UP में डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया के खिलाफ छिड़ी जंग, हर अस्पताल में नियुक्त होंगे नोडल अधिकारी, CM योगी ने संभाली कमान

167

राजधानी में शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय अंतर्विभागीय बैठक की. इस दौरान उन्होंने संचारी रोगों की स्थिति की समीक्षा की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि हर वर्ष अप्रैल, जुलाई, अक्टूबर में संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अंतर्विभागीय समन्वय के साथ विशेष अभियान संचालित होता है. आगामी अक्टूबर महीने से इसका नवीन चरण प्रारंभ होना है. इसमें सरकारी प्रयास के साथ-साथ जनसहभागिता भी महत्वपूर्ण है. हमारे सामने अपना इंसेफेलाइटिस नियंत्रण और कोविड प्रबंधन के दो सफल मॉडल हैं, जो संचारी रोग अभियान में हमारे लिए उपयोगी होंगे. आज हर जिले में डेंगू जांच की सुविधा है. 15 नवम्बर तक का समय संचारी रोगों की दृष्टि से हमारे लिए संवेदनशील है.

यहां पढ़े: “न मैंने डील की और न ही कोई दबाव है”:आलोक मौर्या ने कहा- ज्योति मौर्या के खिलाफ शिकायत वापस लेना मेरा फैसला

सीएम योगी ने कहा कि ‘हाल के दिनों में गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, लखनऊ, कानपुर नगर, मेरठ, मुरादाबाद जनपद डेंगू से प्रभावित रहे हैं. बुलंदशहर व संबल में डेंगू आउटब्रेक की स्थिति भी देखी गई, जबकि बरेली, सीतापुर, शाहजहांपुर, हरदोई, बदायूं, पीलीभीत और संभल में मलेरिया का असर रहा है. इसी तरह, प्रयागराज, कानपुर नगर, बाराबंकी, कुशीनगर, संत कबीरनगर, सहारनपुर व बस्ती में चिकनगुनिया की दृष्टि से संवेदनशील हैं. इन जिलों में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि सभी सरकारी व निजी अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में नए मरीजों की नियमित रिपोर्टिंग जरूर हो. प्रदेश के सभी पीएचसी, सीएचसी, जिला अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों के लिए जिलाधिकारी द्वारा एक-एक नोडल अधिकारी नामित किया जाए. यह नोडल अधिकारी हर दिन सायंकाल अपने प्रभार के अस्पतालों की जांच कर व्यवस्था सुचारू बनाए रखें.’

यहां पढ़े: 250 रुपये किलो बिकने वाला टमाटर बिक रहा 3 रुपये किलो, सड़कों पर फेंकने के लिए क्यों मजबूर हुए किसान?

मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘पीएचसी, सीएचसी व अन्य अस्पतालों में तैनात पैरामेडिक्स नियमित रूप से अपनी सेवाएं जरूर दें. चिकित्सा व स्वास्थ्य व्यवस्था में अराजकता व अव्यवस्था फैलाने की कुत्सित करने वालों से पूरी कठोरता से निपटा जाए. जनपदों में आउटब्रेक्स की स्थिति पर नियंत्रण के लिए ठोस प्रयास किये जाने आवश्यक हैं. नगर विकास, ग्राम विकास एवं पंचायती राज विभाग मच्छरों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए फॉगिंग एवं लार्वीसाइडल स्प्रे कराई जाए. सुबह सैनीटाइज़ेशन व शाम को फॉगिंग का कार्य निरंतरता के साथ कराएं. जल भराव का निस्तारण कराएं.

यहां पढ़े: एनडीआरएफ ने आपदा से बचाव के तरीके बताए: बलरामपुर में टीम ने जागरूकता अभियान चलाया, 16 सितंबर तक संवेदनशील गांवों का होगा दौरा

स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपलब्ध कराई गई हाई रिस्क क्षेत्रों की सूची में उल्लिखित समस्त क्षेत्रों में सतत वैक्टर नियंत्रण एवं संवेदीकरण गतिविधियां से संचालित की जाएं. शिक्षा विभाग द्वारा जनपद के समस्त विद्यालयों में नोडल अध्यापकों के माध्यम से विद्यार्थियों एवं अभिभावकों का संचारी रोगों के विषय में संवेदीकरण कराया जाए. संचारी रोगों से बचाव के उपाय यथा पूरी आस्तीन की कमीज, फुल लेंथ की पेंट इत्यादि का प्रयोग एवं मच्छरों के प्रजनन एवं काटने से बचाव के उपायों के विषय में संवेदीकरण किया जाना चाहिए. किसी क्षेत्र से बुखार प्रभावित छात्रों की सूचना प्राप्त होने पर स्थानीय फ्रंट लाइन वर्कर अथवा चिकित्सा अधिकारी को तत्काल जानकारी उपलब्ध कराई जाए.’

Also Read: मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम लगभग पूरा, मिलेंगी अत्याधुनिक ये सुविधाएं


दुनिया प्रदेश की ताजा तरीन खबरें और रोचक जानकारीयों के लिए जुडिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से..लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज अपने व्हाट्सएप पर पायें…

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )