पति के सामने गैंगरेप…पत्नी के आखिरी शब्द:तुम्हारे मम्मी-पापा मरने वाले हैं, उन लोगों को छोड़ना नहीं; भाई बोला-बहुत अच्छा दोस्त था, दगा कर दिया

408

बस्ती के रुधौली थाना क्षेत्र में रहने वाला विजय (बदला हुआ नाम) अपने पड़ोसी त्रिलोकी को अपना दोस्त समझता था। कभी कहीं बाहर जाते, तो उसके भरोसे अपना घर छोड़ देते। बच्चों का ध्यान रखने के लिए बोलते। घर की जरूरत का सामान लाने के लिए भी कह देते

विजय को लगता था, त्रिलोकी से कभी भी उसके घर या फिर परिवार को कोई खतरा नहीं होगा। लेकिन वह गलत था। विजय के उसी दोस्त ने अपने एक साथी के साथ मिलकर उसकी पत्नी से गैंगरेप किया। वो भी विजय के सामने…।

पति को शराब पिलाने के बाद पत्नी साथ किया रेप
बता दें, बस्ती में 20 सितंबर की रात विजय के पड़ोसियों ने उसकी पत्नी माला (बदला हुआ नाम) से गैंगरेप किया था। दोनों आरोपियों ने पहले विजय को जमकर शराब पिलाई। फिर विजय के नशे में होने के बाद उसकी पत्नी से गैंगरेप किया। इसके बाद दोनों विजय के घर से भाग गए। घटना से दुखी विजय और माला ने 21 सितंबर की सुबह सल्फास की गोली खा ली।

विजय की 21 सितंबर को बस्ती के जिला अस्पताल में मौत हो गई थी। वहीं माला की अगले दिन 22 सितंबर को गोरखपुर के जिला अस्पताल में मौत हुई। मरने से पहले दोनों ने अपने बच्चों से अपना एक वीडियो भी बनवाया था। जिसमें उन्होंने पूरी घटना बताई थी।

त्रिलोकी और विजय का याराना तो बहुत ज्यादा था, फिर क्यों उसको ऐसा धोखा दिया?

अस्पताल जाते समय भी विजय ने कई सारी बातें परिवार को बताई थीं।
घटना की तह तक जाने के लिए दैनिक भास्कर की टीम विजय के गांव पहुंची। बारिश के कारण पूरे गांव में कीचड़ फैला था। किसी तरह से हम लोग विजय के घर के पास पहुंचे। हमें गांव के लगभग सभी लोग उसी के घर के बाहर खड़े मिले। गांव में हर तरफ इसी बात की चर्चा चल रही थी। हर कोई यही बोल रहा था-त्रिलोकी और विजय का याराना तो बहुत ज्यादा था। फिर उसने क्यों उसको ऐसा धोखा दिया।

वहीं विजय के घर में उसके पिता अपने बेटे की मौत से बेखबर हैं। वो उसको बार-बार बुला रहे हैं। विजय-माला के दोनों बेटे बेसुध हैं। अपने मां-बाप को खोने के बाद वो कुछ भी समझ नहीं पा रहे हैं। गांव के लोग त्रिलोकी का नाम लेकर गाली दे रहे थे। उनका कहना है, त्रिलोकी तो अपने ही दोस्त की बीवी को नहीं छोड़ा। बहुत गंदा इंसान है वो…। पूरा परिवार बर्बाद कर दिया उसने।

विजय के गांव में दो घर हैं, वह खेत वाले घर के पास रहता था
गांव वालों की बात सुनकर हम लोग घर के अंदर जाने लगे, तो हमें बाहर ही विजय का भाई मिल गया। हमने विजय के भाई से कहा, हमें घटना वाली जगह पर ले चलो। उसने कहा, भइया-भाभी खेत के पास बने वाले घर पर रहते थे।

खेत की रखवाली के लिए वो लोग वहीं खाते-बनाते थे। यहां तो कभी-कभी ही आते थे। यहां तो हम लोग रहते हैं। विजय के बच्चे भी यहीं पर सो जाया करते हैं। तब हम लोगों को पता चला कि विजय के गांव में दो घर हैं।

लाइट ब्लू शर्ट पहने युवक का नाम त्रिलोकी है। बगल में खड़ा दूसरा युवक नाबालिग है। वो भी घटना में शामिल था। लाइट ब्लू शर्ट पहने युवक का नाम त्रिलोकी है। बगल में खड़ा दूसरा युवक नाबालिग है। वो भी घटना में शामिल था।
खैर…हम लोगों ने विजय के भाई से बात करनी शुरू की। उसने हमें बताया, त्रिलोकी को तो हमारा पूरा परिवार जानता है। वह हमारे घर तक आता था। जो दूसरा आरोपी है, उसके यहां त्रिलोकी काम करता था। वहां वह JCB चलाता था। फिर कुछ दिन बाद उसने अपना काम शुरू कर दिया था, लेकिन तब भी दोनों की दोस्ती थी।

दोनों को अक्सर हम लोगों ने गांव में साथ घूमते देखा, लेकिन वो कभी हमारे घर नहीं आया। हो सकता है विजय की उससे दोस्ती रही हो, हमें इसकी जानकारी नहीं है।

विजय के बच्चे घर गए हैं तब उन लोगों ने सबको जानकारी दी..
जो भी हो, उन दोनों ने हमें किसी लायक नहीं छोड़ा। दो बच्चों के सिर से मां-पिता का साया उठ गया। मां-बाप के जाने के बाद से दोनों रो रहे हैं। बहुत परेशान हैं, पता नहीं अब क्या होगा? उस रात की बात करें, तो विजय की पत्नी उस दिन यहीं से खाना खाकर गई थी।

बच्चों को सुलाने के बाद वह विजय के लिए खाना लेकर चली गई थी। उसके बाद पता नहीं वो लोग कब आए और कब ये सब किया? हम लोगों को कोई जानकारी नहीं है। सुबह जब विजय के बच्चे गए, तब उन लोगों ने सबको जानकारी दी।

आगे की कहानी मृतकों के बेटे की जुबानी
विजय और माला ने यही सल्फास की गोली खाई थी। उसका पैकेट जमीन पर पड़ा हुआ है।
विजय और माला ने यही सल्फास की गोली खाई थी। उसका पैकेट जमीन पर पड़ा हुआ है।
मां मुझसे बोली- मेरा फोन उठाओ और जल्दी वीडियो बनाओ
भाई से बात करने के बाद हमने विजय के बड़े बेटे से बात की। उसने अपने मां-बाप का मरने से पहले वीडियो बनाया था। वह हम लोगों को बहुत कुछ तो नहीं बता पाया, लेकिन फिर भी उसने कुछ बातें हमें बताई। उस बच्चे ने बताया, ”मैं और मेरा भाई सुबह स्कूल जाने के लिए तैयार हो रहे थे।

तैयार होने के बाद हम मम्मी-पापा पास गए थे। वहां गए तो पापा-मम्मी साथ बैठे थे। मम्मी रो रही थी। हमने कारण पूछा, तो हमें वहां से जाने के लिए बोला।

उसके बाद हम दोनों बाहर बैठकर बैग सही करने लगे। कुछ देर बाद हमें पापा ने आवाज दी। हम कमरे में गए तो पापा-मम्मी चारपाई पर लेटे हुए थे। पापा-मम्मी दोनों रो रहे थे। पापा, मम्मी के ऊपर हाथ रखे थे। हम लोग मम्मी के पास जाने लगे, तो उन्होंने रोक दिया। हमसे कहा, अब तुम्हारे मम्मी-पापा मरने वाले हैं। तुमसे जैसा कह रहे हैं वैसा करो। मेरा फोन उठाओ और वीडियो बनाओ।”

हमको डर था, कहीं कोई फोन छीनकर वीडियो डिलीट न कर दे
”मम्मी की बात सुनकर मैं रोने लगा। तभी मम्मी ने कहा, भइया समय ज्यादा नहीं है, जल्दी वीडियो बना लो। मैं फोन उठाकर वीडियो बनाता रहा और रोता रहा। मम्मी ने वीडियो में अपने साथ होने वाली पूरी घटना बताई। जो सुनकर मुझे बहुत बुरा लग रहा था। उन्होंने बताया उनके साथ पूरी रात रेप किया गया है। जिसमें त्रिलोकी और गांव का एक युवक शामिल है।”

हमने बेटे से पूछा कि उसने तुरंत इस बात की जानकारी परिवार को क्यों नहीं दी? उसने कहा, ”मम्मी ने कहा था मेरी मौत के बाद ये वीडियो पुलिस को दिखाना। किसी और को कुछ न बताना, न किसी से कुछ कहना और न किसी की सुनना। उन लोगों को छोड़ना नहीं, सबको सजा दिलवाना।”

बच्चे का कहना है, इसी वजह से उसने ये बात किसी को नहीं बताई थी। उसको डर था कहीं कोई फोन उससे छीन कर वीडियो डिलीट न कर दे। मम्मी ने चाचा को भी पूरी बात बता दी थी। उन्होंने ही मम्मी की मौत के बाद मेरे से फोन लेकर वीडियो देखा था। उसके बाद उन्होंने पुलिस के पास जाकर शिकायत की थी। पुलिस ने हमसे भी कुछ सवाल किए थे, हमने पुलिस को सब बता दिया है। कमरे में पड़ा सल्फास का पैकेट भी दिखा दिया।

इसी घर में माला के साथ हैवानियत की गई है। घर का सारा सामान बिखरा हुआ है।
इसी घर में माला के साथ हैवानियत की गई है। घर का सारा सामान बिखरा हुआ है।
घर का सामान बिखरा था, उसकी टूटी हुई चूड़ियां पड़ी हुई थी…
हमने परिवार के लोगों से बात करने के बाद गांव की महिलाओं से भी बातचीत की, जो माला को जानती थीं। उन्होंने बताया, त्रिलोकी को देखकर कभी लगा नहीं कि वह इतना गिरा हुआ इंसान है। जानकारी मिलने पर हम लोग माला के घर गए थे।

वहां हमने देखा था, उसका पूरा घर बिखरा हुआ था। किचन का सामान भी फैला था। घर के बाहर की घास भी उखड़ी हुई थी। वहीं पर उसकी टूटी हुई चूड़ियां भी पड़ी हुई थी। ये सब देखकर ही पता चल रहा था कि उस रात माला के साथ उन लोगों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दीं।

यह खबर भी पढ़ें- बस्ती: भू माफिया के आतंक से दहला रूधौली क्षेत्र..भू माफिया ने महिला से किया रेप के बाद दंपति को खिलाया जहर
पति के सामने पत्नी से गैंगरेप…दोनों ने किया सुसाइड: दोस्तों ने युवक को शराब पिलाकर की दरिंदगी, मौत से पहले महिला ने वीडियो में बताई बर्बरता

इस मामले में महिला के देवर ने गैंगरेप का केस दर्ज करवाया है। पुलिस ने घटना के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। एक आरोपी का नाम त्रिलोकी (40) है। वहीं दूसरा आरोपी नाबालिग है। उसको बाल सुधार गृह भेजा जा रहा है। घटना में जमीनी विवाद होना भी बताया जा रहा है। पुलिस आरोपियों से जमीनी विवाद और गैंगरेप को लेकर पूछताछ कर रही है।