के सामने पेश हुए थे और कहा था कि मुझे सुबूत देने के लिए और समय चाहिए। इस पर जांच कमेटी ने आलोक मौर्या को 20 दिन का समय दे दिया था। 28 अगस्त को जांच कमेटी के सामने आलोक मौर्या पेश हुए थे और अप्रत्याशित रूप से अपनी शिकायत वापस ले ली थी।

इसी तरह डायरी के पन्नों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे।
इसी तरह डायरी के पन्नों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे।

जांच पूरी, जल्द शासन को भेजेंगे रिपोर्ट

जांच कमेटी के अध्यक्ष प्रयागराज के अपर आयुक्त प्रशासन अमृत लाल बिंद ने दैनिक भास्कर को बताया कि आलोक मौर्या और ज्योति मौर्या के विवाद की जांच अब पूरी हो चुकी है। आलोक मौर्या के शिकायत वापस लेने के बाद हमने ज्योति मौर्या को समन जारी नहीं किया है। अब ज्योति मौर्या से कोई पूछताछ नहीं की जाएगी।

जांच कमेटी अपनी रिपोर्ट जल्द ही शासन को भेजेगी। इसके बाद PCS अफसर ज्योति मौर्या के नियुक्ति प्राधिकारी निर्णय लेंगे कि इस केस में आगे क्या होगा। भ्रष्टाचार की जांच जारी रहेगी या यह जांच बंद होगी।

इंस्पेक्टर धूमनगंज राजेश मौर्या से जब पूछा गया कि पीसीएस ज्योति मौर्या द्वारा आलोक मौर्या और उनके परिवार के खिलाफ लिखाई गई एफआईआर क्या ज्योति मौर्या ने वापस ले ली है। इस पर उनका कहना है कि अभी थाने में ऐसी कोई भी एप्लीकेशन नहीं आई है।